अब नाम से पहले पूछा जा रहा है धर्म: गुलजार

0

देश में बढ़ रही असहिष्णुता को लेकर नामचीन गीतकार गुलजार ने भी अपनी व्याथा व्यक्त की है। उन्होंने कहा, “पहले तो ऐसा माहौल नहीं था कि नाम से पहले धर्म पूछा जाता था।”

गुलजार ने कहा कि उन्होंने ऐसा माहौल हमने पहले कभी नहीं देखा, कम से कम पहले लोग बात करने के लिए बेखौफ थे।

Also Read:  दिल्ली-NCR में भूकंप के तेज झटके

प्रश्न करते हुए उन्होंने कहा कि मुझे तो अच्छा लगेगा उनसे मिल कर जिन्हें ‘राम राज्य’ मिल गया हो । “क्या आपको दिख रहा है?”

Congress advt 2

गुलजार ने साहित्यकार बनाम सरकार की लड़ाई में साहित्यकारों का साथ देते हुए कहा, “साहित्यकारों की हालत के लिए सरकार जिम्मेदार है। जिस तरह की हत्या हुई, वो साहित्य अकादेमी की दोष नहीं है, वो सरकार में से निकला हुआ दोष है।”

Also Read:  मोदी सरकार का सराहनीय कदम: OROP के तकरीबन 20 लाख पूर्व सैनिकों को दी 6,000 करोड़ की रकम

हाल ही में कन्नड़ लेखक कलबुर्गी की हत्या कर दी गई थी।

उन्होंने कहा, “लेखक क्या राजनीति करेगा बेचारा, वो तो बस दिल की बात कह रहा है, ज़मीर की बात कर रहा है। लेखक समाज की ज़मीर को संभालने वाले लोग हैं।”

Also Read:  नोटबंदी की नकारात्मक टेलीविजन कवरेज से सरकार खफा, संतुलित’ कवरेज के लिए चैनल्‍स से बातचीत करेगी सरकार?

गुलजार ने मोदी सरकार के लिए कहा कि मंसूबे तो उनके अच्छे हैं लेकिन काम आम आदमी तक पहुंचेगा तब पता लगेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here