चुनाव आयोग की EVM चुनौती में AAP के हिस्सा लेने की संभावना कम

0

चुनाव आयोग पर हैकाथन से दूर भागने का आरोप लगाने वाली आम आदमी पार्टी(AAP) के आयोग की उस चुनौती में शामिल होने की उम्मीद कम है, जिसमें राजनीतिक दलों से यह दिखाने को कहा गया है कि इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) से छेड़छाड़ की जा सकती है। चुनाव आयोग को लिखे खत में आप ने कहा कि उसने हैकाथन का वादा किया था, लेकिन नियम और कायदे के साथ।

delhiआप द्वारा लिखे गए पत्र में कहा गया है कि हैकरों को किसी भी तंत्र की सुरक्षा को परखने के लिये आमंत्रित किया जाता है जो किसी भी उपलब्ध उपकरण का इस्तेमाल कर सकते हैं। ऐसी नैतिक हैकिंग गड़बडि़यों को समझने में मदद मिलती है, जिससे भविष्य में उन्हें दूर किया जा सके।

उसने आश्चर्य जताया कि चुनाव आयोग क्यों ऐसा संस्थान जिसने हमेशा लोकतंत्र का संरक्षण किया। क्यों देश की चुनाव प्रक्रिया को सुरक्षित बनाने के लिये एक खुला हैकाथन के लिये तैयार नहीं है। आयोग द्वारा चुनौती में आप की ईवीएम के मदरबोर्ड से छेड़छाड़ की इजाजत की मांग को खारिज किये जाने के बाद पार्टी ने मुख्य निर्वाचन आयुक्त नसीम जैदी को यह खत लिखा है।

उसने पूछा, चुनाव आयोग बिना किसी रोक टोक के हैकाथन कराने से दूर क्यों भाग रहा है। इसके बाद आप के 3 जून को ईवीएम चुनौती में हिस्सा लेने की उम्मीद कम है जिसके लिये पंजीकरण कराने की सीमा आज(26 मई) खत्म हो रही है। बता दें कि इससे पहले चुनाव आयोग ने आम आदमी पार्टी की उस मांग को ठुकरा दिया था जिसमें पार्टी ने इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) चैलेंज के दौरान मदरबोर्ड में छेड़छेड़ करने की अनुमति मांगी थी।

आयोग ने कहा है कि ईवीएम के मदरबोर्ड या इंटरनल पार्ट्स को बदलना अपने आप में पूरे उपकरण को ही बदलने जैसा है। आयोग ने गुरुवार(25 मई) को कहा कि आंतरिक सुरक्षा में बदलाव किया गया तो ईवीएम अपनी मौलिकता खो देगी।AAP की मांग का उल्लेख करते हुए चुनाव आयोग ने कहा है कि मदरबोर्ड या ईवीएम के किसी आंतरिक पार्ट्स में बदलाव की अनुमति देना किसी को नई मशीन तैयार करने की अनुमति देने जैसा होगा।

अभी तक EC नहीं पहुंचा कोई दल

EVM मशीन के साथ छेड़छाड़ हुई है या की जा सकती है, यह साबित करने के लिए शायद ही कोई राजनीतिक पार्टी चुनाव आयोग की चुनौती स्वीकार करेगी। तीन जून को चुनाव आयोग का प्रस्तावित चुनौती होने जा रहा है। लेकिन गुरुवार(25 मई) देर रात तक किसी भी दल ने अपना आवेदन नहीं सौंपा। शुक्रवार(26 मई) को आवेदन सौंपने की अंतिम तारीख है। इसके लिए आयोग ने सात राष्ट्रीय और 48 क्षेत्रीय पार्टियों को आमंत्रित किया है।बता दें कि हाल ही में हुए पांच राज्यों की विधानसभा चुनावों के बाद ईवीएम की विश्वनीयता पर उठे सवालों के बीच चुनाव आयोग 20 मई को इस संबंध में शंकाओं को दूर करने के लिए एक सार्वजनिक विशेष कार्यक्रम का आयोजन किया था। इस दौरान चुनाव आयोग ने ईवीएम से छेड़छाड़ की बात करने वाले राजनीतिक दलों को अपने आरोप साबित करने की खुली चुनौती दी थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here