VIDEO: पाकिस्तान में भीड़ ने ननकाना साहिब गुरुद्वारे में की तोड़फोड़, भारत ने की कड़ी कार्रवाई की मांग

0
3

भारत ने पाकिस्तान स्थित सिखों के धार्मिक स्थल ननकाना साहिब पर भीड़ द्वारा कथित पथराव एवं नारेबाजी की घटना कड़ी निंदा करते हुए पड़ोसी देश से वहां अल्पसंख्यक सिख समुदाय के लोगों की सुरक्षा, संरक्षा और बेहतरी सुनिश्चित करने के लिए तत्काल कदम उठाने की अपील की। वहीं, कांग्रेस ने इस मामले को लेकर पाक की सरकार को जिम्मेदार ठहराते हुए शनिवार को कहा कि इमरान खान की सरकार को इस पवित्र स्थल की सुरक्षा सुनिश्चित करनी चाहिए।

पाकिस्तान

विदेश मंत्रालय की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि गुरुनानक देव की जन्मस्थली ननकाना साहिब स्थित गुरुद्वारे पर तोड़फोड़ किए जाने की घटना को लेकर भारत सरकार चिंतित है। असामाजिक तत्वों ने वहां के अल्पसंख्यक सिख समुदाय के लोगों के खिलाफ तोड़फोड़ और हिंसक वारदातों को अंजाम दिया है और पाकिस्तान सरकार को इस समुदाय की सुरक्षा और बेहतरी सुनिश्चित करनी चाहिए। मंत्रालय ने कहा, ‘उन बदमाशों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए जो इस पवित्र गुरद्वारे में बेअदबी में शामिल हैं और जिन्होंने अल्पसंख्यक सिखों पर हमला किया है।’

कांग्रेस पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने शनिवार को ट्वीट किया, ”ननकाना साहिब गुरुद्वारे पर हुआ हमला मानवता के आदर्शों व धार्मिक मूल्यों को शर्मसार करने वाली घटना है। इस हमले के लिए सीधे तौर पर पाकिस्तान की सरकार ज़िम्मेवार है। इस घटना की हम कड़े शब्दों में निंदा करते हैं। पाकिस्तान की सरकार ननकाना साहिब की सुरक्षा सुनिश्चित करे।”

वहीं, पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और विपक्षी शिरोमणि अकाली दल (शिअद) ने भी ननकाना गुरद्वारा साहिब में भीड़ के हमले की खबरों पर चिंता प्रकट की। सिंह ने ट्वीट कर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान से यह सुनिश्चित करने की अपील की कि गुरुद्वारे में फंसे श्रद्धालुओं को भीड़ से बचाया जाए। शिअद प्रमुख सुखबीर सिंह बादल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से इस मुद्दे को अपने पाकिस्तानी समकक्ष के सम्मुख उठाने की अपील की।

गुरुद्वारे पर इस हमले को लेकर जावेद अख्तर ने अपने ट्विटर हैंडल से एक ट्वीट किया है। जावेद अख्तर ने ट्वीट में कहा, “ननकाना साहिब में मुस्लिम कट्टरपंथियों ने जो कुछ भी किया है वह पूरी तरह से निंदनीय और पूरी तरह से निंदनीय है। किस तरह ये तीसरे दर्जे के और कमजोर क्वालिटी के लोग दूसरे अल्पसंख्यक समुदाय के साथ इस तरह का व्यवहार कर सकते हैं।”

गौरतलब है कि, पाकिस्तान में सिख किशोरी से शादी करने वाले एक मुस्लिम व्यक्ति के परिवार की अगुवाई में कुछ लोगों ने अपने रिश्तेदारों की गिरफ्तारी के विरोध में शुक्रवार को यहां गुरद्वारा जन्मस्थान ननकाना साहिब के बाहर प्रदर्शन किया। खबरों के अनुसार, भीड़ ने गुरद्वारे पर धावा बोल दिया और सिख श्रद्धालुओं पर पथराव किया। भारतीय विदेश मंत्रालय ने घटना की निंदा की है। हालांकि, पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने इन खबरों को झूठा बताया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here