शर्मनाक: ओड़िशा में पत्नी का शव कंधे पर लादे 10 किलोमीटर तक पैदल चलने को मजबूर हुआ ये शख्स

0

उड़ीसा में पिछड़े जिले कालाहांडी में एक आदिवासी व्यक्ति को अपनी पत्नी के शव को अपने कंधे पर लेकर करीब 10 किलोमीटर तक चलना पड़ा। उसे अस्पताल से शव को घर तक ले जाने के लिए कोई वाहन नहीं मिल सका था। व्यक्ति के साथ उसकी 12 वर्षीय बेटी भी थी।

Odisha
Photo: Indian Express

आज सुबह स्थानीय लोगों ने दाना माझी को अपनी पत्नी अमंग देई के शव को कंधे पर लादकर ले जाते हुये देखा। 42 वर्षीय महिला की कल रात को भवानीपटना में जिला मुख्यालय अस्पताल में क्षय रोग से मौत हो गई थी।

Also Read:  Jay Panda 'punished' by party leadership, removed as BJD's spokesperson

इस प्रकार की स्थिति के लिए नवीन पटनायक की सरकार ने फरवरी में ‘महापरायण’ योजना की शुरआत की थी जिसके तहत शव को सरकारी अस्तपताल से मृतक के घर तक पहुंचाने के लिए मुफ्त परिवहन की सुविधा दी जाती है।

Also Read:  ऋण न चुकाने वाले सभी चोर नहीं, विजय माल्या पर गडकरी का बयान

हालांकि माझी ने बताया कि बहुत कोशिश के बावजूद भी उसे अस्पताल के अधिकारियों से किसी तरह की मदद नहीं मिली।

इसलिए उसने अपनी पत्नी के शव को एक कपड़े में लपेटा और उसे कंधे पर लादकर भवानीपटना से करीब 60 किलोमीटर दूर रामपुर ब्लॉक के मेलघारा गांव के लिए पैदल चलना शुरू कर दिया।

Also Read:  Driven by poverty, tribal families convert to Christianity in Jharkhand

इसके बाद कुछ स्थानीय संवाददाताओं ने उन्हें देखा। संवाददाताओं ने जिला कलेक्टर को फोन किया और फिर शेष 50 किलोमीटर की यात्रा के लिए एक एम्बुलेंस की व्यवस्था की गई।

Video: OTV

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here