उत्तर प्रदेश: पांच साल की चचेरी बहन से युवक ने किया बलात्कार, पुलिस ने गिरफ्तार कर भेजा जेल

0

रेप के दोषियों के खिलाफ कड़े कानून बनने के बावजूद भी देश में महिलाओं और बच्चों के साथ बढ़ते अपराध कम होने का नाम ही नहीं ले रहा है, जिसका ताजा मामला एक बार फिर से देखने को मिला है।

उत्तर प्रदेश

समाचार एजेंसी भाषा की रिपोर्ट के मुताबिक, उत्तर प्रदेश के बहराइच जिले के हुजूरपुर थानाक्षेत्र के एक गांव में मंगलवार को एक युवक ने पांच साल की चचेरी बहन के साथ कथित रूप से दुष्कर्म किया। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। पुलिस अधीक्षक सभाराज ने आज बताया कि थाना हुजूरपुर क्षेत्र के एक गांव में बुधई का पुत्र मनीष (18) अपनी पांच साल की चचेरी बहन को घुमाने के बहाने मोटर साइकिल पर बिठाकर घर से दूर एक निर्जन स्थान पर ले गया।

सभाराज ने बताया कि वहां मनीष ने बच्ची के साथ दुष्कर्म किया और खून से लथपथ बच्ची को लेकर वापस घर पहुंच गया। पहले उसने घर वालों से मामले को दबाने के लिए समझाने की कोशिश की लेकिन बालिका की तबियत बिगड़ते देख वह घर से फरार हो गया।

दुष्कर्म पीड़िता बच्ची के पिता की तहरीर पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है एवं आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेजा दिया गया है।बच्ची को इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। देवीपाटन संभाग के पुलिस उप महानिरीक्षक अनिल राय और पुलिस अधीक्षक सभाराज ने अन्य अधिकारियों के साथ घटनास्थल एवं पीड़ित के गाँव का दौरा किया है।

समाचार एजेंसी भाषा की रिपोर्ट के मुताबिक, बलिया जिले के सुखपुरा थाना क्षेत्र के एक गांव में 15 साल की किशोरी से कथित बलात्कार का मामला सामने आया है। पुलिस ने आज बताया कि किशोरी का पड़ोसी अवनीश सिंह शादी का झांसा देकर उसके साथ पिछले 11 महीने से बलात्कार कर रहा था। पुलिस के अनुसार, किशोरी की माँ की शिकायत पर कल अवनीश के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर उसे गिरफ्तार किया गया। किशोरी को मेडिकल जांच के लिए भेजा गया है।

बता दें कि, जम्मू-कश्मीर के कठुआ जिले के हीरानगर तहसील के रसाना गांव में इसी साल की शुरूआत में जनवरी महीने में आठ साल की बच्ची का अपहरण कर उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया गया और फिर उसकी जघन्य तरीके से हत्या कर दी गई। बच्ची के साथ दरिंदगी और हत्या के मामले में स्थानीय लोगों समेत अब तमाम बड़ी हस्तियों का भी गुस्सा देखने को मिला था। इस घटना की आलोचना देश में ही नहीं बल्कि विदेश के बाहर भी किया गया था।

जिसके बाद सरकार ने बच्चियों के साथ बलात्कार पर एक कड़ा कानून बनाया। इस कानून के तहत 12 साल से कम उम्र के लड़कियों से बलात्कार करने वालों के लिए मौत की सजा का प्रावधान रखा गया। बता दें कि इस कानून के बाद भी देश में मासूम बच्चियों व महिलाओं के साथ बलात्कार की घटनाए रुकने का नाम ही नहीं ले रहीं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here