गुजरात चुनाव: मतदान से एक दिन पहले सूरत पुलिस ने हार्दिक पटेल के खिलाफ दर्ज किया केस

0

गुजरात विधानसभा चुनाव के पहले चरण के मतदान से महज एक दिन पहले सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की आंखों की किरकिरी बने पाटीदार अनामत आंदोलन समिति (PASS) के नेता हार्दिक पटेल के खिलाफ सूरत पुलिस ने केस दर्ज किया है। बता दें कि गुजरात विधानसभा चुनाव के पहले चरण के तहत शनिवार को वोट डाले जाएंगे।मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, चुनाव आयोग के निर्देश के बाद सूरत के सरथाना पुलिस स्टेशन में हार्दिक के खिलाफ तय शर्तों को तोड़ने के मामले में केस दर्ज किया गया है। पुलिस ने शुक्रवार (8 दिसंबर) को यह कार्रवाई की है। दरअसल हार्दिक पटेल ने जनक्रांति महारैली के लिए चुनाव अयोग से मंजूरी ली थी। आयोग ने इस रैली के लिए कुछ शर्तों के साथ अनुमति दी थी।

लेकिन, हार्दिक पर आरोप है कि उन्होंने इन शर्तों का उल्लंघन किया है। मामला संज्ञान में आने पर आयोग ने आगे की कार्रवाई करते हुए स्थानीय सरथाना पुलिस को मामला दर्ज करने का आदेश दिया था। आयोग के निर्देश के बाद पुलिस उनके खिलाफ धारा 36, 134 और 72(2) के तहत मामला दर्ज किया है।

वहीं चुनाव की पूर्व संध्या पर हार्दिक पटेल ने ट्वीट कर ‘फेकू’ शब्द का जिक्र कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोला है। पाटीदार नेता ने लिखा, “गुजरात में विकास के साथ साथ चुनावी घोषणा पत्र भी लापता हैं। साहब कोई कुछ भी नहीं कहेगा कृपया आप एक बार चुनावी घोषणा पत्र में अपनी शैली में फेंक दीजिए।”

वहीं, एक अन्य ट्वीट में हार्दिक ने लिखा, “कांग्रेस पार्टी के नेता ने ग़लत शब्द का इस्तेमाल किया और कांग्रेस पार्टी ने उसको ससपेंड कर दिया, लेकिन अभी के प्रधानमंत्री जब CM थे तब चुनाव प्रचार में हिंदुस्तान की बहु को बार गर्ल कहते थे क्या वो ठीक था।”

हालांकि हार्दिक पटेल सहित विपक्षी पार्टियों द्वारा सवाल उठाए जाने के बाद गुजरात चुनाव के लिए सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने पहले चुनाव की वोटिंग से एक दिन पहले शुक्रवार (8 दिसंबर) को घोषणा पत्र जारी कर दिया है। घोषणा पत्र जारी करते हुए केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि संकल्प पत्र में विकास को एजेंडा बनाया है। जेटली ने कहा कि आचार संहिता को ध्यान में रखकर संकल्प पत्र बनाया गया है।

बता दें कि गुजरात विधानसभा चुनाव के पहले चरण के लिए चुनाव प्रचार शुक्रवार (7 दिसंबर) शाम समाप्त हो गया। मुख्य प्रतिद्वंदी बीजेपी और कांग्रेस ने चुनाव प्रचार के दौरान जाति, धर्म जैसे भावनात्मक मुद्दों और विकास सहित तमाम विषयों पर एक दूसरे को घेरा। चुनाव को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए प्रतिष्ठा की लड़ाई बताया जा रहा है, जबकि जल्द ही कांग्रेस अध्यक्ष का पद संभालने जा रहे राहुल गांधी के लिए यह एक अग्निपरीक्षा है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here