महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा, कराड-चिपलुन रेल लाइन की राशि बुलेट ट्रेन को दे रही है BJP सरकार

0

बुलेट ट्रेन को लेकर PM मोदी पर विपक्ष लगातार ताबड़तोड़ हमले बोल रहा है। इसी बीच महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता पृथ्वीराज चव्हाण ने आरोप लगाया कि राज्य सरकार प्रस्तावित कराड चिपलुन रेलवे लाइन परियोजना की राशि मुंबई-अहमदाबाद बुलेट ट्रेन परियोजना को देने की प्रक्रिया में है।

पृथ्वीराज चव्हाण
फाइल फोटो- महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पृथ्वीराज चव्हाण

न्यूज़ एजेसी भाषा की ख़बर के मुताबिक, पृथ्वीराज चव्हाण ने कहा कि अगस्त 2016 में कोंकण रेलवे कॉर्पोरेशन लिमिटेड के साथ करार करने वाली शापूरजी पलूनजी कंपनी प्राईवेट लिमिटेड ने अब कराड-चिपलुन रेलवे लाइन परियोजना से अपने हाथ खींच लिए हैं। माना जा रहा था कि यह कंपनी 3,195 करोड़ रुपये की लागत से कराड और चिपलुन के बीच एक नई रेलवे लाइन का निर्माण करेगी।

वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने आरोप लगाया है कि, एमओयू पर हस्ताक्षर होने के बाद से कोई निर्णय नहीं लिया गया और कंपनी को करीब एक साल का इंतजार करना पड़ा। अब इसने अपने हाथ पीछे खींच लिए हैं। मुझे संदेह है कि ऐसा बुलेट ट्रेन को धन देने के लिए किया जा रहा है।

जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे और PM मोदी ने रखी बुलेट ट्रेन की नींव

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने 14 सितंबर को अहमदाबाद में भारत की पहली बुलेट ट्रेन की नींव रखी। मुंबई से अहमदाबाद रूट पर चलने वाली देश की पहली बुलेट ट्रेन के जरिये यात्री समुद्र के अंदर यात्रा करने का रोमांच अनुभव कर सकेंगे। सरकार ने कहा है कि 15 अगस्त 2022 तक इस प्रोजेक्ट को पूरा कर लिया जाएगा।

इस परियोजना की कुल अनुमानित लागत करीब 1.10 लाख करोड़ रुपये का है, जिसमें 88 हजार करोड़ का कर्ज जापान देगा। इस कर्ज का ब्याज मात्र 0.1 फीसदी होगा, जिसे 50 साल में चुकाना होगा। इस अवसर पर पीएम मोदी ने कहा कि आजादी के 70 साल बाद इस प्रोजेक्ट का भूमि पूजन हुआ है, जब 2022 में आजादी के 75 साल पूरे होंगे तब मैं और शिंजो आबे बुलेट ट्रेन में एक साथ बैठेंगे।

शरद पवार ने मोदी सरकार पर साधा निशाना

बता दें कि, इससे पहले राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के अध्यक्ष शरद पवार ने भी मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए बुलेट ट्रेन का विरोध किया था। शरद पवार ने बुलेट ट्रेन परियोजना को अव्यवहारिक करार देते हुए आरोप लगाया था कि महाराष्ट्र की तुलना में गुजरात को इस प्रोजेक्ट से ज्यादा लाभ मिलेगा।

उद्धव और राज ठाकरे ने भी किया था विरोध

बता दें कि इससे पहले शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे और महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के प्रमुख राज ठाकरे ने मोदी की महत्वाकांक्षी परियोजना बुलेट ट्रेन का विरोध कर चुके हैं। पिछले दिनों दशहरा के अवसर पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए उद्धव ने कहा था कि बुलेट ट्रेन कौन चाहता है? पहले रेल ढांचे में सुधार कीजिए।

शरद पवार की तरह ही शिवसेना का भी मानना है कि बुलेट ट्रेन के लिए जमीन और पैसा महाराष्ट्र-गुजरात का खर्च हो रहा है और इस परियोजना का लाभ जापान को मिलेगा। वहीं, मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने भी मोदी सरकार को धमकी देते हुए कहा था कि जब तक मुंबई लोकल की स्थिति ठीक नहीं होती, तब तक बुलेट ट्रेन के लिए एक ईंट भी नहीं लगने दूंगा।

पी. चिदंबरम ने भी मोदी सरकार पर साधा निशाना

इससे पहले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदंबरम ने कहा है कि बुलेट ट्रेन नोटबंदी जैसी है, जो अपने रास्ते में आने वाली हर चीज को खत्म करते हुए जाएगी। साथ ही उनका कहना है कि, ‘बुलेट ट्रेन सुरक्षा समेत सभी चीजों को समाप्त कर देगी।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here