गोवा: मंत्री कैबिनेट से निकाले जाने पर भड़के फ्रांसिस डिसूजा, बोले- ‘आज मुझे कैबिनेट से निकाला गया, कल वह मुझे पार्टी से हटा देंगे’

0

गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर ने बीमार चल रहे अपने दो मंत्रियों को कैबिनेट से बाहर कर उनकी जगह दो नये चेहरों को दी है। वहीं, कैबिनेट से बाहर किए जाने पर एक मंत्री ने नाखुशी जाहिर करते हुए सवाल किया कि क्या 20 वर्ष तक पार्टी के साथ वफादारी निभाने का उन्हें यह सिला मिला है।

बता दें कि इन दोनों मंत्रियों को ऐसे वक्त में कैबिनेट से बाहर किया गया है जब मुख्यमंत्री पर्रिकर खुद इन दिनों दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में इलाज के लिए भर्ती हैं।

गोवा
फाइल फोटो

समाचार एजेंसी भाषा की रिपोर्ट के मुताबिक, मंत्रिमंडल से बाहर किए गए बीजेपी के दोनों मंत्री फ्रांसिस डिसूजा और पांडुरंग मडकईकर पिछले कुछ समय से बीमार हैं और अस्पताल में भर्ती हैं। कैबिनेट से हटाए जाने पर नाखुशी जाहिर करते हुए बीजेपी विधायक फ्रांसिस डिसूजा ने सवाल किया कि क्या 20 वर्ष तक पार्टी के साथ वफादारी निभाने का उन्हें यह सिला मिला है। मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर ने सोमवार की सुबह एक फैसले में अपने कैबिनेट के बीमार चल रहे दो मंत्रियों डिसूजा और पांडुरंग मडकईकर को बाहर कर दिया।

अमेरिका के एक अस्पताल में भर्ती बीजेपी नेता डिसूजा ने फोन पर पीटीआई/भाषा को बताया, ‘पार्टी के साथ 20 साल की वफादारी का मुझे यही सिला मिल रहा है।’ डिसूजा पिछले 20 साल से लगातार उत्तरी गोवा जिले के मापुसा सीट से बीजेपी की टिकट पर जीत रहे हैं। उनका दावा है कि कैबिनेट से बाहर का रास्ता दिखाने से पहले उन्हें विश्वास में भी नहीं लिया गया।

शहरी विकास मंत्री के पद से हटाये गए डिसूजा का कहना है, ‘मैंने कल शाम ही मुख्यमंत्री से भी बात की थी लेकिन उन्होंने कोई संकेत नहीं दिया। कैबिनेट से हटाये जाने की सूचना मिलने के बाद आज जब मैंने मुख्यमंत्री को फोन किया तब उन्होंने कहा कि यह पार्टी हाई कमान का फैसला है।’

डिसूजा ने दावा किया कि पार्टी पिछले एक साल से उन्हें कैबिनेट से हटाने की कोशिश में जुटी थी। ‘अंतत: उन्होंने ऐसा कर लिया।’ उन्होंने कहा, ‘उन्होंने आज मुझे कैबिनेट से हटा दिया, कल वह मुझे पार्टी से हटा देंगे। अब मैं उनके किसी काम का नहीं रहा।’

डिसूजा के अलावा पर्रिकर कैबिनेट से बिजली मंत्री मडकईकर को भी हटाया गया है। जून में मस्तिष्काघात के बाद से बीमार चल रहे पूर्व मंत्री का मुंबई के अस्पताल में इलाज चल रहा है। इन दोनों की जगह आज शाम मिलिंद नाइक और निलेश काबराल को कैबिनेट में शामिल किया जाएगा। अधिकारियों ने बताया कि बीजेपी के दो नेताओं निलेश काबराल और मिलिंद नाइक को सोमवार की शाम राज्यपाल मृदुला सिन्हा मंत्री पद की शपथ दिलाएंगी।

कैबिनेट के वरिष्ठतम मंत्रियों में शामिल डिसूजा को 2014 में मुख्यमंत्री पद का दावेदार माना जा रहा था। उस दौरान पर्रिकर केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार में रक्षा मंत्री के पद पर थे। बहरहाल, डिसूजा को उस दौरान भी मुख्यमंत्री का पद नहीं मिला। गोवा चुनाव के बाद लक्ष्मीकांत पारसेकर प्रदेश के मुख्यमंत्री बन गये थे।

बता दें कि 62 वर्षीय पर्रिकर लंबे समय से बीमार हैं और फिलहाल दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में भर्ती हैं। गौरतलब है कि बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने रविवार को कहा था कि पर्रिकर मुख्यमंत्री बने रहेंगे, लेकिन कैबिनेट में कुछ फेरबदल जरूर होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here