भारत ने किया सतह से हवा में मार करने वाली दो मिसाइलों का सफल परीक्षण

0

अपनी हवाई रक्षा क्षमता मजबूत करने की दिशा में एक और उपलब्धि हासिल करते हुए भारत ने मंगलवार को सतह से हवा में मार करने वाली दो ऐसी मिसाइलों का परीक्षण किया जो लंबी दूरी तक मार करने में सक्षम (एलआरएसएएम) हैं। इजराइल के साथ संयुक्त रूप से विकसित इन मिसाइलों का परीक्षण ओड़ीशा तट के पास स्थित एक अड्डे से किया गया।

रक्षा अधिकारियों ने बताया कि भारत और इजराइल के बीच संयुक्त उपक्रम से विकसित हुई एक मिसाइल पहले चांदीपुर स्थित एकीकृत परीक्षण रेंज (आइटीआर) में मोबाइल लांचर से सुबह 10:13 बजे प्रक्षेपित की गई जबकि दूसरी एलआरएसएएम का परीक्षण दोपहर 14:25 बजे किया गया।

भाषा की खबर के अनुसार, परियोजना से जुड़े एक वैज्ञानिक ने कहा कि दोनों परीक्षण सफल रहे। मिसाइलों ने अपने लक्ष्य को सीधे भेद दिया। उन्होंने कहा कि दोनों परीक्षणों में अत्याधुनिक मिसाइलों ने हवाई लक्ष्य को नष्ट कर दिया। मिसाइल के अलावा इस प्रणाली में एक मल्टी फंक्शनल सर्विलांस एंड थे्रट अलर्ट रेडार (एमएफ-स्टार) शामिल है जिसे मिसाइल की पहचान, पता लगाने और मार्गदर्शन के लिए जोड़ा गया है।

अधिकारियों ने कहा कि एमएफ-स्टार के साथ मिलकर ये मिसाइल उपयोगकर्ताआें को किसी हवाई खतरे को नष्ट करने की क्षमता मुहैया कराएगी।
इससे पहले 30 जून और 1 जुलाई, 2016 के बीच मध्यम दूरी तक मार करने में सक्षम सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल के तीन लगातार परीक्षण किए गए थे।

यह मिसाइल भी भारत और इजराइल की ओर से संयुक्त रूप से विकसित की गई थीं। इसका परीक्षण चांदीपुर स्थित डीआरडीओ के एक अड्डे से किया गया था। मिसाइल ने अपने लक्ष्य को सफलतापूर्वक भेदा था।

LEAVE A REPLY