मोदी सरकार ने अपने आखिरी बजट में नौकरीपेशा लोगों को दिया बड़ा तोहफा, अब 5 लाख रुपये तक की आय पर कोई टैक्स नहीं

0

लोकसभा चुनाव 2019 से पहले कार्यवाहक वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने शुक्रवार (1 फरवरी) को 2019-20 का बजट पेश करते हुए आयकर में छूट पर बड़ा ऐलान किया। मोदी सरकार ने आगामी आम चुनाव के मद्देनजर किसानों, असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों, नौकरीपेशा लोगों के लिए अपना खजाना खोलते हुए अगले वित्त वर्ष के अंतरिम बजट में घोषणाओं की झड़ी लगा दी।

(Ajay Aggarwal/HT Photo)

चुनाव से ठीक पहले अपने अंतरिम बजट में मोदी सरकार ने करदाताओं को बड़ा तोहफा दिया है। अब पांच लाख तक की आय पर कोई टैक्स नहीं लगेगा। पांच लाख रुपये तक की व्यक्तिगत आय पूरी तरह से कर मुक्त होगी और विभिन्न निवेश उपायों के साथ 6.30 लाख रुपये तक की व्यक्तिगत आय पर कोई कर नहीं देना होगा। बता दें कि अभी तक यह सीमा ढाई लाख रुपए थी।

वित्त मंत्री ने कहा कि अब पांच लाख रुपए तक की आय पर किसकी तरह का कोई टैक्स नहीं लगेगा। इसके साथ ही निवेश करने पर 6.5 लाख रुपए तक कोई टैक्स नहीं देना होगा। तीन करोड़ मध्य वर्ग के लोगों को इससे फायदा मिलेगा।अभी तक यह सीमा ढाई लाख रुपए थी। इसके अलावा 40 हजार तक के बैंक ब्याज पर टैक्स नहीं देना होगा। पहले यह सीमा 10 हजार रुपए तक की थी।

वित्त मंत्री ने कहा कि व्यक्तिगत कर छूट का दायरा बढ़ने से तीन करोड़ करदाताओं को 18,500 करोड़ रुपये तक का कर लाभ मिलेगा। वित्त मंत्री ने कहा कि हम करदाताओं का शुक्रिया अदा करते हैं, आपके टैक्स से देश का विकास होता है। यही नहीं अब स्टैंडर्ड डिडेक्शन को 40 से बढ़ाकर पचास लाख रुपये किया है।

किसानों को भी बड़ा तोहफा

मोदी सरकार ने इस अंतिरम बजट में छोटे और सीमांत किसानों की मदद के लिए प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि बनाने की घोषणा की जिसके तहत छोटे किसानों (दो हेक्टेयर तक की जोत वाले) को सालाना 6 हजार रुपये की मदद दी जाएगी। पीयूष गोयल ने बताया कि यह योजना गत एक दिसंबर से लागू मानी जाएगी। इसके तहत मदद की राशि सीधे किसानों के खाते में डीबीटी के जरिए जमा की जाएगी। इसका पूरा खर्च केंद्र सरकार उठाएगी।

यह राशि दो-दो हजार की तीन बराबर किस्तों में दी जाएगी। पहली किस्त जल्द किसानों के खाते में भेज दी जाएगी। इससे करीब 12 करोड़ किसान परिवारों को लाभ मिलेगा। इससे सरकारी खजाने पर सालाना करीब 75 हजार करोड़ रुपये का बोझ आएगा। गोयल ने कहा कि प्राकृतिक आपदा प्रभावित किसानों को कृषि कर्ज पर ब्याज में दो प्रतिशत की छूट दी जाएगी।

जेटली के स्वस्थ होने की कामना के साथ गोयल ने की बजट भाषण की शुरुआत

वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने शुक्रवार को अपने बजट भाषण की शुरुआत केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली के शीघ्र स्वस्थ और दीर्घायु होने की कामना के साथ की। जेटली का अमेरिका में आपरेशन हुआ है और वह उन्हें दो सप्ताह के आराम की सलाह दी गई है। उनकी अनुपस्थिति में गोयल को वित्त मंत्रालय की जिम्मेदारी दी गयी है।

गोयल ने लोकसभा में 2019-20 के ‘अंतरिम बजट’ प्रस्तुत करते हुए भाषण की दूसरी पंक्ति में ही कहा कि वह सदन की तरफ से ‘‘जेटली के शीघ्र स्वस्थ होने और दीर्घायु होने की कामना करते हैं।’’ वह मौजूदा बीजेपी की अगुवाई वाली राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार का आखिरी बजट पेश कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार के कार्यकाल में भारतीय अर्थव्यवस्था मजबूत हुई है और महंगाई पूरी तरह काबू में है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here