JNU में हुई हिंसा के बाद सुरक्षा के डर से कई छात्राओं ने यूनिवर्सिटी कैंपस छोड़ा

0

दिल्ली स्थित स्थित जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) में रविवार रात हुई हिंसा के बाद छात्राएं सुरक्षा के डर से सोमवार को परिसर छोड़कर जाने लगीं। कुछ अपने घर लौट गईं और कुछ अपने रिश्तेदारों के यहां चली गई हैं। उन्हें छात्रावास से अपने बैग लेकर बाहर निकलते देखा गया।

JNU

दक्षिणी दिल्ली स्थित विश्वविद्यालय परसिर से बाहर निकल रही कई छात्राओं ने नाम गोपनीय रखने का आग्रह किया और कहा कि उनके परिजन रविवार को हुई हिंसा के बाद उनकी सुरक्षा को लेकर चिंतित हैं।

समाचार एजेंसी पीटीआई की रिपोर्ट के मुताबिक, कोयना छात्रावास की पंचम ने कहा कि वह अपनी सुरक्षा के डर से परिसर छोड़ रही हैं। उन्होंने कहा कि मेरे माता-पिता मेरी सुरक्षा को लेकर चिंतित हैं और वह वापस हरियाणा जा रही हैं। नेपाल की रहने वाली एक छात्रा ने कहा कि उसके माता-पिता ने उससे कैंपस छोड़ने को कहा है। यमुना छात्रावास में रहने वाली एक छात्रा ने कहा कि उसके माता-पिता ने जोर देकर कहा कि वह गुरुग्राम स्थित अपने रिश्तेदारों के घर चली जाए।

हालांकि, यहां कुछ अपवाद भी देखने को मिले जिन्होंने कहा कि वे परिसर छोड़कर नहीं जाएंगी क्योंकि उनकी कुछ जिम्मेदारियां हैं।

गौरतलब है कि, जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) परिसर में रविवार की शाम को उस वक्त हिंसा भड़क गई थी जब लाठियों से लैस कुछ नकाबपोश बदमाशों ने छात्रों तथा शिक्षकों पर हमला किया, परिसर में संपत्ति को नुकसान पहुंचाया जिसके बाद प्रशासन को पुलिस को बुलाना पड़ा। घटना के बाद दिल्ली पुलिस के देरी से पहुंचने पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं।

JNU में हुई हिंसा में तकरीबन 30 छात्र घायल हुए हैं। इस मारपीट में छात्रसंघ की अध्यक्ष आइशी घोष को काफी चोटें आई हैं। मुंबई-पुणे समेत देश के कई हिस्‍सों में बड़ी संख्‍या में लोग JNU में हुई हिंसा के खिलाफ सड़कों पर उतर आए हैं। इस बीच JNU हिंसा मामले में पुलिस ने FIR भी दर्ज कर ली है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here