अंबाती रायुडू ने क्रिकेट से लिया संन्यास तो चयनकर्ताओं पर जमकर बरसे BJP सांसद गौतम गंभीर

0

मौजूदा विश्व कप के लिए अनदेखी किए जाने के बाद भारतीय मध्यक्रम बल्लेबाज अम्बाती रायुडू ने बुधवार को बिना कारण बताए क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास ले लिया। आंध्र के इस 33 साल के खिलाड़ी को ब्रिटेन में चल रहे विश्व कप के लिए अधिकारिक स्टैंडबाई सूची में रखा गया था, लेकिन आलराउंडर विजय शंकर के चोटिल होने के बाद उसकी अनदेखी की गई। टीम प्रबंधन के जोर देने के बाद सलामी बल्लेबाज मयंक अग्रवाल को भारतीय टीम में शामिल कर लिया गया और पता चला है कि रायुडू इन घटनाओं से काफी निराश हो गए।

Photo: IANS

भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज और भारतीय जनता पार्टी के सांसद गौतम गंभीर ने बुधवार को अंबाती रायुडू के खेल के सभी प्रारूपों से संन्यास लेने के बाद एमएसके प्रसाद की अगुआई वाली सिलेक्शन कमिटी को निशाना बनाते हुए कहा कि पांच चयनकर्ताओं ने मिलकर इतने रन नहीं बनाए जितने रायुडू ने अपने करियर में बनाए। मौजूदा आईसीसी विश्व कप के लिए भारतीय टीम से अनदेखी के बाद रायुडू ने बीसीसीआई को लिखे ईमेल में बिना कारण स्पष्ट किए खेल के सभी प्रारूपों से संन्यास की घोषणा की।

गंभीर ने कहा, ‘मेरे अनुसार इस विश्व कप में चयनकर्ताओं ने पूरी तरह से निराश किया। रायुडू का संन्यास लेने का फैसला उनके कारण है और इसके लिए उनकी फैसला करने का कौशल जिम्मेदार है।’ भारत के लिए 58 टेस्ट और 147 वनडे खेलने वाले गंभीर ने चयनकर्ताओं को निशाना बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ते हुए कहा कि पांच चयनकर्ताओं ने मिलकर उतने रन नहीं बनाए जितने रायुडू ने अपने करियर में बनाए।

अब भारतीय जनता पार्टी के सांसद गंभीर ने कहा, ‘पांच चयनकर्ताओं ने मिलकर उतने रन नहीं बनाए, जितने रायुडू ने अपने करियर में बनाए। उसके संन्यास को लेकर मैं बेहद दुखी हूं। ऋषभ पंत और मयंक अग्रवाल को विश्व कप में चोटिल खिलाड़ियों की जगह चुना गया और रायुडू की जगह अगर कोई और होता तो उसे भी इतना ही बुरा लगता।’

गंभीर ने संन्यास लेने के रायुडू के फैसले को भारतीय क्रिकेट के लिए दुखद लम्हा बताया। इस पूर्व सलामी बल्लेबाज ने कहा, ‘उनकी तरह का क्रिकेटर जो आईपीएल और देश के लिए इतना अच्छा खेला हो, तीन शतक और 10 अर्धशतक जड़े हों और इसके बावजूद अगर खिलाड़ी को संन्यास लेना पड़े तो यह भारतीय क्रिकेट के लिए दुखद क्षण है।’

रायुडू ने भारत के लिए 55 एकदिवसीय अंतराष्ट्रीय मैचों में 47.05 की औसत से 1694 रन बनाए। भारतीय कप्तान विराट कोहली ने कुछ महीने पहले चौथे नंबर के लिये रायुडू के नाम को तरजीह दी थी लेकिन टूर्नामेंट के लिये चुनी गयी अंतिम टीम में रायुडू की अनदेखी की गयी और शंकर को चुना गया।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here