CM आदित्यनाथ ने अखिलेश के ड्रीम प्रॉजेक्ट गोमती रिवर फ्रंट की न्यायिक जांच के दिए आदेश

0

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अखिलेश यादव के प्रमुख प्रोजेक्ट में गोमती रिवर फ्रंट के निर्माण कार्य में गड़बड़ी के आशंका को देखते हुए जांच के आदेश दे दिए हैं। इस संबंध में योगी ने शनिवार को वरिष्ठ अधिकारियों और मंत्रियों के साथ बैठक की।

गोमती रिवर फ्रंट

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, बैठक में मुख्यमंत्री ने रिवर फ्रंट में हुए धन के खर्च की जांच के आदेश दिये। सेवानिवृत्त जज रिवर फ्रंट प्रॉजेक्ट में देरी और कथित अनियमितता की जांच करेंगे और 45 दिनों के भीतर जांच रिपोर्ट पेश करेंगे।कैबिनेट मंत्री आशुतोष टंडन ने कहा, ‘गोमती रिवर फ्रंट की होगी जांच।

जिस तरह से रिवर फ्रंट को तैयार किया गया वो ठीक नहीं था। नाले गिरते रहे और सौंदर्यीकरण कैसे होता रहा ये सवाल भी बैठक में उठाये गये।’ उन्होंने अफसरों से कहा कि वे प्रोजेक्ट के एक-एक पैसे का पूरा हिसाब दें।

आपको बता दें कि, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पिछले कुछ दिनों पहले लखनऊ में गोमती रिवर फ्रंट के कार्य का निरीक्षण करने गए थे और वहां पर काफी नाराज थे। गौमती रिवर फ्रंट से जुड़े हुए इंजीनियर और अधिकारियों के साथ बैठक की थी और  इस दौरान अव्यवस्था देख अधिकारियों को फटकार भी लगाई थी। अखिलेश यादव सरकार के ड्रीम प्रोजेक्ट गोमती रिवर फ्रंट को भाजपा सरकार पूरा करेगी।

गोमती नदी के किनारे जॉगिंग पार्क, वाल्किंग पार्क, चिल्ड्रन पार्क, म्यूजिकल फाउंटेन, सायकिल ट्रैक, फ़ूड प्लाजा, फुटबॉल कोर्ट, फ्लावर शो, ओपन एयर थियेटर, एम्पीथियेटर भी बन रहा है। गोमती के किनारे क्रिकेट और फुटबॉल स्टेडियम भी बनाए गए हैं। स्टेडियम का नाम टेनिस खिलाड़ी गौस मोहम्मद के नाम पर है।

बता दें कि गोमती रिवर फ्रंट परियोजना की शुरुआत पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने 16 नवंबर 2016 को की थी। यह प्रोजेक्ट अभी अधूरा है। इसके लिए 1500 करोड़ रुपये का भारी भरकम बजट तैयार किया गया था लेकिन 900 करोड़ रुपये खर्च होने के बाद भी काम संतोषजनक नहीं है। सीएम योगी ने परियोजना के बजट पर सवाल उठाए थे और कहा था कि जरूरत से ज्यादा पैसा इस प्रोजेक्ट को दिया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here