एबीपी न्यूज के साथ इंटरव्यू में पीएम मोदी ने उनके ‘प्रदर्शन’ पर सवाल न करने के लिए पत्रकारों को दिया ‘धन्यवाद’, खुद को बताया ‘सौभाग्यशाली’

0

लोकसभा चुनाव के लिए पहले चरण की वोटिंग से ठीक पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार (5 अप्रैल) को एबीपी न्यूज़ को दिए एक इंटरव्यू में चुनावी रणनीतियों से लेकर विपक्षी दलों के रुख को लेकर बातचीत की। इस इंटरव्यू के दौरान पीएम मोदी ने पत्रकारों को इस बात के लिए धन्यवाद दिया कि उन्होंने पिछले पांच वर्षों के दौरान देश के प्रधानमंत्री के रूप में उनके कार्यकाल को लेकर कोई सवाल नहीं किया गया।

एबीपी न्यूज़ से बात करते हुए मोदी ने कहा कि उन्होंने इस पर विचार किया (प्रदर्शन पर पत्रकारों ने सवाल नहीं पूछे) इसके लिए मैं खुद को खुशकिस्मत मानता हूं। पीएम मोदी ने तंज कसते हुए कहा कि मैं अपने आप को सौभाग्यशाली मानता हूं। एबीपी न्यूज के पत्रकारों ने कांग्रेस द्वारा शासन के 60 वर्षों की तुलना में पीएम मोदी से उनके 60 महीने के कामकाज को लेकर पूछा।

इस पर पीएम मोदी ने कहा, ‘जहां तक 60 साल और 60 महीने का सवाल है, तो मैं कहना चाहता हूं कि देश ने देखा है कि एक प्रधानमंत्री ने लगातार काम किया है और किसी ने कोई सवाल नहीं किया है। यहां तक कि आप (पत्रकार) लोग भी मुझसे कोई सवाल नहीं करते हैं और मैं इसे अपना सौभाग्य मानता हूं।

बता दें कि पीएम मोदी संभवत: पहले ऐसे प्रधानमंत्री हैं जिन्होंने अपने पूरे कार्यकाल के दौरान एक भी प्रेस कॉन्फ्रेंस नहीं की। पिछले साल, तीन पत्रकारों को कथित रूप से एबीपी न्यूज़ से नौकरी गंवानी पड़ी क्योंकि उन्हें मोदी सरकार की बहुत आलोचनात्मक माना गया था। पिछले साल एबीपी न्यूज़ में उथल-पुथल पर रिफत जावेद द्वारा वीडियो ब्लॉग देख सकते हैं।

गत वर्ष एबीपी न्यूज में कथित तौर पर मोदी सरकार के आलोचक के रूप में चैनल में कार्यरत प्रमुख नामों को या तो इस्तीफा देने पर मजबूर कर दिया गया या उन्हें रिपोर्ट ना करने के लिए निर्देश दे दिया गया। ABP न्यूज़ में गत वर्ष 1-2 अगस्त को जो कुछ हुआ, वह काफी भयानक था। 24 घंटे के अंदर चैनल के मैनेजिंग एडिटर मिलिंद खांडेकर और वरिष्ठ पत्रकार व एंकर पुण्य प्रसून बाजपेयी ने ABP न्यूज से इस्तीफा दे दिया। प्रसून के अलावा अभिसार शर्मा को भी लंबी छुट्टी पर भेज दिया गया और बाद में उन्होंने भी चैनल से इस्तीफा दे दिया।

एबीपी न्यूज पर बाजपेयी का ‘मास्टर स्ट्रोक’ शो हर रोज सोमवार से शुक्रवार रात 9 बजे आता था। उस दौरान आरोप लगाया कि मिलिंद खांडेकर और पुण्य प्रसून बाजपेयी की विदाई ‘मास्टरस्ट्रोक’ के कारण ही हुई। बाजपेयी अपने शो ‘मास्टर स्ट्रोक’ से मोदी सरकार की ना​कामियों और जनता से किए कथित झूठे वादों का सच उजागर कर रहे थे। जिसके चलते उन्हे अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here