‘महाराष्ट्र में कोई दुष्यंत नहीं है, जिसके पिता जेल में हों’, शिवसेना नेता संजय राउत के बयान पर दुष्यंत चौटाला ने किया पलटवार

0

महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री पद को लेकर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और शिवसेना दोनों की तरफ से जमकर बयानबाजी हो रही है। इस बीच, मंगलवार को शिवसेना के राज्यसभा सांसद संजय राउत ने दुष्यंत चौटाला का उदाहरण देते हुए भाजपा पर तंज कसा था और कहा कि यहां कोई दुष्यंत चौटाला नहीं है, जिसके पिता जेल में हों। संजय राउत द्वारा दिए गए इस बयान पर पलटवार करते हुए हरियाणा के उप मुख्यमंत्री दुष्यंत व जेजेपी नेता दुष्यंत चौटाला ने करारा जवाब दिया है।

दुष्यंत चौटाला

पढ़िए, क्या कहां था संजय राउत ने

दरअसल, संसद में शिवसेना के मुख्य सचेतक और पार्टी के मुखपत्र ‘सामना’ के कार्यकारी संपादक राउत ने महाराष्ट्र में भाजपा शिवसेना के बीच गठबंधन होने के बावजूद सरकार बनाने में विलंब होने को लेकर मंगलवार को कटाक्ष किया कि ‘महाराष्ट्र में कोई दुष्यंत नहीं है जिसके पिता जेल में हों।’ हम महाराष्ट्र में सच्चाई की राजनीति करते हैं। अगर कोई हमें सत्ता से दूर रखने की कोशिश करता है, तो मैं मानता हूं कि यह सच्चाई की राजनीति नहीं है। हम देख रहे हैं कि क्या हो रहा है और लोग कितने नीचे तक जा सकते हैं। राउत का इशारा हरियाणा के उप मुख्यमंत्री और जननायक जनता पार्टी (जजपा) के नेता दुष्यंत चौटाला की ओर था।

संजय राउत के बयान पर दुष्यंत चौटाला ने किया पलटवार

संजय राउत के इस बयान पर पलटवार करते हुए दुष्यंत चौटाला ने कहा, ‘इसका मतलब हुआ कि वो (संजय राउत) ये जानते हैं कि दुष्यंत चौटाला कौन है। मेरे पिता छह साल से जेल में हैं लेकिन उन्होंने कभी उनका हालचाल नहीं जाना। अजय चौटाला अपनी सजा पूरी किए बगैर जेल से नहीं आएंगे। इस प्रकार का बयान संजय राउत को शोभा नहीं देता। उनकी पार्टी लंबे समय से बीजेपी के साथ है और हमारी पार्टी मात्र 11 महीने की है।’

हरियाणा ंमें जजपा के साथ भाजपा का गठबंधन

गौरतलब है कि, भाजपा हरियाणा में बहुमत हासिल करने से छह सीट पीछे रह गई थी जिसके बाद उसने जजपा के साथ गठबंधन किया। रविवार को मनोहर लाल खट्टर ने दूसरी बार हरियाणा के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। जजपा नेता दुष्यंत चौटाला ने राज्य के उपमुख्यमंत्री पद की शपथ ली।

दो सप्ताह के फलरे पर तिहाड़ जेल से बाहर आए अजय चौटाला 

दुष्यंत चौटाला के पिता अजय चौटाला और उनके दादा ओम प्रकाश चौटाला को 2013 में दिल्ली की अदालत ने हरियाणा में शिक्षक भर्ती घोटाले के मामले में दोषी पाया था और 10 साल की सजा सुनाई थी। इनेलो के कार्यकाल में हुए शिक्षक भर्ती घोटाले में तिहाड़ जेल में सजा काट रहे अजय चौटाला शनिवार को दो सप्ताह के फलरे पर जेल से बाहर आए और रविवार को दुष्यंत के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल हुए।

मुख्यमंत्री पद की मांग को लेकर महाराष्ट्र में भाजपा और शिवसेना के बीच खींचतान जारी

गौरतलब है कि, महाराष्ट्र में भाजपा और उसकी सहयोगी पार्टी शिवसेना ने मिलकर चुनाव लड़ा, लेकिन चुनाव के बाद उसने अपने तेवर दिखाने शुरू कर दिए हैं। वह राज्य में सत्ता के आधे बंटवारे के साथ ही ढाई साल के लिए मुख्यमंत्री पद की मांग कर रही है, जिसे लेकर उसके और भाजपा के बीच खींचतान जारी है।

महाराष्ट्र में हाल ही में संपन्न विधानसभा चुनावों में भाजपा ने 105 और शिवसेना ने 56 सीटें जीती हैं और राज्य की अगली सरकार में सत्ता में भागीदारी को लेकर दोनों के बीच तकरार चल रही है। पिछले सप्ताह शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने भाजपा को उनके, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह एवं मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के बीच, 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले 50:50 के फार्मूले पर बनी सहमति की याद दिलाई थी। (इंपुट: भाषा के साथ)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here