जिस स्थान पर रखा गया था मनोहर पर्रिकर का शव, उसका करवाया गया शुद्धिकरण! गोवा सरकार ने दिए जांच के आदेश

0

गोवा सरकार ने दिवंगत मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर से जुड़े ‘शुद्धिकरण’ मामले की जांच के आदेश दिए हैं। दरअसल, मीडिया की कुछ खबरों में कहा गया था कि पणजी स्थित राजकीय कला अकादमी में शनिवार को उस स्थान का शुद्धिकरण किया गया, जहां पर्रिकर के पार्थिव शरीर को रखा गया था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी यहीं पर पर्रिकर को आखिरी विदाई दी थी।

File Photo: @narendramodi

इस मामले में गोवा के कला एवं संस्कृति मंत्री गोविंद गावड़े ने समाचार एजेंसी पीटीआई-भाषा को बताया कि उन्होंने मीडिया द्वारा दी गई उन खबरों के आधार पर जांच के आदेश दिए हैं, जिनमें कहा गया था कि अकादमी परिसर में कुछ व्यक्तियों ने उस जगह का शुद्धिकरण कराया था, जहां मनोहर पर्रिकर का पार्थिव शरीर रखा गया था।

गावड़े ने कहा, “मैंने इन गतिविधियों को गंभीरता से लिया है। हम सरकारी इमारतों में अवैज्ञानिक गतिविधियों को बढ़ावा या संरक्षण नहीं दे सकते हैं।” मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि कथित तौर पर पणजी स्थित राजकीय कला अकादमी में शनिवार को उस स्थान का शुद्धिकरण किया गया, जहां पूर्व सीएम पर्रिकर के पार्थिव शरीर को रखा गया था।

स्थानीय मीडिया के मुताबिक पणजी स्थित राजकीय कला अकादमी में शनिवार को उस स्थान का शुद्धिकरण किया गया जहां पर्रिकर के पार्थिव शरीर को रखा गया था। यह मामला प्रकाश में आने के बाद हड़कंप मच गया। जिसके बाद अब गोवा सरकार ने मामले की जांच के आदेश दिए हैं। बता दें कि पर्रिकर (63) का रविवार को निधन हो गया था। वह अग्नाशय कैंसर से पीड़ित थे।

ऐसा रहा पर्रिकर सफर

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) के प्रचारक के तौर पर शुरुआत कर गोवा के मुख्यमंत्री और देश के रक्षा मंत्री बनने वाले पर्रिकर की छवि हमेशा ही बहुत सरल और सामान्य व्यक्ति की रही। वह सर्वस्वीकार्य नेता थे। ना सिर्फ बीजेपी बल्कि दूसरे दलों के लोग भी उनका मान-सम्मान करते थे। उन्होंने गोवा में बीजेपी को मजबूत आधार प्रदान किया। लंबे समय तक कांग्रेस का गढ़ रहने वाले गोवा में क्षेत्रीय संगठनों की पकड़ के बावजूद बीजेपी उनके कारण मजबूत हुई।

मध्यमवर्गिय परिवार में 13 दिसंबर, 1955 में जन्मे पर्रिकर ने राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रचारक के रूप में करियर शुरू किया। यहां तक कि आईआईटी बंबई से स्नातक करने के बाद भी वह संघ से जुड़े रहे। सक्रिय राजनीति में पर्रिकर का पदार्पण 1994 में पणजी सीट से बीजेपी टिकट पर चुनाव जीतने के साथ हुआ। वह 2014 से 2017 तक प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की कैबिनेट में रक्षा मंत्री रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here