फर्जी ट्वीट्स के चलते कर्मचारी को नौकरी से बर्खास्त करने की घोषणा के बाद गोएयर ने मुस्लिम पायलट को किया बहाल, रद्द किया टर्मिनेशन आदेश

0

निजी एयरलाइन कंपनी गोएयर (GoAir) ने अपने मुस्लिम पायलट आसिफ खान (Asif Khan) को ट्विटर पर दक्षिणपंथी ब्रिगेड द्वारा अभूतपूर्व हंगामे के बाद तत्काल बर्खास्तगी की घोषणा करने के बाद बहाल कर दिया है। गोएयर द्वारा आसिफ खान की बर्खास्तगी को रद्द करने का यह फैसला रविवार को मुंबई पुलिस के साइबर सेल में शिकायत दर्ज कराने के बाद आया था।

गोएयर

बता दें कि, बीते दिनों गो एयर द्वारा उनके पायलट आसिफ खान को यह कहते हुए नौकरी से निकाल दिया गया था कि उन्होंने ट्विटर पर हिंदू भगवानों को लेकर आपत्तिजनक टिप्पणी की थी। नौकरी से निकाले गए कर्मचारी आसिफ खान का कहना था कि जिन विवादित पोस्ट्स की बात की जा रही है, वे उनके अकाउंट से किए ही नहीं गए हैं। उनके ही नाम के किसी और शख्स के प्रोफाइल से वे ट्वीट्स किए गए हैं। उनका कहना है कि उस शख्स ने अपने एकाउंट में खुद को गो एयर कंपनी के केबिन क्रू का सदस्य बताया गया था और शायद वहीं से यह गलतफहमी हुई कि वह कर्मचारी मैं हूं और मुझ पर कार्रवाई की गई।

दरअसल, कुछ दिनों पहले ट्विटर पर आसिफ खान (@MohdAsif 35534489) नाम के एक अकाउंट से हिंदू धर्म और सीता पर आपत्तिजनक टिप्पणियां की थीं। इसके बाद सोशल मीडिया पर इस एकाउंट के खिलाफ लोगों में काफी गुस्सा देखने को मिला। लोगों के इस व्यक्ति की पहचान गो एयर के कर्मचारी के रूप में किए जाने के बाद कंपनी की आलोचना करते हुए उनसे जवाबदेही की मांग की जाने लगी।

लोगों ने सोशल मीडिया पर #BoycottGoAir हैशटैग भी चलाया, जिसके बाद गो एयर ने एक बयान जारी कर आसिफ खान को नौकरी से निकाल दिया। गो एयर ने कहा था कि वो किसी भी व्यक्ति या कर्मचारी के निजी विचारों से सहमति नहीं रखते हैं और आसिफ खान को तत्काल प्रभाव से कंपनी से हटाया जा रहा है।

आसिफ खान ने फेसबुक पर लिखी एक पोस्ट में अपना पक्ष बताया और कहा कि इस घटना के बाद से उन्हें सोशल मीडिया पर बहुत धमकियां मिली हैं, मेरी मां और बहन से रेप करने जैसी बातें कही जा रही हैं। आसिफ ने अपने फेसबुक पोस्ट में लिखा, मेरा नाम आसिफ खान है और मैं मुंबई का रहने वाला हूं। मैं गो एयर में ट्रेनी फर्स्ट ऑफिसर के रूप में कार्यरत हूं। मैंने इस नौकरी के लिए बहुत संघर्ष किया है। मैंने 6 साल तक संघर्ष के बाद इस बड़ी कंपनी में नौकरी पिछले साल दिसंबर में पाई। ये मेरी पहली ड्रीम जॉब है और मेरे लिए बहुत मायने रखती है। लेकिन कल एक फोन कॉल ने सब बदल दिया।

आसिफ का कहना हैं कि को कंपनी के कुछ सीनियर अधिकारियों ने उन्हें ने फोन करके इस बारे में जानकारी दी थी। उन्होंने अपने पोस्ट में आगे लिखा, 4 जून मेरे कुछ सीनियर्स ने फोन करके मेरे ट्विटर एकाउंट के बारे में मुझसे पूछताछ की, जिसके बाद मैंने ट्विटर चेक किया तो पाया #BoycottGoair ट्रेंड कर रहा था। मैंने पाया मेरे ही नाम के एक शख्स ने हिंदू भगवानों के बारे में अपशब्द लिखे थे। इस व्यक्ति की प्रोफाइल में लिखा था कि वो गो एयर में केबिन क्रू के तौर पर काम करता है। लेकिन उसकी प्रोफाइल फोटो देखकर कोई भी बता सकता है कि ये मेरी तस्वीर नहीं है बल्कि कोई और शख्स है।

आसिफ ने लिखा कि मैंने इस नौकरी के लिए बहुत संघर्ष किया है। मैंने 6 साल तक संघर्ष के बाद इस बड़ी कंपनी में नौकरी पिछले साल दिसंबर में पाई। ये मेरी पहली ड्रीम जॉब है और मेरे लिए बहुत मायने रखती है, लेकिन कल एक फोन कॉल ने सब बदल दिया। आसिफ का कहना हैं कि ये बात सिर्फ ट्विटर तक नहीं सीमित थी बल्कि इस बारे में यूट्यूब पर वीडियो भी बनने लगे।

आसिफ ने यह भी लिखा कि मैंने स्थानीय पुलिस स्टेशन और साइबर सेल में इसकी शिकायत दर्ज कराई है। मेरा कभी भी कोई क्रिमिनल रिकॉर्ड नहीं रहा है और न ही मैं कभी इस तरह की हरकत कर सकता हूं। मैं हर धर्म की इज्जत करता हूं और इस बात की पुष्टि वो हर शख्स कर सकता है जो मुझे जानता है। जो भी कमेंट उस अकाउंट से किए गए हैं वो न तो मेरे हैं और न ही मेरी कंपनी के।

गोएयर ने रविवार को अपना विचार बदल दिया और उसे फिर से बहाल करने का फैसला किया। फिलहाल गोएयर ने टर्मिनेशन का आदेश रद्द कर दिया है। पायलट अब साइबर सेल की जांच के लिए निलंबित विषय पर खड़ा है।

Dear All,It's been hell for me and my family since yesterday.I have been getting death threats, abusive hate…

Posted by Asif Khan on Friday, June 5, 2020

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here