ट्रांसफर से निराश वित्त सचिव सुभाष गर्ग ने मांगा जल्दी रिटायरमेंट, मोदी सरकार ने एक दिन पहले ही उर्जा मंत्रालय में किया था तबादला

0

केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने बुधवार (24 जुलाई) को नौकरशाही में बड़ा फेरबदल करते हुए मौजूदा वित्त सचिव सुभाष चंद्र गर्ग का तबादला ऊर्जा मंत्रालय में कर दिया है। वहीं, निवेश एवं सार्वजनिक संपत्ति प्रबंधन विभाग (डीआईपीएएम) के वर्तमान सचिव अतानु चक्रवर्ती आर्थिक मामलों के विभाग के नए सचिव होंगे। नौकरशाही में किया गया फेरबदल तत्काल प्रभाव से लागू होगा। गर्ग आर्थिक मामलों के विभाग के भी सचिव थे।

आधिकारिक अधिसूचना के अनुसार, वह अब अजय कुमार भल्ला की जगह ऊर्जा सचिव के तौर पर कार्यभार संभालेंगे। भल्ला को गृह मंत्रालय में ओएसडी (ऑफिसर ऑन स्पेशल ड्यूटी) नियुक्त किया गया है। केंद्र सरकार के इस कदम से निराश सुभाष गर्ग जल्दी रिटायमेंट का प्लान बना रहे हैं। एक दिन पहले फाइनेंस सेक्रेटरी (वित्त सचिव) पद से हटाए गए सुभाष गर्ग अब स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति (वीआरएस) लेने जा रहे हैं। बताया जा रहा है कि उर्जा मंत्रालय में भेजे जाने से सुभाष गर्ग निराश हैं।

वित्त मंत्रालय सूत्रों ने समाचार एजेंसी एएनआई को बताया कि सरकार के इस कदम से निराश गर्ग ने जल्दी रिटायरमेंट की अर्जी दाखिल कर दी है। नियमों के मुताबिक, उन्हें तीन महीने तक नोटिस पीरियड सर्व करना होगा या फिर जब तक स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति का उनका आवेदन स्वीकार होता है, तब तक उनको सेवाएं देनी होंगी। एक दिन पहले ही गर्ग का तबादला ऊर्जा मंत्रालय में किया गया था, जिससे निराश उन्होंने स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति की अर्जी दे दी है।

गर्ग के लिए डिमोशन के तौर पर देखा जा रहा यह फेरबदल

दरअसल, इस फेरबदल को गर्ग के लिए डिमोशन के तौर पर देखा जा रहा है, क्योंकि वित्त सचिव का पद नौकरशाही में बेहद प्रतिष्ठित माना जाता है और आमतौर पर यह पद मंत्रालय में सबसे वरिष्ठ अधिकारी को दिया जाता है। हालांकि यह कोई आश्चर्यजनक कदम नहीं है, क्योंकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में राजग (राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन) सरकार ने कोई पहली बार ऐसे फेरबदल नहीं किए हैं।

पहली बार 2014 में मोदी के सत्ता में आने पर सरकार ने तत्कालीन वित्त सचिव अरविंद मायाराम का तबादला पर्यटन विभाग में कर दिया था। गर्ग के वित्त मंत्रालय से तबादले के बाद सरकार अब वर्तमान राजस्व सचिव अजय भूषण पांडेय और वित्तीय सेवा सचिव राजीव कुमार में से किसी एक का चयन वित्त सचिव पद के लिए कर सकती है। रोचक तथ्य यह है कि दोनों वरिष्ठतम अधिकारी हैं जो 21 अगस्त 1984 में भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) में शामिल हुए थे।हालांकि कुमार उम्र में पांडेय से वरिष्ठ हैं। (इनपुट- आईएएनएस के साथ)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here