दिल्ली विधानसभा चुनाव: क्या दिल्ली BJP अध्यक्ष मनोज तिवारी को चुनाव आयोग के ऐलान से पहले ही पता थी ‘चुनाव की तारीख’, देखें वीडियो

0

उत्तर-पूर्वी दिल्ली लोकसभा सीट से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सांसद और दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी का एक हिंदी न्यूज चैनल को दिए इंटरव्यू का एक वीडियो इन दिनों सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। भाजपा सांसद मनोज के इस वीडियो से यह सवाल उठ रहा है कि क्या मनोज तिवारी को चुनाव आयोग के ऐलान से पहले ही चुनाव की तारीख पता थी।

मनोज तिवारी

देश के सबसे अमीर उद्योगपति और रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी के स्वामित्व वाले हिंदी समाचार चैनल ‘न्यूज 18 इंडिया’ के लिए काम करने वाले एंकर अमीश देवगन के साथ बात करते हुए दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ने दिल्ली विधानसभा चुनावों के लिए चुनाव की तारीख की सटीक भविष्यवाणी की थी, जिसका वीडियो अब सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है। यह वीडियो पिछले साल 27 दिसंबर को टीवी चैनल पर प्रसारित किया गया था।

वीडियो में, न्यूज 18 इंडिया के एंकर अमीश देवगन भाजपा सांसद से पूछते है, “(अरविंद) केजरीवाल साहब को लगता है कि जब आप 75 पार नहीं कर पाए, महाराष्ट्र में सरकार नहीं बन पाई तो दिल्ली में तो मैं दबंग हूं।” एंकर के इस सवाल पर मनोज तिवारी जवाब देते हुए कहते है, “कौन दबंग है जल्द ही साबित हो जाएगा और 8 फरवरी को पता ही चल जाएंगा। हम कहां कह रहे है अभी आप क्या हो? शर्म नहीं आती है, सरकार रहते हुए तीसरे स्थान पर चले गए, जमानत जब्त हो गई।”

इस पर एंकर अमीश देवगन तिवारी से पूछता है, “आप 8 फरवरी कह रहे हैं। चुनाव की तारीखों की घोषणा अभी तक नहीं की गई है।” इस पर तिवारी जवाब देते हुए कहते है, “हां, अरे भाई, आखिरी विधानसभा चुनाव 7 फरवरी को हुए थे। यदि यह 8 फरवरी को नहीं होता है, तो चुनाव 14 फरवरी को हो जाएंगा।”

बता दें कि, चुनाव आयोग ने सोमवार (6 जनवरी) को घोषणा की थी कि 70 सीटों वाली दिल्ली विधानसभा के चुनाव 8 फरवरी को होंगे और मतदान 11 फरवरी को होंगे। मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा कि चुनाव की अधिसूचना 14 जनवरी को जारी की जाएगी, जबकि उम्मीदवारों द्वारा नाम वापस लेने की अंतिम तिथि 24 जनवरी होगी।

दिल्ली में मुख्य मुकाबला आम आदमी पार्टी (आप) और केंद्र में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के बीच है। हालांकि, कांग्रेस की स्थिति भी पिछले चुनाव के मुकाबले मज़बूत लग रही है। बता दें कि, 2015 में हुए दिल्ली विधानसभा चुनावों में आम आदमी पार्टी (आप) को रिकॉर्ड जीत मिली थी, आम आदमी पार्टी ने दिल्ली की 70 विधानसभा सीटों में से 67 सीटों पर जीत प्राप्त की थी और 3 सीटों पर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की जीत हुई थी, कांग्रेस एक भी सीट नहीं जीत पाई थी।

हालांकि, 2019 में हुए लोकसभा चुनावों में दिल्ली की सभी सात लोकसभा सीटों पर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की जीत हुई थी और वोट प्रतिशत के लिहाज से कांग्रेस दूसरे नंबर पर पहुंच गई थी जबकि आम आदमी पार्टी (आप) तीसरे नंबर पर खिसक गई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here