पत्रकार गौरी लंकेश हत्याकांड: SIT को मिली बड़ी कामयाबी, हिन्दू युवा सेना से जुड़ा एक शख्स गिरफ्तार

0

हिंदुत्ववादी राजनीति पर मुखर नजरिया रखने वाली बेंगलुरु की 55 वर्षीय वरिष्ठ पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या के मामले की जांच कर रहे विशेष जांच दल (एसआईटी) को बड़ी सफलता मिली है।

Photo: AFP

जनसत्ता.कॉम में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, एसआईटी ने शुक्रवार (2 मार्च) को 37 वर्षीय केटी नवीन कुमार को गौरी लंकेश की हत्या के मामले में गिरफ्तार किया। पुलिस के द्वारा 18 फरवरी को अवैध रूप से हथियार रखने के आरोप में गिरफ्तार किए गए केटी नवीन कुमार को इस मामले में पहला आरोपी माना गया था। एसआईटी ने बेंगलुरु की एक मजिस्ट्रेट कोर्ट को मांड्या के मद्दूर में रहने वाले केटी नवीन कुमार के खिलाफ हत्या से जुड़े साक्ष्य बरामद होने की जानकारी दी और उसे दबोच लिया।

रिपोर्ट के मुताबिक, एसआईटी ने कोर्ट को यह भी बताया कि आरोपी के खिलाफ अवैध हथियार रखने को लेकर जांच चल रही थी, जिसके लिए उसे 18 फरवरी को गिरफ्तार किया गया था। केटी नवीन कुमार की गिरफ्तारी के लिए एसआईटी ने पहले वॉरंट की मांग की थी।

जनसत्ता.कॉम में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, अवैध असलहों के केस में पुलिस हिरासत में जाने के बाद केटी नवीन कुमार के कुछ मित्रों ने उसके गौरी लंकेश की हत्या से जुड़े होने को लेकर स्वैच्छिक बयान दिए थे। जब कुमार को महानगरीय मजिस्ट्रेट के समक्ष प्रस्तुत किया गया तब एसआईटी ने कोर्ट को गौरी लंकेश की हत्या में शामिल होने को लेकर कुमार के दिए गए इकबालिया बयान की मुहरबंद कॉपी सौंपी। एक सहायक सरकारी अभियोजक निर्मला रानी ने कोर्ट में नवीन कुमार को आठ दिनों की हिरासत में भेजने के लिए याचिका लगाई थी ताकि बड़े षणयंत्र और हत्याकांड में इस्तेमाल किए गए सामान से पर्दा उठ सके।

एक सहायक सरकारी अभियोजक निर्मला रानी ने कोर्ट में नवीन कुमार को आठ दिनों की हिरासत में भेजने के लिए याचिका लगाई थी ताकि बड़े षणयंत्र और हत्याकांड में इस्तेमाल किए गए सामान से पर्दा उठ सके। निर्मला रानी ने बताया कि फिलहाल एक आरोपी का नाम इस मामले में सामने आया है। जांच के बाद और लोगों के नामों से पर्दा उठेगा, इस संदिग्ध को सीसीटीवी फुटेज के आधार पर खोजा गया।

रिपोर्ट के मुताबिक, नवीन को 18 फरवरी को पश्चिम बेंगलुरु में अपपरपेट थाने के अधिकार क्षेत्र में गिरफ्तार किया गया था, उसके खिलाफ क्राइम ब्रांच के एक अधिकारी ने शिकायत की थी कि वह शहर के बस अड्डे में प्रतिबंधित गोलियां ले जा रहा था। अपपरपेट केस की जांच में सामने आया कि कुमार ने अपने मद्दूर के कुछ दोस्तों से असलहा-बारूद के बारे में बातें करते वक्त गौरी लंकेश की हत्या से जुड़े होने के संकेत दिए थे। जांच में पता चला कि कुमार कट्टरपंथी हिंदुत्व संगठन हिन्दू युवा सेना से जुड़ा था। उसके संबंध सनातन संस्था संगठन और उससे संबंधित हिन्दू जनजाग्रति समिति से भी मिले।

गौरतलब है कि, पिछले साल 5 सितम्बर को 55 साल की गौरी लंकेश की हत्या उनके बेंगलुरु में राजराजेश्वरी नगर घर पर बाइक सवार नकाबपोश ने गोली मार कर कर दी थी। कर्नाटक सरकार ने इस सनसनीखेज हत्याकांड की जांच के लिए विशेष जांच दल का गठन करने का फैसला किया है। जांच के लिए विशेष जांच दल का गठन आईजी पुलिस बीके सिंह की देखरेख में कई गई, जिसमें डीसीपी एमए अनुचेथ मुख्य जांच अधिकारी हैं, और तक़रीबन 100 लोगों की टीम इस मामले की जांच कर रही है।

बता दें कि, गौरी लंकेश सांप्रदायिकता और हिंदुत्व की राजनीति के खिलाफ लिखती और बोलती रही हैं। वे कन्नड़ भाषा में अपनी एक साप्ताहिक मैगजीन निकालती थीं, जिसमें वह तीखे तेवर में बीजेपी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधती रहती थीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here