RTI से खुलासा: आतंकवाद के खिलाफ बड़े-बड़े दावे करने वाली मोदी सरकार के दौरान कश्मीर में बढ़ीं आतंकी घटनाएं

0

जहां एक तरफ केन्द्र सरकार आतंकवाद के खिलाफ लड़ने को लेकर बड़ी-बड़ी बातें करती है, वहीं दूसरी ओर सरकार के दावों पर सूचना के अधिकार (RTI) का चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। जिसे जानकर आप भी चौंक जाएंगे।

आतंकवाद
फाइल फोटो- प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी

आरटीआई के जरिए मांगी गई सूचना के आधार पर ये बात सामने आई है कि मोदी सरकार के तीन वर्षो के कार्यकाल में जम्मू एवं कश्मीर में आतंकी घटनाओं में इजाफा हुआ है। उत्तर प्रदेश के नोएडा निवासी आरटीआई कार्यकर्ता रंजन तोमर की तरफ से आरटीआई के जरिए पूंछे गए सवाल के जवाब में ये जानकारी हासिल हुई है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, सूचना के अधिकार (RTI) द्वारा गृह मंत्रालय से मांगी गई सूचना के मुताबिक बीते तीन वर्षों में जम्मू एवं कश्मीर में कुल 812 आंतंकी घटनाए हुई हैं, जिनमें 62 नागरिक और 183 भारतीय जवान शहीद हुए हैं। वहीं बीती मनमोहन सरकार के आखिर के तीन वर्षों के कार्यकाल में कुल 705 आतंकी घटनाओं में 59 नागरिक एवं 105 जवान शहीद हुए थे।

ख़बरों के मुताबिक, साथ ही आरटीआई से ये भी खुलासा हुआ कि मनमोहन सिंह सरकार के अंतिम तीन सालों में 850 करोड़ रूपए जारी किए गए, जबकि मोदी सरकार के समय नें गृह मंत्रालय ने कुल 1890 करोड़ रूपए इस बाबत जारी किए। इस ख़बर से साफ होता है कि, ज्यादा पैसा खर्च करने के बावजूद भी मोदी सरकार न केवल आंतकवाद को रोक सकी बल्कि आंतकवादी घटनाओं में और भी ज्यादा तेजी आ गई।

बता दें कि, कुछ दिनों पहले ही वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा था कि नोटबंदी और जीएसटी से जम्मू-कश्मीर में आतंकी गतिविधियों और छत्तीसगढ़ में नक्सली वारदात में काफी कमी आई है। लेकिन सूचना के अधिकार (RTI) से मिली जानकारी के अनुसार, सरकार के इन सभी दावों की पोल खोल कर रख दी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here