हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर बोले- सिनेमाघरों के मालिक फिल्म न दिखाएं तो अच्छा

1

सुप्रीम कोर्ट ने संजय लीला भंसाली की विवादित फिल्म ‘पद्मावत’ की 25 जनवरी को देश भर में रिलीज का रास्ता साफ कर दिया है। फिल्म पद्मावत रिलीज को सुप्रीम कोर्ट की हरी झंडी झंडी मिलने के बाद भी राजपूत समाज का विरोध लगातार जारी है।

हरियाणा
file photo

इसी बीच, भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) शासित राज्य हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि अगर सिनेमाघरों के मालिक फिल्म को न दिखाएं तो अच्छा हैं और अगर दिखाते हैं तो उन्हें सरकार की तरफ से सुरक्षा मुहैया कराई जाएगी।

समाचार एजेंसी ANI के मुताबिक, मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि ‘अगर सिनेमाघरों के मालिक फिल्म को न दिखाएं तो अच्छा हैं और अगर दिखाते हैं तो उन्हें सरकार की तरफ से सुरक्षा मुहैया कराई जाएगी, जैसा कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश का पालन कराना है।’

बता दें कि रविवार (21 जनवरी) को हरियाणा के कुरुक्षेत्र में एक मॉल में तोड़फोड़ की घटना की खबर सामने आई थी। खबरों के मुताबिक, चश्मदीदों ने बताया कि करीब 20-22 उपद्रवियों ने हथौड़ों और तलवारों से मॉल में तोड़फोड़ की और आग लगाई।

वहीं, राजस्थान के भीलवाड़ा शहर में सोमवार सुबह से एक युवक फिल्म पद्मावत पर बैन की मांग पर 330 फीट ऊंचे मोबाइल टॉवर पर चढ़ा हुआ है। ख़बरों के मुताबिक, बताया जा रहा है कि, यह युवक अपने साथ एक पेट्रोल की बोतल भी लेकर गया हुआ है। टॉवर पर चढ़ा युवक ‘पद्मावत’ पर पूरे देश में प्रतिबंध नहीं लगाने पर आत्मदाह की धमकी दे रहा है।

फिल्म पद्मावत रिलीज को सुप्रीम कोर्ट की हरी झंडी झंडी मिलने के बाद भी राजपूत समाज का विरोध लगातार जारी है। राजस्थान के चित्तौड़गढ़ में रविवार को राजपूत महिलाओं ने रैली निकालकर विरोध प्रदर्शन किया और फिल्म पर बैन नहीं लगाने नहीं लगाने पर इच्छा मृत्यु की मांगी है।

न्यूज़ 18 हिंदी की ख़बर के मुताबिक, चित्तौड़गढ़ के जौहर स्थल से राजपूत महिलाओं ने स्वाभिमान रैली निकाली जो जौहर भवन तक पहुंची। इस रैली के दौरान राजपूत महिलाओं ने रानी पद्मावती के सम्मान में नारे लगाए और और संजय लीला भंसाली का विरोध किया।

 

बता दें कि, सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार(18 जनवरी) को फिल्म प्रतिबंध पर अंतरिम रोक लगाते हुए कहा था कि कानून-व्यवस्था बनाए रखने की जिम्मेदारी राज्य सरकारों की है।

वहीं दूसरी ओर फिल्म के रिलीज के विरोध में राजपूत महिलाओं ने 24 जनवरी को जौहर का ऐलान किया है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, इसके लिए अब तक 1800 से ज्यादा महिलाएं रजिस्ट्रेशन करा चुकी है। ये सारी महिलाएं चित्तौड़गढ़ किले में फिल्म रिलीज होने पर जौहर करने की तैयारी कर रही हैं।

1 COMMENT

  1. ये नेता इतनी चतुराई कहाँ से सीख कर आते हैं? सर्वोच्च न्यायालय की भी रख ली और राजपूतों का पक्ष भी ले लिया. जय हो भारतीय नेता.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here