9/11 हमले से पहले आतंकी हाफिज सईद ने ब्रिटेन के मस्जिदों में मुस्लिमों को दिया था जिहाद का संदेश: BBC

0

मुंबई हमले का मास्टरमाइंड और आतंकी संगठन जमात-उद-दावा का चीफ हाफिज सईद ने 11 सितंबर 2001 को अमेरिका में हुए आतंकी हमले के पहले ब्रिटेन में जाकर मुस्लिमों से जिहाद की लड़ाई लड़ने की अपील की थी। आतंकी हाफिज ने इस दौरान स्कॉटलैंड की मस्जिदों का दौरा कर मुसलमानों से जिहाद की अपील की थी। बीबीसी की एक जांच में ये बात सामने आई है।

File Photo: AFP

बीबीसी रेडियो 4 की डाक्यूमेंट्री, द डॉन ऑफ़ ब्रिटिश जिहाद, में पता चला है कि हाफ़िज़ सईद ने साल 1995 में ब्रितानी मस्जिदों का दौरा किया था। बीबीसी के मुताबिक उसी साल अगस्त में ग्लासगो में हाफ़िज़ सईद ने कहा था कि मुसलमानों के अंदर जिहाद की भावना है, उन्होंने दुनिया पर हक़ूमत की है लेकिन आज वो शर्मशार हो रहे हैं।

बीबीसी की इस डॉक्यूमेंट्री में इस बात की पड़ताल की गई है कि ब्रितानी मुसलमानों में कट्टटरपंथ की सोच 9/11 हमलों से पहले ही आ गई थी। इस डॉक्यूमेंट्री के निर्माताओं में से एक साजिद इकबाल ने बीबीसी स्कॉटलैंड को बताया कि उन्होंने ऐसे लोगों से बात की है जो 80 और 90 के दशक में ही सक्रिय थे।

रिपोर्ट के मुताबिक हाफिज सईद के 1995 के ब्रिटेन दौरे का ब्यौरा पाकिस्तनी चरमपंथी समूह लश्कर-ए-तैयबा की एक पत्रिका में प्रकाशित किया गया था। इकबाल के मुताबिक, “इस लेख में जिहाद के बारे में बताया गया और ब्रितानी मुसलमानों से सईद के साथ जिहाद में शामिल होने को कहा गया।”

ग्लासगो की मुख्य मस्जिद में भी हाफिज ने भारी संख्या में मौजूद लोगों को संबोधित किया था। इस दौरान उसने कहा था कि यहूदी, मुसलमानों में जिहाद की भावना को खत्म करने के लिए अरबों डॉलर खर्च कर रहे हैं। सईद ने कहा था कि वो मुसलमानों को लोकतंत्र के जरिए सत्ता की राजनीति के करीब लाना चाहते हैं।

उसने अपने भाषण में कहा था कि वो मुसलमानों को कर्ज में रखने के लिए ब्याज आधारित अर्थव्यवस्था को बढ़ावा दे रहे हैं। इस यात्रा के दौरान हाफिज ने बर्मिंघम में भी लोगों को संबोधित करते हुए कहा था कि, आओ हम सब जिहाद के लिए खड़े हों। लीसेस्टर में उसने करीब चार हजार लोगों के सम्मेलन को संबोधित किया था। लश्कर-ए-तैयबा के लेख में कहा गया था कि उनके भाषण के बाद सैकड़ों युवाओं ने जिहाद में शामिल होने की इच्छा जताई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here