BHU के VC गिरीश चंद्र त्रिपाठी का शर्मनाक बयान, छात्राओं से कहा- तुम एक लड़की की अस्मिता को लेकर बाज़ार में पहुँच गयी, क्या तुमने धर्म का पालन किया?

0

BHU में छेड़खानी और छात्राओं पर हुए लाठी चार्ज की घटना के बाद कुलपति गिरिश चन्द्र त्रिपाठी ने छात्रावास की छात्राओं से मुलाकात की और उनकी समस्याएं सुनीं। उसी समय किसी ने छात्राओं से बातचीत का एक वीडियो बना लिया गया जिसे सोशल मीडिया पर दिखाया गया है। वीसी से छात्राओं की बातचीत का यह वीडियो वायरल हो गया है।

गिरीश चंद्र त्रिपाठी

बातचीत में देखा जा सकता है कि वीसी गिरिश चन्द्र त्रिपाठी यह जताने की कोशिश की कि उन लाठीचार्ज हुआ ही नहीं। जबकि इससे पहले लड़कियों से हुई अभ्रदता और प्रर्दशन के वीडियो सोशल मीडिया पर देखें जा सकते है।

बातचीत के दौरान वीसी गिरिश चन्द्र त्रिपाठी ने बेहद शर्मनाक बयान देते हुए लड़कियों को लताड़ लगाई कि तुमने धर्म का पालन नहीं किया और एक लड़की की अस्मिता को लेकर बाजार में चली गई।

उनके इस बयान से उस विचारधारा का सहज ही पता चल जाता है जिसका वो पालन करते दिख रहे है। लड़कियों के प्रति वीसी गिरिश चन्द्र त्रिपाठी की इस तरह की मानसिकता रखना बेहद चितांजनक है।

लाठीचार्ज के 4 दिन बाद गर्ल्स हॉस्टल पहुंचे थे वीसी, कहा- 65 संवेदनशील जगह लगेंगे CCTV। आपको बता दे कि 21 सितंबर को छात्रों के साथ हिंसा की वारदात हुई। थी। आरोप है कि आर्ट्स फैकल्टी की एक स्टूडेंट के साथ तीन लड़कों ने छेड़छाड़ की थी जिसके बाद लड़कियों का कहना है कि इस घटना की शिकायत वार्डन और चीफ प्रॉक्टर से करने पर भी कोई एक्शन नहीं लिया गया। उलटे, लड़कियों को रात में होस्टल से बाहर न निकलने की हिदायत दी गई।

इस घटना के विरोध में सैकड़ों गर्ल्स स्टूडेंट्स सिक्युरिटी की मांग को लेकर 22 सितंबर की सुबह से धरने पर बैठ गईं उन्हें रोकने की कोशिश नाकाम होने के बाद पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया। इसमें एक लड़की समेत तीन स्टूडेंटस जख्मी हुए थे।

इस मामले में बनारस के स्थानीय प्रशासन ने यूनिवर्सिटी प्रबंधन पर निशाना साधते हुए कहा था कि उन्होंने छात्रों की समस्या सुनी नहीं, वरना इसका समाधान आसानी से किया जा सकता है। वहीं यूनिवर्सिटी स्टाफ ने हॉस्टल में कथित तौर पर जबरन पुलिस की एंट्री कर छात्राओं और स्टाफ मेंबर्स के साथ मारपीट करने पर सवाल उठाए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here