उत्तर प्रदेश: 90 फीसदी तक जली उन्नाव गैंगरेप पीड़िता, डॉक्टर बोले- हालत बेहद नाजुक

0

उत्तर प्रदेश के उन्नाव में बिहार थाना क्षेत्र के सिंदूपुर गांव में रहने वाली सामूहिक बलात्कार की एक पीड़िता को गुरुवार सुबह पांच लोगों ने जिदा जलाने की कथित तौर पर कोशिश की। पिता की सूचना पर पहुंची पुलिस ने पीड़िता को जिला अस्पताल पहुंचाया। यहां पीड़िता की हालत गंभीर देखकर लखनऊ रेफर किया गया है। उधर, पुलिस ने बताया कि मामले में सभी पांच लोगों की गिरफ्तारी की जा चुकी है।

पुलिस ने बताया कि, उन्होंने बताया कि घटना के वक्त पीड़िता अपने मुकदमे की पैरवी में रायबरेली जाने के लिए ट्रेन पकड़ने बैसवारा स्टेशन जा रही थी तभी गौरा मोड़ बिहार मौरांवा मार्ग पर आरोपियों ने इस घटना को अंजाम दिया। उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक ओ पी सिंह ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण घटना है। पीड़िता को लखनऊ के श्यामा प्रसाद मुखर्जी (सिविल) अस्पताल में भर्ती कराया गया है जहां डॉक्टरों ने कहा कि वह 90 फीसदी तक जल गई है और उसकी हालत बहुत गंभीर है।

बीघापुर के क्षेत्राधिकारी गौरव त्रिपाठी ने बताया कि पीड़िता के बयान के आधार पर पांचों अभियुक्तों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। सपा और कांग्रेस ने इस घटना को लेकर योगी आदित्यनाथ सरकार को कटघरे में खड़ा किया है।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने कानून व्यवस्था को लेकर केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह एवं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर हमला बोला है। प्रियंका ने ट्वीट किया कि, ‘कल देश के गृह मंत्री (अमित शाह) और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री (योगी आदित्यनाथ) ने साफ-साफ झूठ बोला कि यूपी की कानून व्यवस्था अच्छी हो चुकी। हर रोज ऐसी घटनाओं को देखकर मन में रोष होता है। बीजेपी नेताओं को अब फर्जी प्रचार से बाहर निकलना चाहिए।’

वहीं सपा ने कहा,‘‘बलात्कार पीड़िता को जलाने का प्रयास उत्तर प्रदेश में चल रहे जंगलराज का नतीजा है। मुख्यमंत्री को शर्म आनी चाहिए और पुलिस महानिदेशक को इस्तीफा देना चाहिए। पीड़िता को अच्छे से अच्छा इलाज मिलना चाहिए और दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए। पीड़िता को सुरक्षा भी मुहैया करायी जानी चाहिए।’’

इस बीच, भाजपा की सहयोगी लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के नेता मनोज पाठक ने कहा कि शासन और प्रशासन सहयोगी पार्टी के कार्यकर्ताओं से संवाद स्थापित नहीं करते और समस्याओं को सुनते नहीं। यही कारण है कि मुख्यमंत्री की लाख कोशिशों के बावजूद राज्य में कानून-व्यवस्था सुदृढ नहीं हो पा रही है ।

मुख्यमंत्री ने लखनऊ मंडलायुक्त और पुलिस महानिरीक्षक को निर्देश दिया कि वे घटनास्थल का तत्काल निरीक्षण कर आज शाम तक अपनी रिपोर्ट सौंपे। (इंपुट: भाषा के साथ)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here