जानिए क्यों ट्विटर पर ट्रेंड कर रहा हैशटैग #NoToJaiShriRam

0

ट्विटर पर बुधवार सुबह से ही शीर्ष पर एक नया हैशटैग #NoToJaiShriRam ट्रेंडिंग देखने को मिल रहा है। यह हैशटैग ट्रेंड होने के बाद दक्षिणपंथी समर्थक भड़क गए हैं, क्योंकि इस हैशटैग के जरिए लोगों से राम के नाम का जाप नहीं करने का आग्रह किया जा रहा है। इस बारे में बहुत कम ही लोगों को पता चल पाया है कि आखिर #NoToJaiShriRam ट्रेंड क्यों कर रहा है। हालांकि, शाम होते-होते इसके पीछे का असली मकसद सामने आ गया।

यह हैशटैग भाजपा शासित झारखंड में 24 वर्षीय तबरेज़ अंसारी की क्रूरता से की गई हत्या के खिलाफ तमिल सामाजिक मीडिया उपयोगकर्ताओं के एक समूह द्वारा लॉन्च किया गया था। बता दें कि कुछ दिन पहले झारखंड के सरायकेला जिले के धातकीडीह गांव में बाइक चुराने के आरोप में तबरेज अंसारी की भीड़ ने बेरहमी से पिटाई की थी। जिसके बाद पीड़ित ने अस्पताल में दम तोड़ दिया। महाराष्ट्र के पुणे में वेल्डर के रूप में काम करने वाले अंसारी अपने परिवार के साथ ईद मनाने और शादी करने के लिए घर आए थे।

पुलिस के अनुसार, तबरेज के पास से चोरी हुई बाइक के अलावा कई और चीजें मिली हैं। हालांकि, इस मामले में एक वीडियो वायरल होने के बाद यह घटना सामने आई, जिसमें मंडल पेड़ से बंधे अंसारी को पीटते हुए नजर आ रहा था। साथ ही वीडियो में तबरेज से जबरन ‘जय श्रीराम’ कहलवाने की कोशिश की गई है। तबरेज को एक पोल से बांधा गया और फिर उसे बुरी तरह से पीटा गया। इसके साथ ही जबरन उससे ‘जय श्री राम’ और ‘जय हनुमान’ के नारे लगवाए गए।

उसके बाद बेहोशी हालत में ही उसे पुलिस को सौंप दिया गया, पुलिस हिरासत में चार दिन बाद उसकी मौत हो गई। अंसारी की पत्नी शाइस्ता परवीन ने सरायकेला पुलिस स्टेशन में एक प्राथमिकी दर्ज कराई है। इसमें आरोप लगाया गया है कि अंसारी पिछले सोमवार को बाइक से जमशेदपुर से वापस आ रहे थे, तभी कुछ लोगों ने उन्हें पकड़ लिया। उन्हें पेड़ से बांधकर बेरहमी से पिटाई की और ‘जय श्री राम’ का नारा लगाने के लिए मजबूर किया।

हैशटैग #NoToJaiShriRam को ट्रेंड कराने के पीछे लोगों का कहना है कि वे नहीं चाहते कि हिंदुत्व गिरोह निर्दोष लोगों की अंधाधुंध हत्याओं के लिए अपने भगवान के नाम को बदनाम करे।

देखें, लोगों की प्रतिक्रियाएं:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को राज्यसभा में पहली बार तबरेज हत्याकांड मामले में चुप्पी तोड़ते हुए कहा कि युवक की हत्या का मुझे भी दुख है। दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा मिलनी चाहिए। लेकिन क्या एक झारखंड राज्य को दोषी बता देना सही है? उन्होंने कहा कि सरायकेला की घटना से पूरे झारखंड को बदनाम करना गलत है। दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा। उन्होंने कहा कि इस मुद्दे पर पूरा देश एक है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here