झूठा निकला क्लीन गंगा के लिए श्रद्धा के 570 किलोमीटर तैराकी अभियान का दावा!

0

जलपरी के नाम से विख्यात कानपुर की श्रद्धा शुक्ला के बारे में चौंकाने वाली जानकारी सामने आई है। राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता फिल्मकार और वरिष्ठ टीवी पत्रकार विनोद कापड़ी की आने वाली डॉक्यूमेंट्री फिल्म ‘जलपरी’ में इस बात का खुलासा हुआ है कि कानपुर से वाराणसी के गंगा अभियान के दौरान अधिकांश समय नाव पर ही बिताती है।

वह गंगा में तैराकी के लिए उसी वक्त उतरती है, जब या तो कोई घाट आने वाला होता है या आसपास लोगों की भीड़ होती है।

yourstory-shraddha-shukla

फिल्मकार विनोद कापड़ी ने शुक्रवार को एक प्रेस वार्ता में कहा कि वह मुंबई में थे, जब उन्हें पता चला कि कानपुर की एक 12 साल की लड़की श्रद्धा शुक्ला कानपुर से वाराणसी तक गंगा में तैर कर जा रही है और वह एक दिन में 80 से 100 किलोमीटर तैराकी कर रही है।

कापड़ी ने बताया था कि जब वो मुम्बई से अपनी टीम के साथ यहां पहुंचे और श्रद्धा को फिल्म करना शुरू किया तो पाया कि ये लड़की एक बार में सिर्फ 500 मीटर ही तैर पाती है और पूरे दिन में तीन किलोमीटर से ज़्यादा नहीं।  जब भी वो नदी के किनारे लोगों को देखती तो पानी में छलांग लगा कर तैरना शुरू कर देती।

श्रद्धा के पिता ललित शुक्ला ने विनोद कापड़ी के आरोपों पर टाइम्स ऑफ इंडिया से कहा कि कापड़ी को वो वीडियो सबूत दिखाने चाहिए। उन्होंने कहा कि अगर आरोप गलत निकले तो वो कापड़ी के खिलाफ मानहानि का केस करेंगे।

श्रद्धा ने कहा था, ” मैं कानपूर से वाराणसी तक तैरेंगे।  570 किलोमीटर का टारगेट है।  सात दिन का है।  हम नरेंद्र मोदी से कहेंगे कि हम बेटियां भी कुछ कर सकती हैं। “

LEAVE A REPLY