पांच राज्यों में चुनाव की तारीखों का ऐलान: उत्तर प्रदेश में 7 चरणों में होंगे चुनाव, पहले चरण में 11 फरवरी को वोटिंग

0

चुनाव आयोग ने आज दोपहर 12 बजे पांच राज्यों में होने वालेआगामी चुनाव की तारीखों का ऐलान किया। मुख्य चुनाव आयुक्त नसीम जैदी ने घोषणा करते हुए कहा, गोवा में  4 फरवरी, शनिवार को वोटिंग होगी। पंजाब में 4 फरवरी को वोटिंग। उत्तराखंड में चुनाव 15 फरवरी को होंगे। मणिपुर में दो चरणों में चुनाव। पहली वोटिंग 4 मार्च और दूसरी वोटिंग 8 मार्च हो होगी। वहीं उत्तरप्रदेश में सात चरणों में चुनाव होंगे।

पहला चरण: 11 फरवरी
दूसरा चरण: 67 सीटों पर, वोटिंग 15 फरवरी
तीसरा चरण: 69 सीटों में 19 फरवरी को वोटिंग
चौथा चरण: 23 फरवरी को वोटिंग
पांचवा चरण: 27 फरवरी को वोटिंग होगी
छठा चरण: 4 मार्च को
सांतवां चरण: 8 मार्च को

  • 5 राज्यों के 16 करोड़ मतदाता करेंगे वोट
  • यूपी में 7 चरणों में चुनाव
  • UP में 403 सीटों पर 7 चरणों में चुनाव होगा। पहले चरण में 73 सीटों पर मतदान होगा।
  • यूपी में पहले चरण का मतदान 11 फरवरी को होगा
  • दूसरे चरण में 67 सीटों पर 15 फरवरी को मतदान होगा
  • UP में तीसरे चरण में 69 सीटों पर 19 फरवरी को मतदान होगा
  • UP में चौथे चरण में 53 सीटों पर 23 फरवरी को मतदान होगा
  • UP में पांचवे चरण में 52 सीटों पर 27 फरवरी को मतदान होगा
  • उत्तर प्रदेश में 6वें चरण में 15 तारीख को नॉमिनेशन की लास्ट डेट है। 4 मार्च को मतदान होगा।
  • सातवें और आखिरी फेज में 7 जिलों में 40 सीटों पर 8 मार्च को मतदान होगा।
  • मतदान के बाद वोटों की गिनती 11 मार्च को होगी। सारे राज्यों की काउंटिंग एक साथ होगी।
  • पांच राज्यों में चुनावी आचार संहिता लागू
  • सभी राज्यों में एक साथ चुनाव
  • 690 विधानसभा सीटो पर होंगे चुनाव
  • सबको दिए जाएंगे फोटो आई कार्ड
  •  1 लाख 85 हजार पोलिंग बूथ बनाए जाएंगे
  • मतदाताओं की पहचान के लिए हर बूथ पर लगेंगे पोस्टर
  • कुछ पोलिंग बूथ मॉडल पोलिंग बूथ की तरह बनेंगे
  • गुप्त मतदान के लिए बनेगी उंची दीवार
  • सभी वोर्टस को फोटो वाली स्लिप मिलेगी
  • ईवीएम में उम्मीदवार की लगेगी फोटो
  • कुछ जगहों पर महिलाओं के लिए बनेंगे अलग पोलिंग बूथ

इससे पूर्व चुनाव की तैयारियों की समीक्षा करने के उद्देश्य से आज चुनाव आयोग ने इन राज्यों के मुख्य निर्वाचन अधिकारियों के साथ एक बैठक की।

सूत्रों ने बताया कि आज की बैठक में मणिपुर में कुछ नगा समूहों द्वारा की जा रही सड़कों की नाकाबंदी के कारण उत्पन्न कानून व्यवस्था की स्थिति पर मुख्य रूप से चर्चा की गई।

बैठक में राज्यों में कानून व्यवस्था की स्थिति के अलावा, निर्वाचन कर्मियों की तैनाती, सुरक्षा, इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों और चुनाव आचार संहिता का कड़ाई से पालन करने पर भी चर्चा की गई।

चुनाव आयोग को दी गई रिपोर्ट में केंद्रीय गृह मंत्रालय ने मणिपुर की स्थिति का जिक्र किया है। वहां यूनाइटेड नगा काउंसिल ने राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 2 में नाकेबंदी की है और 60 दिन बाद भी राज्य सरकार सामान्य यातायात बहाल करने में कथित तौर पर नाकाम रही है।

वहीं केंद्रीय गृह मंत्रालय पांच राज्यों में विधानसभा चुनावों में तैनाती के लिए करीब 85,000 सुरक्षा कर्मी मुहैया कराएगा।इसके अलावा करीब 100 कंपनियां विभिन्न राज्यों से ली जाएंगी जिन्हें चुनाव ड्यूटी में लगाया जाएगा। इन कंपनियों में राज्य सशस्त्र पुलिस बल और इंडिया रिजर्व बटालियन शामिल होंगी। अर्धसैनिक बल की एक कंपनी में करीब 100 कर्मी होते

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here