चुनाव से पहले वसुंधरा राजे को एक और बड़ा झटका: मानवेंद्र सिंह के बाद अब किसान नेता रामपाल जाट BJP छोड़ AAP में हुए शामिल, केजरीवाल ने किया स्वागत

0

दिसंबर में होने वाले राजस्थान विधानसभा चुनाव से ठीक पहले राज्य में सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और मुख्यमंत्री मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को एक और बड़ा झटका लगा है। मानवेंद्र सिंह के कांग्रेस में शामिल होने के बाद राजस्थान के बड़े किसान नेता रामपाल जाट ने बीजेपी को दूसरा बड़ा झटका दिया है। किसानों के मुद्दे की अनदेखी का आरोप लगाकर रामपाल ने आम आदमी पार्टी (आप) का दामन थाम लिया। बीजेपी से जुड़े संगठन किसान महापंचायत के संस्थापक और राष्ट्रीय अध्यक्ष रामपााल जाट ने बुधवार को आप की सदस्यता ली।

@AAPInNews

आम आदमी पार्टी में शामिल होने के बाद रामपाल ने कहा कि प्रदेश में अब किसान राज लाने के प्रयास होंगे। उन्होंने कहा कि अब किसान किसी के आगे हाथ नहीं फैलाएंगे और अपना राज कायम करेंगे। इस दौरान रामपाल ने प्रदेश की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया पर भी हमला बोलते हुए कहा कि उन्होंने किसानों के लिए कुछ नहीं किया। आपको बता दें कि इससे पहले बुधवार को ही वाजपेयी सरकार में केंद्रीय मंत्री रहे जसवंत सिंह के बेटे मानवेंद्र सिंह भी बीजेपी छोड़ कांग्रेस में शामिल हो गए थे।

जाट ने कहा कि आम आदमी पार्टी की विचारधारा उनकी सोच से मेल खाती है। इसलिए वे पार्टी की सदस्यता ली है। बीजेपी छोड़ने के सवाल पर उन्होंने कहा, ‘‘जहां मुद्दों की उपेक्षा होती है वहां काम करना असहज हो जाता है। विभिन्न मंचों पर मैंने और मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने कई बार किसानों के मुद्दे उठाए। राजे ने कहा था कि कथनी और करनी में अंतर नहीं होगा मगर वही हुआ।’’ उन्होंने कहा कि बीजेपी में अब मुद्दों की उपेक्षा हो रही है।

केजरीवाल ने किया स्वागत

पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इस अवसर के लिए भेजे अपने संदेश में कहा कि रामपाल जाट ईमानदार और संघर्षशील नेता है। उनके पार्टी में शामिल होने से किसानों के हितों को लेकर चल रहे संघर्ष को और ज्यादा मजबूती मिलेगी। इसके अलावा सीएम केजरीवाल ने ट्वीट कर लिखा है, “रामपाल जी का आम आदमी पार्टी में स्वागत है। केवल आम आदमी पार्टी ही किसानों के हक़ों की लड़ाई लड़ती है और उन्हें उनके हक़ दिलवाती है।”

गौरतलब है कि बीजेपी का दामन छोड़कर आप में शामिल हुए जाट ने 27 साल तक राजस्थान हाईकोर्ट में वकालत की और फिर अतिरिक्त महाधिवक्ता बनें। वह लंबे समय से किसानों के हितों के लिए लड़ रहे हैं। आपको बता दें कि जाट से पहले पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह के पुत्र एवं विधायक मानवेंद्र सिंह भी बुधवार को ही कांग्रेस में शामिल हो गए।

कांग्रेस में शामिल होने से पहले सिंह ने पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी से उनके आवास पर मुलाकात की। मानवेंद्र सिंह ने हाल ही में बाड़मेर के पचपदरा में स्वाभिमान रैली की थी और भाजपा छोड़ने का ऐलान किया था। राजस्थान के बाड़मेर इलाके में असर रखने वाले मानवेंद्र सिंह के अलावा महाराष्ट्र में बीजेपी के विधायक रहे आशीष देशमुख भी कांग्रेस में शामिल हुए। देशमुख महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पूर्व अध्यक्ष रंजीत देशमुख के पुत्र हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here