गोरखपुर: भाई को गोली लगने से आहत डॉ. कफील खान बोले- अभी तक नहीं दर्ज हुआ है केस, मां बोलीं- मेरे परिवार को पुलिस सुरक्षा की जरूरत

1

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गृह जिले गोरखपुर में बाबा राघव दास (बीआरडी) मेडिकल कॉलेज में पिछले साल संदिग्ध परिस्थितियों में बड़ी संख्या में भर्ती मरीज बच्चों की मृत्यु के मामले के आरोपी डॉक्टर कफील खान के भाई कासिफ जमील को रविवार (10 जून) देर रात मोटरसाइकिल सवार कुछ बदमाशों ने गोली मारकर गंभीर रुप से घायल कर दिया। बदमाशों ने कासिफ पर कई राउंड फायर किए। इनमें से तीन गोलियां कासिफ को लगी हैं।

कफील खान ने अपनी भाई (कासिफ जमील) पर जानलेवा हमले को लेकर कहा है कि उसकी हालत में सुधार हो रहा है। अभी तक इस मामले में कोई केस दर्ज नहीं किया गया है, क्योंकि पुलिस कासिफ की हालत में सुधार का इंतजार कर रही है। कासिफ जमील के बयान के बाद ही साफ हो पाएगा कि आखिर उसके साथ क्या हुआ। कफील ने यह भी कहा ‘‘सबसे पहले, मैं आप सबका शुक्रिया अदा करना चाहता हूं। मेरे भाई काशिफ को मारी गयी गोलियां बाहर निकाल ली गयी हैं और उनका आपरेशन कामयाब रहा। वह इस वक्त आईसीयू में हैं। उन्हें तीन गोलियां मारी गयी थीं। किसने मारीं, यह हम नहीं जानते। लेकिन यह उस गोरखनाथ मंदिर से 500 मीटर की दूरी पर हुआ, जहां मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सो रहे थे।’’

उन्होंने कहा कि स्कूटी पर सवार दो हमलावरों ने उनके भाई को गोलियां मारीं और भाग गये। प्रदेश की कानून-व्यवस्था का यह हाल है। रिपोर्ट के मुताबिक रविवार रात करीब 11 बजे कुछ मोटरसाइकिल सवार बदमाशों ने हुमायूंपुर उत्तरी क्षेत्र में जेपी हॉस्पिटल के पास डॉक्टर कफील खान के भाई काशिफ (34) को गोलियां मारी जो उनकी बांह, गर्दन और ठुड्डी पर लगी। काशिफ का एक निजी अस्पताल में इलाज किया जा रहा है जहां उनकी हालत स्थिर बताई जाती है। अभी तक इस मामले में कोई तहरीर नहीं दी गई है।

Jameel’s wife Mrs Khalida at the hospital with injured husband

इस घटना से आहत डॉ. कफील खान ने कहा है कि अभी तक इस मामले में पुलिस ने केस दर्ज नहीं किया है। कफील ने बताया कि पुलिस कासिफ के ठीक होने का इंतजार कर रही है ताकि बयान लिया जा सके कि उस वक्त क्या हुआ था। कफील ने हैरानी जताते कहा कि सीएम आवास (गोरखनाथ मंदिर) से महज 500 मीटर दूर उनके भाई को गोली मारी गई।

वहीं, डॉ. कफील खान की मां ने परिवार के लिए पुलिस सुरक्षा देने की मांग की है। समाचार एजेंसी ANI से बातचीत में उन्होंने कहा कि मेरे परिवार को पुलिस सुरक्षा की जरूरत है। आपको बता दें कि कफील खान और उनका परिवार लगातार प्रदेश सरकार पर गंभीर आरोप लगाता रहा है। बीआरडी केस में जेल गए कफील ने जमानत पर बाहर आने के बाद भी अपने व परिवार पर खतरे की बात कही थी।

गोरखपुर एसएसपी शलभ माथूर ने बताया कि कासिफ जमील की हालत में सुधार है। पुलिस परिजनों की लिखित शिकायत का इंतजार कर रही है। वहीं, कोतवाली थाने के निरीक्षक घनश्याम तिवारी ने बताया कि रात में करीब 11 बजे बाइक सवार कुछ बदमाशों ने जेपी अस्पताल के पास जमील पर हमला किया। इस दौरान आरोपियों ने उनपर कई राउंड फायरिंग की। उन्होंने बताया कि घटना में जमील के दाहिने हाथ, गर्दन और चेहरे पर गंभीर चोटें आई हैं।

गौरतलब है कि कफील को पिछले साल 10-11 अगस्त को गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में संदिग्ध रूप से ऑक्सीजन की कमी के कारण 24 घंटे के अंदर 30 से ज्यादा बच्चों की मौत के मामले में गिरफ्तार किया गया था। हादसे के वक्त वह मेडिकल कालेज के एईएस वार्ड के नोडल अफसर थे। उन्हें हाल ही में जमानत पर रिहा किया गया है। डॉ. कफील खान को एक 25 अप्रैल को करीब 8 माह बाद जमानत मिली थी। अगस्त, 2017 में एक हफ्ते के भीतर अस्पताल में 60 से अधिक बच्चों, ज्यादातर शिशुओं की मौत हो गई थी। आरोप था कि ऑक्सीजन की आपूर्ति नहीं होना हादसे की वजह बना।

हालांकि योगी सरकार ने इससे इनकार कर दिया था कि ऑक्सीजन की कमी मौतों का कारण बनी थी। इस घटना के दौरान कफील तब चर्चा में आए थे जब मीडिया में उन्हें बच्चों के लिए ऑक्सीजन सिलेंडर पहुंचाते हुए दिखाया गया था। हालांकि बाद में इसी मामले उन्हें आरोपी भी बनाया गया और उन्हें सस्पेंड कर दिया गया था। हादसे के वक्त वह मेडिकल कालेज के एईएस वार्ड के नोडल अफसर थे।

Dr Kafeel's brother

Dr Kafeel's brother being carried in hospital after being shot at by unknown assailants

Posted by Janta Ka Reporter on Sunday, 10 June 2018

 

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here