जनसंख्या संतुलन के लिए संत ने दी अजीबोगरीब नसीहत, बोले- ‘सिविल कोड लागू होने तक 4 बच्चे पैदा करें हिंदू’

0

कर्नाटक के उड़पि में चल रही धर्मसंसद में एक संत ने जनसंख्या संतुलन के लिए अजीबोगरीब नसीहत दी है। हरिद्वार स्थित भारत माता मंदिर के स्वामी गोविंद देव गिरि जी महाराज ने कहा है कि यूनिफॉर्म सिविल कोड (समान नागरिक संहिता) लागू होने तक हिंदुओं को कम से कम चार बच्चे पैदा करने चाहिए, ताकि जनसंख्या संबंधी असंतुलन पर लगाम लगाई जा सके।न्यूज एजेंसी PTI की रिपोर्ट के मुताबिक धर्मसंसद के दूसरे दिन शनिवार (25 नवंबर) को स्वामी देव गिरि ने कहा कि ‘जिन इलाकों में हिंदू आबादी कम हुई, उन इलाकों को भारत ने खो दिया, जिससे जनसंख्या असंतुलन पैदा हुआ, इसलिए दो बच्चों की नीति सिर्फ हिंदुओं के लिए ही सीमित नहीं रहनी चाहिए।’

तटीय कर्नाटक के उड़पि में विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) की ओर से आयोजित तीन दिवसीय धर्मसंसद के दूसरे दिन पत्रकारों से बातचीत में गोविंद देव ने यह टिप्पणी की। स्वयंभू गोरक्षकों की ओर से कानून अपने हाथ में लेने की घटनाओं के बारे में पूछे जाने पर गोविंद देव ने कहा कि, ‘गोरक्षकों की आड़ में कुछ अपराधी अपना निजी हिसाब-किताब चुकता कर रहे हैं।’

बता दें कि इस धर्मसंसद में 2,000 से ज्यादा हिंदू संत, मठाधीश और देशभर के वीएचपी नेता भाग ले रहे हैं। आयोजन के पहले दिन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत ने राम मंदिर को लेकर बड़ा बयान दिया था। मोहन भागवत ने कहा कि राम जन्मभूमि पर सिर्फ राम मंदिर ही बनेगा। सुप्रीम कोर्ट में 5 दिसंबर से अयोध्या मामले पर आखिरी सुनवाई होने जा रही है।

धर्मसंसद में आरएसएस प्रमुख ने कहा कि, ‘राम जन्मभूमि पर राम मंदिर ही बनेगा और कुछ नहीं बनेगा। उन्हीं पत्थरों से बनेगा, उन्हीं की अगवानी में बनेगा, जो इसका झंडा उठाकर पिछले 20-25 वर्षों से चल रहे हैं।’ आरएसएस प्रमुख भागवत ने इस दौरान कहा कि राम मंदिर के ऊपर एक भगवा झंडा बहुत जल्द लहराएगा।

उन्होंने आगे कहा था कि राम जन्मभूमि स्थल पर कोई दूसरा ढांचा नहीं बनाया जा सकता। इसके साथ ही मोहन भागवत ने गोरक्षा की वकालत करते हुए कहा कि हमें गायों की सुरक्षा सक्रिय रूप से करनी होगी। अगर गोहत्या पर बैन नहीं लगेगा, तो हम शांति से नहीं जी सकेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here