पाकिस्तान से सटी राजस्थान की सीमा पर हाई अलर्ट, गांव खाली कराने का अभियान

0

भारत-पाक के बीच बढते तनाव के बाद राजस्थान की पश्चिमी सीमा पर हाई अलर्ट कर दिया गया है, प्रदेश में श्रीगंगानगर, बीकानेर, बाडमेर और जैसलमेर जिलों में पाक से सटी सीमा को पूरी तरह से सील कर दिया गया है। सीमा से सटे दस किलोमीटर के गांवों को खाली कराने का अभियान भी चला दिया गया है।

सीमा के पार पाकिस्तानी टैंकों की आवाजाही के कारण सीमा सुरक्षा बल चौकस है। स्थानीय पुलिस थानों पर आला अफसरों की मौजूदगी को पुख्ता किया गया है और नागरिकों को सतर्क रहने के साथ ही संदिग्ध लोगों की चौकसी करने और सभी जानकारियों सुरक्षों बलों से साझा करने की हिदायत भी दी गई है। इलाके में स्थित गांवों में तलाशी अभियान भी पुलिस के सहयोग से चलाया जा रहा है।

सूत्रों के अनुसार सीमा के पार पाकिस्तानी टैंकों और अन्य सैन्य सामग्री की आवाजाही के मददेनजर सीमा सुरक्षा बल पूरी तरह से चौकस हो गया है। सीमा सुरक्षा बल के आइजी डा बीएल मेघवाल लगातार हालात पर निगाहें रख रहे हैं। बल ने अपने सभी सेंटर प्रभारियों को जवानों के साथ दिन-रात की गश्त पर लगा दिया है।

पश्चिमी सीमा पर सीमा सुरक्षा बल का अलर्ट हफ्ते भर से चल रहा है। केंद्रीय गृह मंत्री के निर्देश के बाद गुरुवार से हाईअलर्ट घोषित कर दिया गया है। सेना और वायुसेना भी सतर्क होकर सीमा पर होने वाली हर गतिविधि पर निगाह रख रही हैं। स्थानीय पुलिस, सीमा सुरक्षा बल और सेना आपस में तमाम सूचनाओं का आदान-प्रदान कर संभावित खतरे का सामना करने की तैयारी में जुटे हैं। प्रशासन ने सुरक्षा एजंसियों के लिए खाने पीने के तमाम इंतजाम भी कर दिए हैं।

भाषा की खबर के अनुसार, प्रदेश के गृह मंत्री गुलाब चंद कटारिया ने यहां गृह विभाग और पुलिस के आला अफसरों के साथ बैठक कर हालात की समीक्षा की। इस बैठक में सीमावर्ती जिलों के प्रशासन की मदद के लिए रणनीति बनाई गई। मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने भारतीय सेना की कार्रवाई पर खुशी जताते हुए कहा कि पाक की नापाक हरकत का मुहंतोड़ जवाब दिया गया है। उन्होंने प्रदेशवासियों से अपील की कि सैनिकों की हौसला अफजाई के लिए देशहित में वे अपना योगदान देने के लिए पूरी तरह से तत्पर रहे।

बाडमेर जिला कलेक्टर ने तो सीमा से सटे इलाकों में निषेधाज्ञा के तहत धारा-144 लागू कर दी है। केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने गुरुवार को मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे से ताजा हालातों पर बात भी की थी। इसके बाद ही राज्य सरकार के आला अफसरों ने सीमाई जिलों के प्रशासन से सुरक्षा इंतजामों की लगातार समीक्षा करने के साथ सरहद पर पूरी निगाह रखने के निर्देश दिए हैं।

बाडमेर जिला प्रशासन ने तो सीमा से लगते इलाकों में तैनात सरकारी कर्मचारियों की छुटिटयां रदद करते हुए उन्हें मुख्यालय पर ही रहने को कहा गया है। सरकारी कर्मचारियों को निर्देश दिया गया है कि किसी भी संदिग्ध गतिविधियों की जानकारी फौरन सुरक्षा एजंसियों को दी जाए। इसके साथ ही सरकारी कर्मचारियों और शिक्षकों को कहा गया है कि वे अपने इलाके के नागरिकों के साथ संपर्क में रहे और उनका मनोबल बढ़ाने का काम करें।

LEAVE A REPLY