CM योगी के आवास के बाहर खुदकुशी की कोशिश करने वाली युवती के पिता की जेल में मौत, 6 पुलिसकर्मी सस्पेंड, पीड़िता ने BJP विधायक पर लगाया था रेप का आरोप

0

उन्नाव जिले की बांगरमऊ विधानसभा सीट से भारतीय जनता पार्टी(बीजेपी) विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर जिस युवती ने गैंगरेप का आरोप लगा था। अब इस मामले में एक नया मोड़ आ गया है, जिसे जानकर आप भी हैरान हो जाएंगे।

युवती
Photo: Wion

दरअसल, बीजेपी विधायक पर गैंगरेप का आरोप लगाने वाली युवती के पिता की सोमवार सुबह तड़के करीब तीन बजे संदिग्ध हालात में मौत हो गई। एबीपी न्यूज़ की रिपोर्ट के मुताबिक, बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर रेप का आरोप लगाने वाली युवती के पिता सुरेंद्र सिंह (पप्पू सिंह) की संदिग्ध परिस्थियों में मौत हो गई है।

रिपोर्ट के मुताबिक, बताया जा रहा है कि वे जेल में बंद थे। कहा जा रहा है कि जिला अस्पताल लाने पर डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। गैंगरेप पीड़ित युवती के पिता की मौत कैसे हुई, अभी तक इसकी पुष्टि नहीं हो पाई है।

एबीपी न्यूज़ के मुताबिक, युवती के पिता को 3 अप्रैल को मुकदमा वापस ना लेने पर विधायक के भाई ने जमकर पीटा था। बुरी तरह घायल होने के बाद भी पुलिस ने पीड़ित पर ही मुकदमा लिख कर जेल भेज दिया था। महिला ने आरोप लगाया था कि उसके साथ बीजेपी के विधायक कुलदीप सिंह सेंगर और उसके करीबियों ने गैंगरेप किया। जब इसकी शिकायत पुलिस से की तो राजनीतिक दबाव में कार्रवाई नहीं हुई। वहीं विधायक ने आरोपों को खारिज करते हुए इसे साजिश करार दिया है।

टाइम्स नाउ की ख़बर के मुताबिक, इस मामले में कार्रवाई करते हुए उन्नाव एसएसपी ने 6 पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया है। इसके अलावा पीड़िता के पिता को पीटने वाले 4 आरोपियों को भी गिरफ्तार किया गया है। आरोप है कि विधायक के परिजनों ने पीड़िता के पिता की कथित तौर पर पिटाई की थी।

बता दें कि, उन्नाव इलाके की रहने वाली एक युवती और उसके परिवार ने रविवार (8 अप्रैल) को लखनऊ में कथित तौर पर मुख्यमंत्री आवास के बाहर सुसाइड की कोशिश की थी। हालांकि, मौके पर मौजूद पुलिस ने महिला और उसके परिवार को ऐसा करने से रोक लिया।

बीजेपी विधायक पर आरोप लगाते हुए महिला ने बताया था कि, ‘मेरे साथ बीजेपी विधायक ने अपने साथियों संग मिलकर रेप किया। मैंने हर दरवाजा खटखटाया, हर किसी से मदद मांगी मगर किसी ने मेरी नहीं सुनी। उन सभी को गिरफ्तार किया जाए, नहीं तो मैं अपनी जान दे दूंगी।’ महिला ने कहा कि, ‘मैं सीएम योगी आदित्यनाथ के पास भी गई था, मगर कोई सहायता नहीं मिली। हमने जब एफआईआर दर्ज करवानी चाही तो हमें धमकियां मिलने लगीं।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here