मोदी के मंत्री गिरिराज सिंह बोले- ‘यह ख्वाजा नहीं, भारत माता का हिंदुस्तान है’

0

कई बार विवादास्पद बयान देकर सुर्खियों में रहने वाले मोदी सरकार में केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह एक बार फिर विवादित बयान देकर नए विवाद को जन्म दे दिया है। अपने संसदीय क्षेत्र नवादा (बिहार) पहुंचे गिरिराज सिंह ने कहा है कि गली-मोहल्ले में विभाजन की लकीर खींची जा रही है। उन्होंने कहा कि अकबरपुर में ताजिया जुलूस में बैनर में लिखा था कि यह ख्वाजा का हिंदुस्तान है। लेकिन यह ख्वाजा का नहीं, भारत माता का हिंदुस्तान है।

File Photo: Hindustan Times

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, गिरिराज सिंह ने कहा कि सामाजिक समरसता, भारत माता और वंदे मातरम हमारा मूलमंत्र है। उन्होंने कहा कि भारत का विभाजन नहीं होने देंगे। जो लोग ख्वाजा का हिंदुस्तान बनाना चाहते हैं, उन्हें हाथ जोड़कर कहना चाहता हूं कि ख्वाजा का हिंदुस्तान बनाने वाले 1947 में ही पाकिस्तान चले गए थे। अब भारत का विभाजन नहीं होने देंगे।

इस दौरान गिरिराज ने यह भी आरोप लगाया कि नवादा में दुर्गा पूजा के दौरान दो पक्षों में संघर्ष के बाद हिंदुओं को प्रताड़ित किया जा रहा है। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि कबरपुर के लोग धन्यवाद के पात्र हैं जो प्रतिमा खंडित होने के बावजूद शांति कायम किया। ऐसे लोगों को प्रशासन को पूजना चाहिए। लेकिन गलत तरीके से केस में नाम डाला जा रहा है।

NBT के मुताबिक, केंद्रीय मंत्री ने कहा कि गली-मोहल्ले में विभाजन की लकीर खींची जा रही है। अकबरपुर में ताजिया जुलूस में बैनर में लिखा था कि यह ख्वाजा का हिंदुस्तान है। लेकिन यह ख्वाजा का नहीं भारत माता का हिंदुस्तान है। बता दें कि राजस्थान के अजमेर में सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की मशहूर दरगाह है। यह दरगाह सदियों से भाईचारे और अमन का पैगाम देती चली आ रही है।

गिरिराज ने आगे कहा कि अगर निर्दोषों को न्याय नहीं मिला तो जनता के बीच जाकर निर्णय लेंगे। उन्होंने कहा कि शांति समिति की बैठक में बहुसंख्यक की अनदेखी होती है। रिपोर्ट के मुताबिक दरअसल केंद्रीय मंत्री का यह बयान उस पोस्टर को लेकर आया है जिसमें नवादा के अकबरपुर इलाके में एक पोस्टर पर ‘ख्वाजा का हिंदुस्तान’ लिखा हुआ था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here