गुजरात के मंत्री शंकर चौधरी फंसे फ़र्ज़ी डिग्री के विवाद में

0

गुजरात के स्वास्थय राज्य मंत्री शंकर चौधरी फ़र्ज़ी डिग्री विवाद में फंस रहे हैं। शंकर चौधरी विधानसभा में भाजपा के टिकट पर तीसरी बार चुने गए हैं। RTI से मिली जानकारी के मुताबिक एक सामाजिक कार्यकर्ता फरसु गोक्लाणी ने गुजरात हाईकोर्ट में एक याचिका दायर की है, जिसमें उन्होंने चौधरी राधनपुर के जिस स्कूल पढ़े थे, उसकी सूचना के अधिकार के तहत जानकारी मांगी थी।

Also Read:  भाजपा के लखनऊ कार्यालय में पहुंचाए 3 करोड़ रुपये कैश, कांग्रेस का आरोप

मुहैया जानकारी के मुताबिक, चौधरी ने 1987 में 10वीं की परीक्षा पास की थी, फिर उन्होंने 12वीं की परीक्षा 2011 में पास की थी।

तीन साल पहले विधानसभा चुनाव में चौधरी ने जो हलफनामा दायर किया था, उसके अनुसार चौधरी ने एमबीए किया है। जबकि आज की याचिका का कहना है कि कोई भी व्यक्ति एक साल में यानी 2011 से 2012 के बीच एमबीए नहीं कर सकता क्यूंकि चौधरी ने 2011 में 12वीं की परीक्षा पास की थी। इसके तहत हाईकोर्ट ने चौधरी और राज्य सरकार को नोटिस भेजा है कि इस मामले की सुनवाई 29 अक्टूबर हो होगी।

Also Read:  बनासकांठा की रैली में बोले पीएम मोदी, 'लोकसभा में बोलने नहीं दिया जा रहा इसलिए जनसभा में बोल रहा हूं'

साथ ही साथ कोर्ट ने चुनाव आयोग को भी इस मामले की जांच करने का आदेश दिया है। जबकि शंकर चौधरी ने इन सभी आरोपों को फ़र्ज़ी बताया है। यह मामला महत्वपूर्ण इसलिए भी है क्यूंकि इससे पहले भी दिल्ली में आम आदमी पार्टी के मंत्री पर फ़र्ज़ी डिग्री मामले पर विवाद हो चूका है। यदि ये आरोप सच निकला तो इससे भाजपा की राज्य सरकार पर भी खांसा असर पड़ेगा।

Also Read:  सिसोदिया का दावा- चुनाव आयोग ने EVM हैक करने की चुनौती को खारिज कर दिया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here