गाजीपुर रेप केस में ग्राउंड रिपोर्ट: पढ़िए इस मामले की पूरी तहकीकात, जो किसी अन्य मीडिया रिपोर्ट में आपको नहीं मिलेगी

0

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के गाजीपुर इलाके की रहने वाली 10 साल की नाबालिग लड़की से कथित दुष्कर्म का मामला जोर पकड़ता जा रहा है। दरअसल, पीड़िता बच्ची हिंदू है और अभियुक्त मुसलमान। वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने मामले की गंभीरता को देखते हुए जांच का जिम्मा अपराध शाखा (क्राइम ब्रांच) को सौंप दिया है। इस रेप केस में मुख्य आरोपी मदरसे का एक नाबालिक छात्र है जिसकी उम्र 17 वर्ष बताई जा रही है। इसके अलावा मदरसे के मौलवी को भी कथित तौर पर आरोपी बताया जा रहा है।

प्रतीकात्मक तस्वीर।

मदरसे में बच्ची के कथित रेप केस में दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने शुक्रवार (27 अप्रैल) को आरोपी मौलवी को गिरफ्तार कर लिया है, जिसके मदरसे में कथित तौर पर 10 वर्षीय बच्ची से बलात्कार हुआ था। मदरसे के मौलवी (35) की गिरफ्तारी पॉक्सो एक्ट में की गई है। इस घटना का मुख्य नाबालिग (17) आरोपी पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है। पीड़िता के परिवार ने आरोप लगाया है कि मदरसे में कुछ अन्य लोगों ने भी बच्ची के साथ गैंगरेप किया। उनकी पहचान की कोशिशें जारी है।

क्या है मामला?

कम शब्दों में केस जानें तो दिल्ली के गाजीपुर की रहने वाली करीब 10 साल की नाबालिग लड़की 21 अप्रैल 2018 की शाम को अचानक अपने घर के पास से लापता हो गई थी। घरवालों ने बच्ची को बहुत ढूंढा लेकिन वो नहीं मिली। इसके बाद परिजनों ने उसी शाम गाजीपुर पुलिस को घटना की सूचना दी। खोजबीन के बाद पता चला कि, लड़की साहिबाबाद के एक मदरसे में है। जिसके बाद 22 अप्रैल की शाम को पुलिस ने मदरसे पर रेड की और बच्ची को छुड़ाया। जब पीड़िता को मदरसे से छुड़ाने के लिए पुलिस वहां पहुंची थी तो वह छत पर चटाईयों के ढेर में पाई गई थी।

‘जनता का रिपोर्टर’ का ग्राउंड रिपोर्ट

देश में मौजूदा राजनीतिक माहौल में कई लोगों के लिए बलात्कार पीड़िता और आरोपी का धर्म शायद अधिक महत्वपूर्ण हो गए हैं। गाजीपुर में 10 साल की बच्ची के कथित बलात्कार का मामला इसका ताजा उदाहरण है। पीड़ित परिवार हिंदू है और आरोपी मुसलमान है। ये सारी जानकारी सियासी पार्टियों के लिए राजनीति चमकाने के लिए सबसे उत्तम मौके की तरह है। इस घटना के विरोध में BJP-RSS सहित कई हिंदू संगठनों द्वारा कैंडल मार्च निकाला जा रहा है। गुस्साई भीड़ ने घटना के विरोध में पूर्वी दिल्ली के गाजीपुर थाने का घेराव भी किया।

मीडिया रिपोर्टों में इस घटना को लेकर अलग-अलग दावा किया जा रहा है, जो काफी उलझा हुआ है। जिस वजह से ‘जनता का रिपोर्टर’ की टीम ने दो दिन तक इस मामले की पूरी तहकीकात की और सच्चाई सामने लाने की कोशिश की। हमारी टीम ने बलात्कार पीड़िता के परिवार और अभियुक्त के परिवार दोनों का पक्ष लिया है। दोनों पक्षों ने हमसे बातचीत में इस मामले को सांप्रदायिक रंग ना देने की गुजारिश की। दोनों पक्षों ने हमसे बातचीत में जो आरोप और दावे किए हैं उसे हम आपके सामने हूबहू रख रहे हैं।

मौलवी के घर के बाहर मौजूद पुलिसकर्मी (PHOTO: JKR)

पीड़ित परिवार ने लगाए कई गंभीर आरोप

पूर्वी दिल्ली की तंग गलियों से होते हुए हमारी टीम पीड़िता बच्ची के घर पहुंची। चौथे माले पर बने घर में पहुंचने के लिए एकदम खड़ी सीढ़ियों से होकर जाना पड़ा। दरवाजा बंद था जिसे हमने खटखटाया तो जाली की दूसरी ओर एक महिला दिखाई दी। हमने उन्हें बताया कि हम पत्रकार हैं तो उन्होंने हमें इंतजार करने को कहा। हम दरवाजे पर खड़े थे तभी बाहर से बच्ची के मामा आ गए। “ये (गाली देते हुए) FIR की कॉपी नहीं दे रहे हैं” वे किसी से फोन पर कह रहे थे। तभी हमने उन्हें बताया कि हम ‘जनता का रिपोर्टर’ से हैं, बच्ची के बारे में कुछ बातचीत करनी है।

‘हां बताओं यार’ यह कहते हुए वह दरवाजे की सीढ़ियों पर ही बैठ गए और हमसे सवाल पूछने को कहा। वह काफी परेशान दिखाई दे रहे थे। पीड़िता के मामा ने हमसे बातचीत में मदरसे के मौलाना पर कई गंभीर आरोप लगाए। मामा का आरोप है कि मदरसे के मौलाना ने बच्ची को योजना बनाकर अगवा करवाया और उसके साथ 3-4 लोगों ने गैंगरेप किया। बच्ची की हालत के बारे में उन्होंने बताया कि, “बच्ची की हालत काफी खराब है, वो अभी भी लेटी हुई है। खाती पीती नहीं है, खिलाने के लिए बहुत जोर जबरदस्ती करनी पड़ती है।”

उन्होंने दावा किया कि 21 अप्रैल की दोपहर उनकी गुड़िया (भांजी) पनीर, दूध और कुरकुरे खरीदने घर से नीचे गई थी।तभी बच्ची को आरोपी लड़के ने फोन कर बताया कि तुम्हारी सहेली यहां पास ही में तुम्हारा इंतजार कर रही है आकर उससे मिल लो। मामा के मुताबिक वह लड़का अपने आप को बच्ची की सहेली का भाई बताता था। मामा ने दावा किया जब काफी देर तक बच्ची वापस घर नहीं लौटी तो उसके छोटे भाई ने इसकी जानकारी परिवार को दी और उसके बाद बच्ची की खोजबीन शुरू हुई। मोबाइल ट्रैकिंग की मदद से उसे अगले दिन यानी 22 अप्रैल की शाम को साहिबाबाद के मदरसे से बरामद किया गया।

‘मौलवी ने करवाया किडनैप’

मामा का आरोप है कि मौलवी ने साजिश के तहत बच्ची को किडनैप करवाया और इस पूरे घटनाक्रम में वह शामिल थे। मदरसे के उस दावों को मामा ने खारिज कर दिया है कि मौलवी तीन दिन से बाहर थे और उन्हें इस बारे में जानकारी नहीं थी। मामा ने कहा कि, “बीटिया जब वहां पहुंची तो मौलाना अंदर था, गुड़िया को वह यहां से किडनैप करके लेकर गए हैं। ये टोटल प्री-प्लानिंग थी। ये दोनों लोग (बच्ची के माता-पिता) वहां (साहिबाबाद स्थित मौलाना के घर के पास) रहते थे और जॉब करते हैं। यह लोग कब आ-जा रहे हैं मौलाना को इसकी पूरी जानकारी थी।”

मामा ने दावा किया कि, उनकी बच्ची को ड्रग्स भी दिया गया है और उसे एक लकड़ी के ढेर में रखा गया था। मामा का दावा है कि बच्ची ने उन्हें बताया कि मौलाना ने बच्चे (नाबालिक आरोपी) को बुलाकर पानी और बिस्कुट दिया था जिसे पीने के बाद बच्ची को नींद आने लगी। इसके बाद वह सो गई और उसके साथ क्या-क्या हुआ उसे कुछ भी पता नहीं चला। मामा ने आरोप लगाया कि मौलाना के संरक्षण में बच्ची के साथ चार लोगों ने गैंगरेप किया।

‘राजनीति ना करें पार्टियां’

मामा ने कहा कि जिस बच्ची के फोन से कथित तौर पर उनकी भांजी को बुलाया गया था उसे पुलिस ने अभी तक बरामद नहीं किया है। उन्होंने पार्टियों से गुजारिश करते हुए कहा कि इसमें कोई भी राजनीति ना करे और हिंदू-मुस्लिम, सिख-ईसाई सभी कौम के लोग बच्ची को इंसाफ दिलाने के लिए सामने आएं। मामा ने बताया कि बच्ची का परिवार मौलाना के घर के पास करीब तीन साल तक रह चुका है और 18 अप्रैल 2018 को उन्होंने वहां से गाजीपुर शिफ्ट किया था। उन्होंने कहा कि मौलाना को फांसी मिलनी चाहिए।

जानिए कैसा है मदरसा और मौलाना के पक्ष में क्या किया गया दावा?

साहिबाबाद स्थित मदरसा एक अधूरी सी इमारत है, जिसकी दीवारें देखकर लगता है जैसे कुछ हिस्सों पर कुछ समय पहले ही प्लास्टर किया गया हो। मदरसा करीब 60 से 80 गज के प्लॉट पर बना हुआ है, जो दो मंजिला है। हमारी टीम जब मदरसे में पहुंची तो शक्रवार का दिन होने की वजह से वहां करीब 20-25 लोग नमाज अदा कर रहे थे। नमाज के बाद वहां रहने वाले एक शख्स ने बताया कि इस मदरसे में करीब 13-14 बच्चों को मौलवी तालीम देते हैं।

वह मदरसा जहां से रेप पीड़िता को छुड़ाया गया (PHOTO: JKR)

मदरसे के बाहर मीडिया के अलावा पड़ोसी और कुछ तमाशबीन जमा थे। जमीनी मंजिल पर वुजू करने के पानी की व्यवस्था के अलावा नमाज पढ़ने के लिए जगह थी। सीढ़ी से ऊपर जाकर पहली मंजील पर एक बड़ा हॉल था जहां कुछ चटाइयां जमीन पर बिखरी पड़ी थीं, जबकि कुछ सलीके से किनारे रखी हुई थीं। मदरसे से करीब 400 से 500 मीटर की दूरी पर ही मौलवी का घर है। जहां फिलहाल ताला लगा हुआ था। मौलवी की पत्नी चार दिन पहले ही ताला लगाकर अपने माता-पिता के घर जा चुकी हैं।

मदरसे में मौजूद अपने आप को सामाजिक कार्यकर्ता बताने वाले मोहम्मद कल्लू कादरी आरोपी मौलाना का पक्ष रखते हुए हमसे बातचीत में मीडिया के प्रति काफी नाराज दिखाई दिए। मोहम्मद कादरी ने कहा कि, “हिंदुस्तान में मीडिया सवा सौ करोड़ लोगों की दिल की धड़कन है। मीडिया इस तरह (मौलाना ने बच्ची से किया रेप) की बात करता है तो बहुत दुख होता है। मीडिया पर हमे विश्वास है, क्योंकि मीडिया सेक्युलर है।” उन्होंने दावा किया बच्ची अपनी मर्जी से नाबालिक लड़के के साथ आई थी और मौलाना को इस बारे में जानकारी नहीं थी।

कादरी ने दावा किया, “लड़की और लड़का दोनों करीब 13-13 साल के हैं और दोनों के बीच में आपसी संबंध थे। दोनों अपनी सहमति से यहां (मदरसे) आए थे और मौलाना यहां नहीं थे। वह अपने जलसे की तैयारी में लगे हुए थे जो 28 अप्रैल को होने वाला था।” उन्होंने कहा, “मौलाना तीन दिन बाद 22 अप्रैल को यहां आए और पड़ोसी के साथ बैठकर चाय पी रहे थे, तभी पुलिस आई और मौलाना से लड़की के बारे में जानकारी मांगी, तो मौलाना ने पुलिस को बताया कि उन्हें लड़की के बारे में जानकारी नहीं है आप लोग अंदर जाकर देख सकते हैं।”

उन्होंने आगे कहा, “जब पुलिस ने आरोपी लड़के को डांटा तो वह उन्हें लड़की के पास लेकर गया, जहां उसने लड़की छूपा रखी थी। जिसके बाद पुलिस लड़की बरामद कर यहां (मदरसे) से लेकर गई।” मौलवी को निर्दोष बताते हुए कादरी ने कहा, “मौलाना का इसमें ना तो कोई दुष्कर्म का रोल था और ना ही उनकी गलती थी। मौलाना को लड़की के बारे में कोई जानकारी नहीं थी। मगर मीडिया का हेडलाइन पढ़कर हमें बड़ा अफसोस हो रहा है, क्योंकि मीडिया को पूरी दुनिया देखती है।’

‘अगर मौलाना दोषी हैं तो उन्हें फांसी हो’

मीडिया के प्रति नाराजगी व्यक्त करते हुए कादरी ने कहा, “मेरी मीडिया से गुजारिश है कि वह इस मामले की सच्चाई दिखाए। अगर मौलाना दोषी हैं तो उन्हें फांसी की सजा होनी चाहिए। और यदि मौलाना निर्दोष हैं तो उन्हें सजा नहीं मिलनी चाहिए। जो लड़का इसमें दोषी है उसे सजा मिलनी चाहिए। हम उसके साथ नहीं है। यहां करीब 13-14 छोटे-छोटे बच्चें पढ़ते हैं। बस एक वही लड़का (आरोपी) बड़ा था।”

मौलाना के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, “हमे मौलाना के बारे में पांच दिन से कोई खबर नहीं है। पुलिस का कहना है कि हमने मौलाना को क्राइम ब्रांच के हवाले कर दिया है, जबकि हम लोग जब क्रांइम ब्रांच के पास गए तो उन्होंने कहा कि हमे मौलवी की जानकारी नहीं है। हमे पुलिस एक जगह से दूसरी जगह भेज रही है। हम इस बारे में SSP-DM और कमिश्नर से भी मुलाकात करेंगे। जो भी दोषी हो उसे सजा मिलनी चाहिए, हम भी सजा के पक्ष में है।”

‘आरोपी का कोई धर्म नहीं होता’

उन्होंने आगे कहा, “हमें इस मामले में साजिश नजर आ रही है। अगर मीडिया इस तरह का न्यूज चला रही है तो देश में क्या संदेश जाएगा? हम मीडिया को बहुत पवित्र मानते हैं। मेरी गुजारिश है कि मीडिया इस तरह की न्यूज ना चलाए। मीडिया बंधुओं से हम गुजारिश करते हैं कि देश में अमन कायम रखें। चाहें हिंदू हो या मुसलमान… शरारतियों का कोई धर्म नहीं होता। इस मामले को धार्मिक रंग देने की कोशिश की जा रही है। हम चाहते हैं कि हिंदुस्तान में अमन कायम रहे। हम हिंदू भाईयों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर दोषी को सजा दिलाने के लिए तैयार हैं।”

आरोपी मौलवी के घर पर तोड़कर, पत्नी ने जताई नाराजगी

हमारी टीम जब मदरसे में मौजूद थी तभी वहां 35 साल के मौलवी की पत्नी पहुंचती हैं और हमें बताती हैं कि उनके घर पर कुछ असामाजिक तत्वों ने तोड़फोड़ की है। मौलवी की पत्नी हमें साथ लेकर अपने घर गईं, जहां तोड़फोड़ के बाद पुलिस ने मौलवी के घर पर अपना ताला लगा दिया था। स्थानीय लोगों के मुताबिक शुक्रवार (27 अप्रैल) सुबह मौलवी के घर के बाहर कुछ लोग इकट्ठा हुए और घर का ताला तोड़ दिया। घर के अन्य हिस्सें में भी तोड़फोड़ की गई।

मौलवी की पत्नी चार दिन पहले ही ताला लगाकर अपने माता-पिता के घर जा चुकी हैं। पत्नी का दावा है कि सुबह करीब 11 बजे जब वह अपनी मां के घर नमाज पढ़ रहीं थीं तभी उन्हें उनके घर में तोड़फोड़ की जानकारी मिली। मां का घर मौलवी के घर के आसपास ही है। तोड़फोड़ की खबर मिलते ही वह अपने माता-पिता के साथ फौरन अपने घर पहुंची। मौलवी की पत्नी का कहना है कि उनके पति बेगुनाह हैं, लेकिन कुछ लोगों और मीडिया का कहना है कि पति ने ही यह अपराध किया है।

 

 

 

 

Pizza Hut

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here