पीएम मोदी के एक और ‘तानाशाही’ फरमान पर आलोचना

0

आम आदमी पार्टी के नेता कुमार विश्वास ने आज ट्विीट कर पीएम नरेन्द्र मोदी को घेरते हुए उनके तानाशाही फरमान पर अपनी शायरी चस्पा की। दिखाए गए ट्विीट में एक चित्र सारी कहानी कह रहा है जो किसी अखबार की कटिंग से है।

तस्वीर में दिखाया गया है कि मध्यप्रदेश के शिवपुरी जिले के बिलुपुरा ग्राम में प्रधानमंत्री की ग्रामोदय योजना को जबरदस्ती भाषण के तौर पर सुनवाने के लिये प्रशासनिक तौर पर तानाशाही फरमान जारी कर दिए गए। रिर्पोट के अनुसार ड्रिप चढ़ी हुई बेटी को गोद में लिये महिला सरपंच वासु जाटव पति के साथ्र ग्रामोदय से भारत अभियान पर आयोजित कार्यक्रम में हिस्सा लेने जा रही है।

11

क्योंकि पंचायत सचिव ने नहीं आने पर सरपंच पद से हटाने की धमकी दी है। कहा कि 3 बजे मोदी का लाइव भाषण आएगा। इसलिये पहंुचना जरूरी है। जिला चिकित्सालय में वासु की बेटी का इलाज चल रहा था। उल्टी और दस्त से पीडि़त छोटी बच्ची वासु मां के साथ भी दोपहरी में उस भाषण को सुनने जा रही है। जब सचिव रामलाल से इस बाबत पुछा गया तो उन्होंने कहा कि मैने तो औपचारिक निमंत्रण भेजा था।

कुमार विश्वास ने इस शाही फरमान के विरोध में अपना शेर लिखते हुए कहा कि-
साहिब ए वक्त ने ये हुक्म किया है जारी
अपनी नस्लों से कहो मेरे मुताबिक सोचें

आपको बता दे कि इससे पहले भी हमने जनता के रिपोेर्टर पर खबर चलाई थी कि अम्बेडकर जंयति के मौके पर प्रधानमंत्री की मउ रैली के लिये अनिवार्य रूप से जिले के प्रत्येक कालेज से 100-100 छात्र लाने के लिये आदेश जारी किया था जिस पर बाद में अधिकारियों ने ये कहकर पल्ला झाड़ लिया था कि ये केवल एक औपचारिक आदेश था कोई किसी पर अनिवार्य रूप से नहीं थोपा गया था।

LEAVE A REPLY