VIDEO: ..जब दिल्ली में चुनावी रैली के दौरान अमित शाह ने लोगों से की गुजारिश, बोले- ‘अरे यार, सुन लो 5 मिनट…’, देखें वीडियो

0

दिल्ली में सत्तारुढ़ आम आदमी पार्टी (आप) और कांग्रेस के बीच गठबंधन न होने के बाद राजधानी की सियासत हर रोज एक नई करवटें बदल रही है। गठबंधन नहीं होने से अब राजधानी में त्रिकोणीय मुकाबले की स्थिति बन गई है। ऐसी स्थिति भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के लिए फायदेमंद मानी जा रही है। राजनीतिज्ञों और राजनीतिक विशेषज्ञों के अनुसार कांग्रेस-आप के बीच गठबंधन न होने के बाद अब बीजेपी एक बार फिर अपनी पुरानी स्थिति में आ गई है।

Photo: @AmitShah

हालांकि, शनिवार (4 मई) को दिल्ली के रोहिणी इलाके में आयोजित एक चुनावी रैली में दो घंटे से अधिक देर से पहुंचने की वजह से बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को असहज स्थिति का सामना करना पड़ गया। दरअसल, शाह इस रैली में करीब ढाई घंटे तक की देरी से पहुंचे, जिस वजह से नाराज लोग बीच भाषण के बीच में ही उठकर जाने लगे। लोगों की नाराजगी को भांपते हुए बीजेपी अध्यक्ष ने फौरन सबसे पहले देर से आने के लिए रैली में मौजूद सभी समर्थकों से माफी मांगी और लोगों से सिर्फ पांच मिनट उनके भाषण को सुनने की गुजारिश की।

‘अरे यार, सुन लो 5 मिनट…’

भाषण के शुरूआत में ही देरी से आने के लिए माफी मांगते हुए बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि मुझे ज्यादा लंबी बात नहीं करनी है। इस दौरान भाषण के बीच में ही कुछ लोग नारे लगाने लगे और साथ ही काफी देर हो जाने की वजह से बीच में ही उठकर लोग जाने भी लगे, तो उन्होंने गुजारिश करते हुए कहा, “अरे यार, सुन लो 5 मिनट…।” उन्होंने बताया कि वह कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के लोकसभा क्षेत्र अमेठी में रोड शो कर रहे थे। वहीं से वापस आने में उन्हें देरी हो गई।

(नीचे बीजेपी के आधिकारिक ट्विटर हैंडल द्वारा शेयर किए गए वीडियो में 1.56 मिनट से देखें)

12 मिनट में ही खत्म करना पड़ा भाषण

दरअसल, शाह जब रैली के मंच पर भाषण देने पहुंचे, तो देरी की वजह से काफी लोग वापस लौट चुके थे और कुर्सियां खाली हो चुकी थीं। हालांकि, शाह ने अपनी गलती को स्वीकार करते हुए लेट आने के लिए मैदान में मौजूद लोगों से माफी भी मांगी। भाषण के शुरू में ही जब उन्होंने ‘भारत माता की जय’ का नारा लगवाया तो लोगों में जोश नहीं दिखा, तो उन्होंने कहा कि ‘लेट हुआ, तो क्या हो गया। नारा तो जोर से लगाओ।’

इस दौरान शाह ने साफ किया कि 2019 का चुनाव देश की सुरक्षा के मुद्दे पर लड़ा जाने वाला है। देर से आने की वजह से शाह ने मात्र 12 मिनट में ही अपना भाषण समाप्त कर दिया और लोगों से कहा कि वह फिर से इन क्षेत्रों में आएंगे और केजरीवाल का पर्दाफाश करेंगे। चांदनी चौक के प्रत्याशी डॉ. हर्षवर्धन और उत्तर पश्चिम दिल्ली से बीजेपी उम्मीदवार हंसराज हंस के समर्थन में रोहिणी में रैली आयोजित की गई थी।

शाह ने कहा, ‘मेरे पास केजरीवाल की वादाखिलाफी और मोदी जी के कामों की पूरी सूची है। मैं बहुत लेट हो चुका हूं, इसलिए अभी मैं सिर्फ इतना पूछना चाहता हूं कि ये राष्ट्रीय सुरक्षा के मामले पर दिल्ली वालों का फैसला क्या है? जाते-जाते उन्होंने एक बार फिर दोहराया कि ढाई घंटे से ज्यादा लेट होने के लिए मैं हृदय से क्षमा प्रार्थी हूं।’ भाषण के अंत में उन्होंने दोनों उम्मीदवारों (डॉ. हर्षवर्धन और हंसराज हंस) के साथ तस्वीरें खिंचवाया और स्वागत की औपचारिकता पूरी करवाई।

कौन जीतेगा दिल्ली की जंग?

‘जनता का रिपोर्टर’ द्वारा कराए गए एक सर्वे में राजधानी दिल्ली में बीजेपी को बढ़त मिलता दिख रहा है। ‘जनता का रिपोर्टर’ के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट कर लोगों से पूछा गया था कि लोकसभा चुनाव 2019 में दिल्ली की लड़ाई में कौन बाजी मार सकता है? दो मई को पूछे गए इस सवाल के जवाब में करीब 10 हजार लोगों ने अपनी राय रखी है। जिसमें 62 प्रतिशत लोगों का मानना है कि इस लोकसभा चुनाव में भी एक बार फिर भगवा पार्टी यानी बीजेपी ही राजधानी में नेतृत्व करेगी।

वहीं, सर्वे में सामने आए परिणाम आम आदमी पार्टी के लिए अच्छे संकेत नहीं है। सिर्फ 29 फीसदी लोगों ने आम आदमी पार्टी पर भरोसा जताया है। 29 प्रतिशत लोगों के मुताबिक, इस बार के लोकसभा चुनाव में दिल्ली की लड़ाई में आप बाजी मार लेगी। आप के साथ गठबंधन न करने की वजह से इस सर्वे में कांग्रेस के लिए भी काफी निराशाजनक परिणाम आए हैं। सर्वे में मात्र नौ प्रतिशत लोगों का मानना है कि कांग्रेस इस बार दिल्ली में सरकार बना सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here