पद्मावत विवाद: हिंदुत्व ट्रोल्स ने भंसाली और अनुराग कश्यप के फोन नंबर किए सार्वजनिक, समर्थकों से की कॉल करने की अपील

0

सुप्रीम कोर्ट से संजय लीला भंसाली की विवादास्पद फिल्म ‘पद्मावत’ को रिलीज करने की हरी झंडी मिलने के बावजूद बुधवार (24 जनवरी) को राजधानी दिल्ली, गुरुग्राम, फरीदाबाद, नोएडा और ग्रेटर नोएडा समेत कई जगहों पर विरोध प्रदर्शन ने हिंसक रुप ले लिया। करणी सेना के कार्यकर्ताओं द्वारा अहमदाबाद, जयपुर, मथुरा, भोपाल, ग्वालियर, इंदौर, उज्जैन, रतलाम और मुरैना में प्रदर्शन किया गया।भोपाल में तो प्रदर्शनकारियों ने कई वाहनों में आग लगा दी। करणी सेना के भारी विरोध और प्रदर्शन के बीच गुरुवार (25 जनवरी) को ‘पद्मावत’ सिनेमाघरों में रिलीज हो रही है। हालांकि, हिंसक प्रदर्शनों के बीच मल्टीप्लेक्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया ने कहा है कि उसके सदस्य ऐतिहासिक पृष्ठभूमि पर बनी इस फिल्म का प्रदर्शन राजस्थान, गुजरात, मध्य प्रदेश और गोवा में नहीं करेंगे। फिल्म का विरोध कर रही करणी सेना ने गुरुवार को देशव्यापी बंद का ऐलान किया है।

भंसाली और अनुराग कश्यप के फोन नंबर किए सार्वजनिक

इस बीच सोशल मीडिया पर लोगों को ट्रोल करने वाले हिंदू वादी संगठनों के हिंदुत्व ट्रोल्स द्वारा फिल्म ‘पद्मावत’ के निर्देशक संजय लीला भंसाली और बॉलीवुड के मशहूर डायरेक्टर अनुराग कश्यप का फोन नबंर ट्विटर पर सार्वजनिक कर दिया गया है। साथ ही लोगों से इन दोनों डायरेक्टरों को फोन करने की अपील की गई है।

हिंदुत्व ट्रोल्स द्वारा ट्वीट में लिखा गया है कि, ‘संजय लीला भंसाली के नंबर…….. पर कोई गाली गलौच न करे। समझ तो गए होंगे सभी अब शेयर करके फैला दो।’ वहीं एक अन्य ट्रोल्स ने लिखा है, ‘अनुराग कश्यप के नंबर ……..और संजय भंसाली के…….कोई भी उनसे गाली गलौच न करें। ये सब ठीक नहीं है। हमारा देश बहुत महान है। बाकी आप समझदार हैं….’

बच्चों से भरी बस पर पथराव

देश की राजधानी दिल्ली से सटे गुरुग्राम में बुधवार (24 जनवरी) को करणी सेना के कथित कार्यकर्ताओं ने एक स्कूल बस पर हमला कर दिया। गुरुग्राम के भोंडसी क्षेत्र में दोपहर बाद उपद्रवियों ने स्कूल बस में तोड़फोड़ की। इस दौरान सहमे बच्चों ने सीट के पीछे छिपकर खुद को बचाया। गुरुग्राम के जीडी गोयनका स्कूल की इस बस पर उपद्रवियों ने तब पथराव किया, जब उसमें बच्चे भी मौजूद थे।



बस के अंदर बैठे बच्चों को देखकर भी उपद्रवियों का दिल नहीं पसीजा और उन्होंने बस में आग लगाने की भी कोशिश की। हालांकि बाद में पुलिस और भीड़ से निकले कुछ युवाओं के विरोध के बाद उपद्रवी वहां से फरार हो गए। इस दौरान बस में कुछ बच्चों को मामूली चोटें भी आई हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, फिल्म का विरोध कर रहे करणी सेना के कथित कार्यकर्ताओं के पास ‘पेट्रोल बम’ भी थे। इस हमले में स्कूल की बस के शीशे तोड़ टूट गए। प्रदर्शन कर रही भीड़ ने जब स्कूल बस को रोका और उस पर हमला किया तो बस में सवार टीचर ने सभी बच्चों को फर्श पर लेट जाने को कहा। इस हमले से बच्चे डर गए और वहां चीख पुकार मच गई।

राहुल गांधी का मोदी सरकार पर हमला

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने स्कूली बच्चों की बस पर किए गए हमले का कड़ा विरोध करते हुए कहा कि बच्चों के खिलाफ हिंसा को जायज ठहराने के लिये कोई भी कारण बड़ा नहीं हो सकता। राहुल ने ट्वीट कर कहा कि, ‘बच्चों के खिलाफ हिंसा को जायज ठहराने के लिये कोई भी कारण बड़ा नहीं हो सकता। घृणा और हिंसा कमजोरों का हथियार होता है। भाजपा घृणा और हिंसा का उपयोग कर देश में आग लगा रही है।’

स्कूल बस पर हमले की प्रकाश राज और फरहान अख्तर ने की निंदा

राहुल गांधी के अलावा अभिनेता प्रकाश राज और फरहान अख्तर ने भी स्कूल बस में हुए हमले की घोर निंदा की है। प्रकाश राज ने ट्वीट कर लिखा, मेरे देश के बच्चे डर के माहौल में जी रहे हैं। क्योंकि करणी सेना ने स्कूल बस पर हमला किया है। जनता द्वारा चुनी गई सरकार का ध्यान कहीं और है, वहीं विरोधी पार्टी डिप्लोमेटिकली रिएक्ट कर रही है। क्या हम सभी के बच्चों की सुरक्षा के लिए शर्मिंदा नहीं हैं? सब कुछ बस वोट बैंक के लिए।

वहीं, फिल्‍म अभिनेता फरहान अख्‍तर ने कहा कि स्कूल बस पर हमला एक आंदोलन नहीं है। यह आतंकवाद है और जिन लोगों ने यह किया वे आतंकवादी हैं।

पूर्व वित्त मंत्री और बीजेपी नेता यशवंत सिन्हा ने ट्विटर पर लिखा, ‘गुड़गांव में बच्चों के साथ गुंडों ने जो किया, उससे एक भारतीय होने के नाते मेरा सिर शर्म से झुक गया। गवर्नेंस कहां है? या फिर सुरक्षित वोटबैंक की ख़ातिर क्या ये मायने ही नहीं रखता?

जयपुर और गुरुग्राम में बसों में लगाई आग

हरियाणा के गुरुग्राम में निषेधाज्ञा का उल्लंघन करते हुए प्रदर्शनकारियों ने एक बस में आग लगा दी और राजमार्ग पर यातायात बाधित किया। इधर, लखनऊ में गुस्साई भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस को बल प्रयोग करना पड़ा। जयपुर में कथित तौर पर करणी सेना के कार्यकर्ताओं ने राज्य परिवहन की दो बसों को क्षतिग्रस्त किया और शहर के कलवर इलाके में एक मार्ग को अवरुद्ध किया। गुजरात के अहमदाबाद में भी 44 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।प्रदर्शनकारियों ने शहर में तीन मल्टीप्लेक्स के बाहर खड़े 30 स्कूटरों और बाइक को आग लगा दी थी।

चार राज्यों में नहीं दिखाई जाएगी ‘पद्मावत’

‘पद्मावत’ की रिलीज के खिलाफ बढ़ते हिंसक प्रदर्शनों के बीच मल्टीप्लेक्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया ने बुधवार (24 जनवरी) को कहा कि उसके सदस्य एतिहासिक पृष्ठभूमि पर बनी इस फिल्म का प्रदर्शन राजस्थान, गुजरात, मध्य प्रदेश और गोवा में नहीं करेंगे।

न्यूज एजेंसी भाषा के मुताबिक, राजपूत संगठनों और अन्य तत्वों द्वारा इतिहास से छेड़छाड़ का आरोप लगाते हुए मॉल में तोड़फोड़ किये जाने, वाहनों को जलाये जाने और फिल्म की रिलीज को रोकने की कोशिश के तहत थियेटर मालिकों और आम लोगों को खुली चेतावनी दिए जाने के बाद संघ ने यह निर्णय किया।

यह संघ भारत के 75 प्रतिशत मल्टीप्लेक्सों के मालिकों का प्रतिनिधित्व करता है। संघ के अध्यक्ष दीपक अशर ने ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया कि, ‘‘हमने चार राज्यों-राजस्थान, गुजरात, मध्य प्रदेश और गोवा में फिल्म का प्रदर्शन नहीं करने का फैसला किया है, क्योंकि स्थानीय प्रशासन ने हमसे कहा है कि कानून-व्यवस्था की स्थिति अनुकूल नहीं है।’’

उन्होंने बताया कि जिन राज्यों में फिल्म रिलीज होगी, वहां सिनेमा हॉल के बाहर पुलिस के अलावा निजी सुरक्षा गार्ड भी तैनात किये जाएंगे। बता दें कि संजय लीला भंसाली की ‘पद्मावत’ मेवाड़ के महाराजा रतन सिंह और सुल्तान अलाउद्दीन खिलजी के बीच की लड़ाई पर आधारित पीरियड फिल्म है।

 

 

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here