क्लिंटन ने हिलेरी को दी थी सलाह- गरीब देशों को चीन, भारत से दूर रखो

0

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बिल क्लिंटन ने जलवायु परिवर्तन पर 2009 में हुए कोपेनहेगन शिखर सम्मेलन के समझौते के एक दिन पहले अपनी पत्नी एवं पूर्व विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन को सलाह दी थी कि गरीब देशों को चीन और भारत से कैसे दूर रखा जाए।

बिल ने 17 दिसंबर, 2009 को हिलेरी को भेजे एक ईमेल में लिखा था, ‘‘पारदर्शिता जैसे मुद्दों पर गरीब देशों को भारत, चीन इत्यादि से दूर रखने के लिए तुम उन्हें यह चीज पेश कर सकती हो: चाहे वो जो भी प्रतिबद्धता रखते हों, उन्हें किसी विकल्प की उपलब्धता पर निर्भरता होनी चाहिए, जो उनकी अर्थव्यवस्था के लिए अच्छा है।’’

Also Read:  BJP में शामिल हुए पूर्व विदेश मंत्री और कांग्रेस नेता एसएम कृष्णा

हिलेरी और अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा जलवायु परिवर्तन पर किसी समझौते पर पहुंचने की दिशा में मुहिम चलाने कोपेनहेगन में थे. चीन और भारत के नेतृत्व में कई देश इसका विरोध कर रहे थे। चीन और भारत तीसरी दुनिया का नेतृत्व करने की कोशिश कर रहे थे।

भाषा की खबर के अनुसार, बिल ने कहा, ‘‘मेरा सुझाव है कि तुम इसकी शुरुआत यह कहकर कर सकती हो कि अगर हम सही तरीके से इसे निबटें और सही वित्तीय विकल्प उपलब्ध कराएं तो यह चुनौती एक मौका बन सकती है क्योंकि पुरानी ऊर्जा अर्थव्यवस्था को अब ऊर्जा की उपलब्धि और खपत को नए तरीकों पर बढ़त हासिल नहीं है.’’

Also Read:  We will go after Islamic State leader Baghdadi the same way we went after bin Laden: Hillary Clinton
 ईमेल के मजमून से प्रतीत होता है कि जलवायु परिवर्तन पर उस वक्त चल रहे शिखर सम्मेलन में चुनौतियों के बेहतर हल की दिशा में हिलेरी ने अपने पति से सुझाव मांगा था. बिल क्लिंटन ने ईमेल में लिखा था, ‘हिलेरी, मैं दिन भर व्यस्त रहा और मेरे पास बेहद कम समय था कि मैं इन लेखों को पढ़ पाता और कोई अच्छी सलाह दे पाता.’ ये दस्तावेज एफबीआई ने विदेश विभाग को दिए थे. सार्वजनिक रूप से इसे जारी करने के लिए फ्रीडम ऑफ इन्फॉर्मेशन के मानकों का इस्तेमाल कर इसकी समीक्षा की गई।

Also Read:  गुरमेहर कौर की सुरक्षा में पंजाब पुलिस दो महिला कांस्टेबल रहेगी 24 घंटे तैनात

अमेरिका की विदेश मंत्री रहते हुए कुल 273 अतिरिक्त पृष्ठों के ईमेल वाले ऐसे 75 दस्तावेज हैं जिन्हें हिलेरी के आधिकारिक ईमेल से या तो भेजे गए थे या फिर आए थे. अमेरिका के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता जॉन किर्बी ने एक बयान में कहा, ‘जिन 75 दस्तावेजों को हम आज जारी कर रहे हैं उनमें से तकरीबन आधे से अधिक पूर्व विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन और एफओआईए की ओर से उपलब्ध कराए गए दस्तावेजों की ‘प्रति’ है।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here