ईडी के समक्ष एक बार फिर पेश हुए रॉबर्ट वाड्रा, केस के मुख्य जांच अधिकारी राजीव शर्मा हटाए गए

0

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के बहनोई रॉबर्ट वाड्रा विदेश में कथित अवैध संपत्तियां खरीदने से जुड़े एक धनशोधन मामले में मंगलवार को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के समक्ष पेश हुए। वाड्रा मंगलवार को सुबह करीब पौने 11 बजे इंडिया गेट के पास एजेंसी के कार्यालय पहुंचे। उनसे नए मुख्य जांच अधिकारी महेश गुप्ता पूछताछ कर रहे हैं। खराब स्वास्थ्य का हवाला देते हुए वाड्रा ईडी के सामने 31 मई को पेश नहीं हुए थे। इससे पहले गुरुवार को वाड्रा से पांच घंटे पूछताछ की गई थी और जांच अधिकारी ने धनशोधन रोकथाम कानून के तहत मामले में उनका बयान दर्ज किया था।

इस बीच वाड्रा के खिलाफ जो जांच चल रही है उसमें मंगलवार को बड़ा और ताजा बदलाव यह देखने को मिला कि मामले के मुख्य जांच अधिकारी राजीव शर्मा को प्रवर्तन निदेशालय ने जांच से हटा दिया है। ईडी ने वाड्रा मामले में जांच अधिकारी (IO) राजीव शर्मा को हटाकर केस की जांच अब आयकर विभाग से आए नए अधिकारी महेश गुप्ता को दे दी है। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, राजीव शर्मा की जगह अब महेश गुप्ता को मामले में मुख्य जांच अधिकारी बनाया गया है।

एजेंसी के मुताबिक, राजीव पिछले कई दिनों से छुट्टी पर चल रहे हैं। अब उनकी जगह इस मामले की जांच महेश गुप्ता को सौंपी गई है। वही, मंगलवार को वाड्रा का बयान दर्ज कर रहे हैं। हालांकि, कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में ऐसा दावा किया जा रहा है कि कथित तौर पर संभव है कि मामले की जांच की गति तेज करने के लिए शर्मा की जगह गुप्ता को जांच अधिकारी बनाया गया है। हालांकि, ईडी की तरफ से मामले में कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है।

वाड्रा ने मंगलवार को एजेंसी के समक्ष पेश होने से पहले सोशल मीडिया पर जारी एक बयान में कहा कि वह ‘‘प्रवर्तन निदेशालय के समक्ष करीब 80 घंटों तक कई प्रश्नों का उत्तर देने के बाद’’ 13वीं बार पूछताछ के लिए पेश हो रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘‘आसपास अनावश्यक नाटक और सनसनी के बीच मैं खुद को शांत रखता हूं और अपना ध्यान नहीं भटकाता।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मेरे स्वास्थ्य संबंधी खबरों को लापरवाही से प्रसारित करना सही नहीं है… लेकिन इससे भी बदतर समस्याओं को झेल रहे लोगों, बीमार, नेत्रहीन लोगों और अनाथ बच्चों को मुस्कुराते देख कर मुझे आगे बढ़ने की ताकत मिलती है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘मेरा जीवन अनूठा है और मैंने निराधार आरोपों के खिलाफ करीब एक दशक तक लड़ाई लड़ी। शारीरिक हालात बदल सकते हैं, लेकिन ईमानदार दिमाग नहीं बदल सकता। मैं सच पर अडिग हूं। एक किताब पर काम चल रहा है जिसमें दुनिया मेरा पक्ष पढ़ सकेगी और स्पष्ट तरीके से जान सकेगी।’’ वाड्रा का उनके स्वास्थ्य पर बयान ऐसे समय में आया है जब दिल्ली की एक अदालत ने वाड्रा को स्वास्थ्य संबंधी कारणों के चलते छह सप्ताह के लिए विदेश जाने की सोमवार को अनुमति दे दी।

बता दें कि वाड्रा लंदन के 12 ब्रायंस्टन स्क्वायर क्षेत्र में 19 लाख पाउंड मूल्य की संपत्ति खरीदने को लेकर धनशोधन के आरोपों का सामना कर रहे हैं। इस मामले के अलावा वाड्रा राजस्थान के बीकानेर में जमीन आवंटन में हुई कथित अनियमितता से जुड़े धनशोधन के एक अन्य मामले में भी कई बार पूछताछ का सामना कर चुके हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here