प्रद्युम्न मर्डर केस: हरियाणा के DGP ने कहा- पुलिस पर कोई दबाव नहीं, CM खट्टर ने भी किया बचाव

0

रेयान स्कूल के छात्र की हत्या के मामले में केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के निष्कर्षों के हरियाणा पुलिस के लिए शर्मिंदगी का बड़ा विषय बनने के साथ राज्य के पुलिस महानिदेशक बीएस संधू ने बुधवार (8 नवंबर) को कहा कि मामला केंद्रीय एजेंसी को सौंपे जाने से पहले उसकी जांच कर रही पुलिस की टीम पर कोई दबाव नहीं था।

रयान
(HT file photo)

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने भी प्रदेश पुलिस का बचाव करते हुए दावा किया कि जब जांच का जिम्मा सीबीआई के हवाले किया गया तब मामले में पुलिस की जांच पूरी नहीं हुई थी। संधू ने पुलिस पर मामला सुलझाने के लिए दबाव होने की या उसके जल्दबाजी में काम करने की बात से इनकार किया।

उन्होंने पंचकूला में कहा कि सरकार ने सीबीआई को जांच का जिम्मा सौंपने की सिफारिश की थी। डीजीपी ने मामले में आए सनसनीखेज मोड़ के बारे में पूछे जाने पर कहा कि जांच का जिम्मा अब सीबीआई के पास है। यह पूछे जाने पर कि क्या हरियाणा पुलिस की जांच एक दिखावा थी, संधू ने ना में जवाब दिया। उन्होंने जवाब दिया कि गुरूग्राम पुलिस की कोई नाकामी नहीं थी।

संधू ने गुरुग्राम पुलिस की जांच से जुड़े सवालों को टालते हुए कहा कि पुलिस पर कोई दबाव नहीं था। हमने सीबीआई जांच की सिफारिश की थी। अभी कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी। यह पूछे जाने पर कि हरियाणा पुलिस ने तो स्कूल के बस कंडक्टर अशोक कुमार की गिरफ्तारी के बाद हरियाणा पुलिस ने मामला सुलझा लेने का दावा किया था, डीजीपी ने कहा कि कोई बात नहीं, चलता है।

न्यूज एजेंसी भाषा की रिपोर्ट के मुताबिक चंडीगढ़ में एक समारोह के दौरान मुख्यमंत्री खट्टर ने भी मुद्दे पर राज्य पुलिस का बचाव किया। मीडिया द्वारा यह पूछे जाने पर कि मामले में पुलिस की नाकामी के बाद डीजीपी को बर्खास्त किया जाएगा तो जवाब में खट्टर ने कहा कि जब जांच जारी होती है, उस अवधि में कोई कुछ नहीं (किसी निष्कर्ष पर पहुंचना) कर सकता, जांच एक हिस्सा है। जब वह पूरी होती है तभी हमें पता चलता है।

उन्होंने कहा कि हरियाणा पुलिस ने अपनी जांच पूरी नहीं की थी। जब जांच जारी थी, मांग उठी कि मामला सीबीआई के हवाले कर दिया जाए। यह उनको सौंप दी गई। अब सीबीआई जांच कर रही है, यह उनका काम है, हमारा नहीं। सीबीआई जांच जिस दिशा में जाए, आखिरकार निष्कर्ष वहीं होता है।

गौरतलब है कि प्रद्युम्न हत्याकांड में सीबीआई ने गुरुग्राम के रेयान इंटरनेशनल स्कूल के ग्यारहवीं कक्षा के एक छात्र को पकड़ा है। एजेंसी के मुताबिक आरोपी छात्र कथित तौर पर चाहता था कि पूर्व निर्धारित पेरेंट्स-टीचर मीटिंग (पीटीएम) और परीक्षाएं टल जाएं।

सीबीआई के एक प्रवक्ता ने बताया कि 16 वर्ष के हाई स्कूल के एक छात्र को स्कूल के भीतर अपने जूनियर की हत्या के आरोप में कल देर रात पकड़ा गया। इससे पूरे मामले में सनसनीखेज मोड़ आ गया है। स्कूल के दूसरी कक्षा के सात वर्षीय छात्र प्रद्युम्न का शव आठ सितंबर को मिला था। उसका गला किसी धारदार हथियार से रेता गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here