उत्तर प्रदेश: उन्नाव के बाद फतेहपुर की रेप पीड़िता ने भी इलाज के दौरान तोड़ा दम, दरिंदों ने जला दिया था जिंदा

0

उत्तर प्रदेश के फतेहपुर की दुष्कर्म पीड़िता की इलाज के दौरान गुरुवार को मौत हो गई, पीड़िता का इलाज कानपुर के अस्पताल में चल रहा था। आरोप है कि जिले के हुसैनगंज थाना क्षेत्र के एक गांव में बीते 14 दिसंबर को एक युवती को कथित रूप से दुष्कर्म करने के बाद आग लगा दी गई थी। करीब 90 फीसदी तक झुलसी युवती को गंभीर हालत में कानपुर के हैलट अस्पताल में भर्ती कराया गया था। दो दिन पहले हालत बिगड़ने की वजह वो कोमा में चली गई थी।

उत्तर प्रदेश

आपातकालीन चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर विनय कुमार के बताया कि गुरुवार सुबह पीड़िता ने अंतिम सांस ली। समाचार एजेंसी आईएएनएस की रिपोर्ट के मुताबिक, डॉक्टरों ने बताया कि, “भर्ती होने के बाद से ही उसका ब्लड प्रेशर और नब्ज गिर रही थी, जिसके बाद उसे वेंटिलेटर पर रखना पड़ा था। उस पर कोई एंटीबायोटिक असर नहीं कर रही थी। शरीर मे सूजन से सांस की नलियां सिकुड़ चुकी थीं। फेफड़ों में संक्रमण बढ़ने से उसे बचा पाना और मुश्किल हो गया था।”

पुलिस के अनुसार, हुसैनगंज क्षेत्र के एक गांव में रिश्ते में चाचा-भतीजी के बीच पिछले साल से प्रेम प्रसंग चल रहा था। युवती अपने चाचा से शादी करने पर अड़ी थी, लेकिन परिजनों ने इसका विरोध किया। इस बात पर 14 दिसंबर की सुबह युवक-युवती और दोनों परिवारों की मौजूदगी में गांव में पंचायत हुई। लड़की के पिता ने बदनामी की बात कह रिश्ते को नकारते हुए पंचों से अपील की कि ‘लड़की की शादी होने तक लड़के को गांव से बाहर रहने का फरमान सुना दिया जाए। साथ ही वे कभी नहीं मिलेंगे।’

पंचायत के आदेश से दुखी युवती वहां से करीब 25 कदम दूर अपने घर गई और कुछ देर बाद वह लपटों से घिरी हुई बाहर निकली। उसे देख तुरंत पुलिस को सूचना दी गई और एंबुलेंस बुलाकर उसे जिला अस्पताल भेजा गया। जहां से उसे कानपुर के एलएलआर (हैलट) अस्पताल रैफर कर दिया गया। गांव के प्रधान ने पंचायत की बात स्वीकार की है। युवती के भाई ने पुलिस को दो तहरीर दी। उसने पहली तहरीर में लिखा था कि उसकी बहन से शुक्रवार रात 11 बजे दुष्कर्म किया गया, जिससे दुखी होकर उसने खुद को आग लगा ली। दूसरी तहरीर में उसने लिखा कि घर में अकेली बहन से युवक ने दुष्कर्म किया। इसके बाद उसने बहन को जला दिया।

जिलाधिकारी संजीव सिंह के अनुसार, पीड़िता और आरोपी के बीच प्रेम संबंध थे। परिजनों ने उनकी शादी का विरोध किया। पंचायत के इनकार के बाद पीड़िता ने केरोसिन डाल खुद को आग लगा ली। उन्होंने माना कि पीड़िता के भाई ने पुलिस को दो तहरीर दीं। आरोपी के खिलाफ दुष्कर्म और घर में घुसकर हमले की एफआईआर दर्ज की गई। वहीं पुलिस अधीक्षक (एसपी) प्रशांत वर्मा ने बताया, “भाई ने रिश्ते के चाचा पर दुष्कर्म कर युवती को जिंदा जलाने का आरोप लगाया है। इस मामले में भाई की तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है। साक्ष्यों के आधार पर कार्रवाई की जा रही है।”

गौरतलब है कि, उन्नाव जिले के बिहार थाना क्षेत्र में इसी तरह पांच दिसंबर को एक दुष्कर्म पीड़िता को पांच आरोपियों ने आग के हवाले कर दिया था, जिसकी उपचार के दौरान दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में मौत हो गई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here