EVM में छेड़छाड़ के मुद्दे पर राज्यसभा में जबरदस्त हंगामा, मायावती बोलीं- ‘BJP बेईमान है’

1

राज्यसभा में ईवीएम में कथित गड़बड़ी के मुद्दे के लेकर बुधवार(5 मार्च) को जमकर हंगामा हुआ। विपक्ष ने आरोप लगाया कि ईवीएम में गड़बड़ी करके राज्य उत्तर प्रदेश के चुनावों में बीजेपी ने चोरी की है। इस पर सरकार ने कहा कि वोटिंग मशीन पर सवाल उठाना जनता और चुनाव आयोग पर सवाल है।

सबसे पहले बसपा प्रमुख मायावती ने चर्चा की मांग करते हुए ईवीएम से छेड़छाड़ का मुद्दा उठाया, जिसके बाद उनका कांग्रेस और समाजवादी पार्टी ने समर्थन किया। यूपी की पूर्व सीएम मायावती ने बीजेपी पर बेईमान होने का आरोप भी लगाया। उन्होंने मध्य प्रदेश में ईवीएम में गड़बड़ी की शिकायतों का मुद्दा भी उठाया।

कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि हिमाचल प्रदेश और चुनावों में ईवीएम की जगह मतपत्र का इस्तेमाल होना चाहिए। जबकि सपा सांसद नरेश अग्रवाल ने कहा कि ईवीएम की चिप की प्रोग्रामिंग बदली जा सकती है। इस पर डिप्टी स्पीकर ने कहा कि चुनाव आयोग इस मामले पर सफाई दे चुका है।

ईवीएम के मुद्दे पर विपक्षी पार्टियों ने नेताओं ने स्पीकर के आसन के पास आ गए और नारेबाजी करने लगे। उन्होंने ‘ईवीएम की सरकार नहीं चलेगी, नहीं चलेगी’ के नारे लगाने शुरू कर दिए। विपक्ष के आरोपो का जवाब देते हुए केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि पंजाब में भी ईवीएम से ही चुनाव हुए हैं। विपक्ष को जनता का सम्मान करना चाहिए।

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में बीजेपी की प्रचंड जीत पर मायावती ने सवाल उठाते हुए ईवीएम में गड़बड़ी का मुद्दा उठाया था और मतपत्र से चुनाव कराने की मांग की थी। जिसके बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी एमसीडी चुनाव को देखते हुए इस मुद्दे को उठाया। हालांकि, चुनाव आयोग ने दोनों के आरोपो को खारिज करते हुए कहा कि ईवीएम में कोई गड़बड़ी नहीं है।

क्या है भिंड का पूरा मामला?

बता दें कि ‘जनता का रिपोर्टर’ ने खुलासा किया था कि मध्य प्रदेश के भिंड में एक अभ्यास कार्यक्रम के दौरान वीवीपीएटी से केवल बीजेपी के निशान वाली पर्चियां ही निकल रही थीं। भिंड में 9 अप्रैल को उपचुनाव होना है और यह अभ्यास के लिए किया जा रहा था।

वीडिया में साफ तौर पर दिखाई दे रहा है कि भिंड जिले में विधानसभा उपचुनाव की तैयारियों का जायजा लेने पहुंचीं मुख्य निर्वाचन अधिकारी सलीना सिंह ने वोटर वेरीफाइड पेपर ऑडिट ट्रायल के डेमो के लिए दो अलग-अलग बटन दबाए तो कमल के फूल की पर्ची निकली।

उसके बाद चुनाव अधिकारी ने पत्रकारों को कहा कि समाचार पत्रों में यह न्यूज मत देना, नहीं तो आप लोगों को पुलिस थाने में हिरासत में रखा जाएगा। इस मामले में चुनाव आयोग ने सख्ती दिखाते हुए भिंड के जिलाधिकारी इलैया राजा टी और एसपी अनिल सिंह कुशवाह को हटा दिया है।

1 COMMENT

  1. Jaanch hona chahiye evm ki. Ec ke retire officers ki bhi jaanch honi chahiye. Sari duniya me ye news pahunch gai hai. ECI ne to desh ki naak katwa ke rakh di.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here