वीडियो: BJP नेता पंकजा मुंडे ने कहा- “अगर बीजेपी दोबारा सत्ता में आई तो हम संविधान बदल देंगे”, ट्विटर पर भड़के लोग

1

महाराष्ट्र की भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की सरकार में महिला एवं बाल विकास मंत्री पंकजा मुंडे का एक कथित वीडियो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है। यूजर्स का दावा है कि बीजेपी नेता पंकजा मुंडे ने एक रैली को संबोधित करते हुए कथित तौर पर कहा कि अगर बीजेपी 2019 के लोकसभा चुनाव में दोबारा सत्ता में आई तो हम भारत के संविधान को बदल देंगे।

File Photo: @Pankajamunde

सोशल मीडिया पर मुंडे का यह कथित वीडियो जमकर शेयर किया जा रहा है। बीजेपी नेता के इस वीडियो को शेयर करते हुए एक मीडिया संस्थान न्यूज्ड नाम के वेरीफाई ट्विटर अकाउंट से ट्वीट कर लिखा है, “अगर बीजेपी दोबारा सत्ता में आई तो हम संविधान बदलेंगे: पंकजा मुंडे”

द हिंदू अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक शनिवार को बीड जिले में बीजेपी उम्मीदवार और बहन प्रीतम मुंडे के समर्थन में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए पंकजा मुंडे ने कहा कि लोकसभा में हमें जिस तरह का काम करना है उसकी कल्पना करो। महामानव डॉ. बाबासाहेब अम्बेडकर ने संविधान लिखा था। हमें संविधान को बदलना होगा। नए बिल पेश करने की जरूरत है। नए नियमों को शामिल किए जाने की जरूरत है।

इस वीडियो को शेयर करते हुए दिल्ली में सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी (आप) के राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने ट्वीट कर लिखा, “”भाजपाईयों को बाबा साहेब का संविधान हज़म नही होता, मोदी “ये अखिलेश माया का अंतिम चुनाव है” अमित शाह “19 के बाद 2050 तक चुनाव नही होगा” साक्षी महाराज “2019 के बाद चुनाव होगा ही नही” पंकजा मुंडे “2019 जीते तो संविधान बदल देंगे” भाजपा की मंशा पर अब भी कोई शक? #Save_Constitution””

देखिए, लोगों की प्रतिक्रियाएं:

दरअसल बीजेपी की मौजूदा सांसद प्रीतम मुंडे और राकांपा के बजरंग सोनावने भले ही बीड लोकसभा सीट पर आमने-सामने हों लेकिन जमीन पर यह मुकाबला जिले की गार्जियन मंत्री पंकजा मुंडे और उनके चचेरे भाई और वरिष्ठ राकांपा नेता धनंजय मुंडे के बीच है। धनंजय महाराष्ट्र विधान परिषद में विपक्ष के नेता हैं और पंकजा ग्रामीण विकास, महिला एवं बाल कल्याण मंत्री हैं। मंत्री पर भ्रष्टाचार के आरोप भी हैं।

प्रीतम और पंकजा राज्य के पूर्व उप मुख्यमंत्री और केंद्रीय मंत्री गोपीनाथ मुंडे की बेटी हैं। 2014 में इस सीट से गोपीनाथ मुंडे ने 1.36 लाख वोट से चुनाव जीता था। उनके खिलाफ मैदान में राकांपा के नेता सुरेश दास थे। लेकिन नरेंद्र मोदी सरकार के मंत्रिमंडल में शामिल होने के बाद तीन जून, 2014 को मुंडे का निधन एक कार दुर्घटना में हो गया।

इसके बाद हुए उपचुनाव में प्रीतम मुंडे 6.96 लाख मत से चुनाव जीतकर लोकसभा सदस्य बनीं। लोकसभा चुनाव के इतिहास में यह सबसे बड़े अंतर की जीत थी। उन्होंने कांग्रेस के उम्मीदवार अशोकराव पाटिल को हराया था। कड़े मुकाबले के बावजूद राकांपा को विश्वास है कि 23 मई को आने वाले परिणाम में उनके उम्मीदवार विपक्षी पार्टी के लिए परेशानी का सबब बन सकते हैं।

1 COMMENT

  1. असली एजेंडा बता रही है। भड़को मत सावधान हो कर वोट डालो।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here