भारतीय फुटबॉल टीम के पूर्व कप्तान सुबीमल चुन्नी गोस्वामी का 82 साल की उम्र में निधन, खेल जगत में शोक की लहर

0

भारत के महान पूर्व फुटबॉलर चुन्नी गोस्वामी का कोलकाता में दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया, वह 82 वर्ष के थे। उन्होंने यहां एक अस्पताल में अंतिम सांस ली। भारतीय खेल जगत के महानायक सुबीमल चुन्नी गोस्वामी के निधन पर सुनील गावस्कर से लेकर सुनील छेत्री तक क्रिकेट और फुटबॉल जगत ने शोक जताया है।

सुबीमल चुन्नी गोस्वामी

उनके परिवार में पत्नी बसंती और बेटा सुदिप्तो हैं। पारिवारिक सूत्रों ने बताया, “उन्हें दिल का दौरा पड़ा था और उन्होंने शाम पांच बजे अंतिम सांस ली।” उनके बेटे सुदीप्तो ने कहा कि उन्हें गुरुवार सुबह अस्पताल में भर्ती कराया गया और शाम को 14 मिनट के अंदर ही उन्हें तीन बार दिल का दौरा पड़ा और फिर इसके बाद उनका निधन हो गया।

गोस्वामी के बेटे ने कहा, “उन्होंने सुबह नाश्ता किया। इसके बाद सामान्य जांच के लिए हम उन्हें अस्पताल ले गए। उन्होंने दोपहर का भोजन किया और दोपहर की झपकी भी ली। लेकिन शाम पांच बजे के आसपास 14 मिनट के अंदर ही उन्हें तीन बार दिल का दौरा पड़ा।” उन्होंने कहा, ” मैं इस समय निशब्द हूं। मैं अकेला हूं।”

गोस्वामी 1962 एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाली भारतीय टीम के कप्तान थे और वह बंगाल के लिए प्रथम श्रेणी क्रिकेट भी खेले थे। वह पिछले कुछ समय से मधुमेह, प्रोस्ट्रेट और तंत्रिका तंत्र संबंधित बीमारियों से जूझ रहे थे। वह आई लीग क्लब मोहन बागान क्लब के लिए भी खेल चुके थे।

उनकी कप्तानी में भारत ने 1962 एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीते थे और 1964 में एशियन कप में उपविजेता भी रहा था। उन्होंने मोहन बागान के लिए 1956 से 1964 तक 50 मैच खेले थे। एक क्रिकेटर के तौर पर उन्होंने 1962 से 1973 तक अपने राज्य के लिए 46 प्रथम श्रेणी क्रिकेट मैच खेले थे। गोस्वामी को 1963 मे अर्जुन अवार्ड से और 1983 में पद्मश्री अवार्ड से नवाजा गया था।

उन्होंने 1968-69 सीजन में रणजी ट्रॉफी में बंगाल का प्रतिनिधित्व किया था। इसके अलावा वह दलीप ट्रॉफी में ईस्ट जोन के लिए भी खेले थे। उन्होंने 46 प्रथम श्रेणी मैचों में 1592 रन बनाए थे। गोस्वामी ने टाटा फुटबाल अकादमी में बतौर निदेशक अपनी सेवाएं भी दी थी।

भारतीय फुटबॉल टीम के पूर्व कप्तान चुन्नी गोस्वामी का कोलकाता में निधन होने पर लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने शोक जताया है। उन्होंने शोक संदेश में कहा कि फुटबॉल और क्रिकेट दोनों खेलों में उनकी उपलब्धियों को याद रखा जाएगा। लोकसभा अध्यक्ष ने ट्वीट कर कहा, “पूर्व फुटबॉलर और प्रथम श्रेणी के क्रिकेटर चुन्नी गोस्वामी के निधन की खबर से दुखी हूं। दोनों खेलों में उनकी उपलब्धियों को हमेशा देश याद रखेगा। उनकी आत्मा को शांति मिले।”

चुन्नी गोस्वामी के निधन पर खेल जगत में शोक, BCCI से लेकर सुनील छेत्री तक ने दी श्रद्घांजलि

सुनील गावस्कर से लेकर सुनील छेत्री तक क्रिकेट और फुटबॉल जगत ने भारतीय खेल जगत के महानायक सुबीमल चुन्नी गोस्वामी को श्रद्धांजलि दी। छेत्री ने ट्वीट किया, “हमने आज भारतीय फुटबाल को रोशनी दिखाने वाला एक चिराग खो दिया है। बहुत कम ही लोग दो खेलों में इतनी ऊंचाइयां छूते हैं। परिवार को मजबूती मिले।”

पूर्व कप्तान भूटिया ने कहा कि भारतीय फुटबाल ने पी.के. बनर्जी और चुन्नी सर के रूप में दो सितारे खो दिए। बनर्जी का पिछले महीने निधन हुआ था। भूटिया ने कहा, “यह काफी बड़ा नुकसान है। यह भारतीय फुटबाल का बुरा दौर है। जब भी भारतीय फुटबाल का जिक्र होगा आप चुन्नी गोस्वामी और पी.के. बनर्जी का नाम लेंगे।” उन्होंने कहा, “मैंने चुन्नी दा से ज्यादा बात नहीं की थी, लेकिन जब मैं मोहन बागान में था तब मैं उनसे मिला था। उनके चेहरे पर हमेशा हंसी रहती थी, वह जेंटलमैन थे।”

बीसीसीआई ने भी उनके निधन पर ट्वीट करते हुए लिखा, “बीसीसीआई सुबीमल चुन्नी गोस्वामी के निधन पर शोक व्यक्त करती है। वह सही मायने में हरफनमौला थे। उन्होंने भारतीय फुटबाल टीम की कप्तानी की थी और 1962 में टीम को एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक दिलाया था। वह बंगाल के लिए प्रथम श्रेणी क्रिकेट खेले थे और टीम को रणजी ट्रॉफी 1971-72 के फाइनल में पहुंचाने में अहम किरदार निभाया था।”

मोहन बागान ने ट्वीट किया, “हम क्लब के महान खिलाड़ी सुबीमल चुन्नी गोस्वामी के निधन पर दुखी हैं। इस मुश्किल समय में हमारी संवेदनाएं और दुआएं उनके परिवार के साथ हैं। भगवान उनकी आत्मा को शांति दे।”

ईस्ट बंगाल ने एक बयान में लिखा, “क्यूईबीएफसी पूर्व अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी सुबीमल चुन्नी गोस्वामी के निधन पर शोक व्यक्त करता है। वह दो खेलों में अपने बेहतरीन योगदान के लिए याद किए जाएंगे। भगवान उनकी आत्मा को शांति दे।”

वहीं बंगाल क्रिकेट संघ (सीएबी) ने भी चुन्नी को श्रद्धांजलि देते हुए लिखा है, “हमें काफी भरे मन से यह बताना पड़ रहा है कि हमें चुन्नी गोस्वामी के निधन का समाचार मिला। यह एक तरह से खेल जगत का नुकसान है।” सीएबी ने बताया, “सीएबी का झंडा शुक्रवार को महान खिलाड़ी के सम्मान में आधा झुका रहेगा।” (इंपुट: आईएएनएस के साथ)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here