ट्रंप ने एक बार फिर की गलती, ट्वीट कर कहा- ‘श्रीलंका धमाकों में 13.8 करोड़ लोगों की मौत’, बाद में किया डिलीट

0

अक्सर अपनी गड़बड़ियों को लेकर सुर्खियों में रहने वाले अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने रविवार को एक बार फिर गलती की और कहा कि श्रीलंका में हुए विस्फोटों में ‘‘13.8 करोड़ लोगों की मौत’’ हो गई। श्रीलंका में ईस्टर के मौके पर हुए विभिन्न विस्फोटों में 250 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई और 450 से ज्यादा लोग घायल हो गए। श्रीलंका में लिट्टे के साथ गृह युद्ध के समाप्त होने के करीब एक दशक बाद यह भीषण हमला हुआ है।

 

ट्रंप ने ट्वीट कर श्रीलंका के लोगों के साथ संवेदना जतायी और कहा कि अमेरिका उन्हें मदद देने के लिए तैयार है। उन्होंने तीन चर्चों और तीन होटलों में हुए विस्फोटों में 138 लोगों की मौत होने के बदले गलती से 13.8 करोड़ लोग लिख दिया।ट्रंप का यह ट्वीट करीब 20 मिनट बाद हटा लिया गया। लेकिन यह ट्वीट लोगों की नजर से नहीं बच सका और लोग इसका मजाक उड़ाने लगे।

जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने कहा, ‘‘आप मृतकों की संख्या में संशोधित कर सकते हैं। सब कुछ लाखों में ही नहीं मापा जाता है…।’’ ट्रंप के एक फॉलोवर ने कहा, ‘‘13.8 करोड़? आपको तथ्यों का इंतजार करना चाहिए था।’’

वहीं, एक अन्य ने ट्वीट किया, ‘‘हमारी आबादी दो करोड़ है। 13.8 करोड़ गणितीय रूप से असंभव है। आप अपनी बेकार संवेदनाएं अपने पास रखिए। हमें इसकी जरूरत नहीं है।’’ श्रीलंका की कुल आबादी 2.17 करोड़ है। ट्रंप कई बार गलत ट्वीट कर चुके हैं।

290 लोगों की मौत

श्रीलंका में ईस्टर पर रविवार को हुए तीन चर्चों और लग्जरी होटलों में हुए आत्मघाती हमलों समेत आठ बम धमाकों में 290 लोगों की मौत हो गई जबकि करीब 500 अन्य घायल हो गए। इन धमाकों के साथ ही लिट्टे के साथ खूनी संघर्ष के खत्म होने के बाद करीब एक दशक से जारी शांति भी भंग हो गई।

पुलिस प्रवक्ता रूवन गुनासेकरा ने बताया कि द्वीपीय राष्ट्र में हुए सबसे खतरनाक हमलों में से एक, ये विस्फोट स्थानीय समयानुसार पौने नौ बजे ईस्टर प्रार्थना सभा के दौरान कोलंबो के सेंट एंथनी चर्च, पश्चिमी तटीय शहर नेगोम्बो के सेंट सेबेस्टियन चर्च और बट्टिकलोवा के एक चर्च में हुए।

वहीं, अन्य तीन विस्फोट पांच सितारा होटलों- शंगरीला, द सिनामोन ग्रांड और द किंग्सबरी में हुए। अधिकारियों के मुताबिक सिनामोन ग्रांड होटल के रेस्तरां में एक आत्मघाती हमलावर ने विस्फोट कर खुद को उड़ा दिया। रविवार को हुए धमाकों की किसी ने जिम्मेदारी नहीं ली है। श्रीलंका में पूर्व में लिट्टे (एलटीटीई) ने कई हमले किए हैं। हालांकि 2009 में लिट्टे का खात्मा हो गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here