लखनऊ: KGMU के ट्रॉमा सेंटर में भीषण आग लगने से 5 की मौत, CM योगी ने दिए जांच के आदेश

0
>

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने किंग जार्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (केजीएमयू) के ट्रामा सेंटर में शनिवार(15 जुलाई) को आग लगने की घटना का तत्काल संज्ञान लेते हुए लखनऊ के मण्डलायुक्त को जांच का आदेश दिया। बता दें कि मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, केजीएमयू के ट्रामा सेंटर में शनिवार देर रात आग लग गई। इस भीषण आग से 5 लोगों की मौत हुई है।

(HT Photo)

हालांकि, अस्पताल प्रशासन का कहना है कि दो बच्चों की पहले ही मौत हो चुकी थी, जबकि 3 लोग गंभीर रूप से बीमार थे। अस्पताल प्रशासन की दलील है कि मौत की वजह आग नहीं, बल्कि इलाज बाधित होने से गंभीर मरीजों की मौत हो गई। सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि मुख्यमंत्री ने इस घटना को दु:खद बताते हुए लखनऊ के मण्डलायुक्त को घटना की जांच कर तीन दिन में रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिए।

Also Read:  श्रीनगर लोकसभा उपचुनाव के लिए मतदान जारी, दोपहर 12 बजे तक सिर्फ 1.4 फीसदी वोटिंग

योगी ने कहा कि इसके लिए दोषी व्यक्तियों की जिम्मेदारी निर्धारित किया जाए, जिससे उनके विरुद्ध कार्रवाई की जा सके। साथ ही इस प्रकार की घटना की भविष्य में दोबारा न हो, इसके लिए भी संस्तुतियां दी जाएं। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को तुरन्त मौके पर पहुंचकर राहत एवं बचाव कार्य युद्धस्तर पर चलाने के निर्देश दिए।

Also Read:  थोक महंगाई दर बढ़कर नकारात्मक 3.81 प्रतिशत हुई

योगी ने कहा कि उन्होंने कहा कि स्थिति को सामान्य करने हेतु सभी आवश्यक कार्यवाही सुनिश्चित की जाए। साथ ही सुनिश्चित किया जाए कि वहां पर किसी भी प्रकार की अफरातफरी न फैले। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को वहां पर भर्ती मरीजों की वैकल्पिक व्यवस्था करने के भी निर्देश दिए।

दरअसल, राजधानी के किंग जार्ज मेडिकल विविद्यालय के ट्रामा सेंटर में शनिवार शाम अचानक आग लग गई थी।अधिकारियों ने बताया कि आग इमारत की दूसरी मंजिल पर लगी थी। आग बुझााने के लिए मौके पर दमकल की छह गाड़ियां पहुंचीं।

Also Read:  जम्मू-कश्मीर : पंपोर में एक सरकारी बिल्डिंग पर आतंकवादियों का हमला, एक सैनिक घायल

जिलाधिकारी कौशल राज सिंह ने बताया कि दूसरे तल पर मौजूद सभी मरीजों को सुरक्षित जगहों पर ले जाया गया। एहतियातन अन्य कुछ तल भी खाली करा लिये गये थे। प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने बताया कि मरीजों को अन्य वार्डों में स्थानांतरित किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here