छेड़छाड़ की शिकायत पर छलका दिल्ली की महिला IAS अधिकारी का दर्द, बोलीं- मेरे साथ ऑफिस में ही हर रोज होता है दुर्व्यवहार

0

देश की राजधानी दिल्ली की एक महिला आईएएस (IAS) अधिकारी ने एक ऐसा खुलासा किया है, जिसे जानकर हर कोई हैरान हो रहा है। उत्तरी दिल्ली नगर निगम (एनडीएमसी) कमिश्नर वर्षा जोशी ने हाल ही में ट्विटर पर एक महिला की शिकायत पर जवाब देते हुए कहा है कि वो खुद दफ्तर में दुर्व्यवहार का सामना करती हैं।

वर्षा जोशी
फाइल फोटो

दरअसल, आईएएस अफसर वर्षा जोशी को स्वाती नाम की महिला यूजर ने ट्विटर पर टैग करते हुए लिखा, ”गुड मॉर्निंग मैम, यहां ये आना-जाना काफी मुश्किल हो रहा है। यहां चौराहे पर कुछ स्थानीय लोग हुक्का और कार्ड खलते हुए कमेंट पास करते हैं। मैंने इसके बारे में पहले भी शिकायत की थी लेकिन कोई एक्शन नहीं लिया गया। आपसे निवेदन है कि कृप्या कर इसपर तुरंत कार्रवाई करें।”

महिला के इसी ट्वीट का रिप्लाई करते हुए वर्षा जोशी ने लिखा, “वास्तव में पुलिस को इस मामले में देखना चाहिए। नॉर्थ इंडिया में महिलाओं के लिए यह बहुत बड़ी चुनौती है जिसका सामना हो 24/7 करती हैं। मैं इसका सामना अपने ऑफिस चैंबर में करती हूं। पुरूष दुर्वव्यवहार और मेरी निजता का उल्लंघन करते हैं और यह कभी नहीं समझते की वो क्या कर रहे हैं। इसका उपाय क्या हैं…?”

गौरतलब है कि, 1995 बैच की आइएएस वर्षा जोशी दिसंबर 2018 से उत्तरी दिल्ली निगम की आयुक्त हैं। वह उत्तरी दिल्ली निगम में पहली महिला आयुक्त भी हैं। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, पिछले दिनों जब वह खाना खा रही थीं, एक पार्षद उनके दफ्तर में घुस गए थे।

वर्षा जोशी का यह ट्वीट अब सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है, उनके इस ट्वीट पर यूजर्स भी जमकर अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं। लोग दिल्ली में महिला सुरक्षा की स्थिति पर सवाल उठाने लगे। एक यूजर ने लिखा, “पीएम मोदी जी, आप बेटी बचाओ और बेटी पढ़ाओं का नारा देते हैं, बेटी जब बच जाएं तो आप पढ़ा लेना उनके। पहले बचा तो लो।”

एक यूजर ने लिखा, मुझे यह समझ में नहीं आता है कि अगर ऐसा मामले को सुलझाया क्यों नहीं जाता। सिर्फ उत्तर भारत ही नहीं बल्कि देश के हर कोने में महिलाएं ऐसी समस्याओं का सामना कर रही हैं। इसी तरह तमाम यूजर्स उनके इस ट्वीट पर अपनी प्रतिक्रिया दे रहें है।

देखिए कुछ ऐसे ही ट्वीट

"
"

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here