मार्क जुकरबर्ग का विरोध करने वाले कर्मचारी को फेसबुक ने नौकरी से निकाला, डोनाल्ड ट्रंप की पोस्ट पर एक्शन नहीं लेने से था गुस्सा

0

फेसबुक ने अपने कर्मचारी को नौकरी से इस लिए निकाल दिया, क्योंकि उनके कर्मचारी ने ब्लैक लाइव्स मैटर विरोध के लिए अपने सहकर्मी के साथ सहयोग नहीं करने को लेकर ट्वीट किया। फेसबुक कंपनी में इंजीनियर के रूप में काम करने वाले ब्रैंडन डायल ने ट्वीट किया कि फेसबुक द्वारा विकसित एक ओपन सोर्स वेबसाइट पर ब्लैक लाइव्स मैटर के बैनर से सहकर्मी को जुड़ने के अपील के चलते उन्हें नौकरी से निकाल दिया गया।

फेसबुक

डायल ने अपने ट्वीट में लिखा, ‘मैंने ट्विटर पर अपने साथियों को ब्लैक लाइव्स मैटर के सपोर्ट में खड़े होने के लिए कहा था। मैंने जो कहा है उस पर अब भी कायम हूं। उन्होंने मुझे सफाई देने का मौका भी नहीं दिया।’ फेसबुक ने ब्रैंडन डायल को नौकरी से निकाले जाने की पुष्टि की है। हालांकि, कंपनी ने इस संबंध में ज्यादा जानकारी देने से इनकार कर दिया।

अमेरिका में हुए दंगों को लेकर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने फेसबुक पर एक विवादास्पद पोस्ट डाला था। इस पर फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग ने ट्रंप का बचाव करते हुए इस पोस्ट पर कार्रवाई करने से इनकार कर दिया था। जुकरबर्ग के इस फैसले का उनके कई कर्मचारियों ने विरोध किया था। फेसबुक के कई सीनियर अधिकारियों ने डोनाल्ड ट्रंप पर कार्रवाई करने के मामले में ट्विटर की प्रशंसा की थी, जबकि दूसरी ओर अपनी ही कंपनी की काफी आलोचना भी की थी।

बता दें कि, अमेरिका के मिनीपोलिस में एक अश्वेत नागरिक जॉर्ज फ्लॉयड को एक दुकान में नकली बिल का इस्तेमाल करने के संदेह में गिरफ्तार किया गया था। इसके बाद एक वीडियो वायरल हुआ, जिसमें पुलिस अधिकारी को घुटने से आठ मिनट तक जॉर्ज फ्लॉयड की गर्दन दबाते हुए देखा गया। बाद में फ्लॉयड की मौत हो गई। फ्लॉयड की मौत के बाद पूरे अमेरिका में हिंसक प्रदर्शन हुए। इसको लेकर ट्रंप ने फेसबुक पोस्ट में कहा था ‘जब लूट शुरू होती है, तो शूटिंग शुरू होती है।’ (इंपुट: एजेंसी के साथ)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here